दो-तिहाई लोग आवेश में करते हैं आत्महत्या

आत्महत्या – दो-तिहाई लोग आवेश में करते हैं आत्महत्या, तनाव हो तो अपनों से बात करें रत में करीब दो तिहाई लोग आवेश में आत्महत्या करते हैं, इन्हें पहले से कोई भी मानसिक रोग नहीं होता है, जबकि दूसरे देशों में आत्महत्या करने वालों में मानसिक रोगी ज्यादा होते हैं। ऐसे लोगों की भावनाओं को समझ और उनकी बातें ध्यान से सुनने मात्र से ऐसी घटनाएं कम की जा सकती हैं। ऐसे लोगों की पहचान करें, उनकी बातें सुनें।

आत्महत्या
आत्महत्या
  • छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा?
  • गुस्से का इजहार करें।
  • पंचिंग बैग पर गुस्सा न निकालें।
  • तीन बार गहरी सांसें लें।
  • गुस्से के पैटर्न को समझें।
  • इसके लक्षणों को पहचानें।
  • खुद को चुटकी काटें।
  • गुस्सा आए तो ठहाके लगाएं।

आत्महत्या – देर रात जागने से बढ़ती है समस्या

अक्सर देखा गया है कि जिनमें आत्महत्या के विचार आते हैं। वे अलग-थलग रहने लगते हैं। देर रात तक जागते हैं। नींद पूरी नहीं करते हैं। मोबाइल या कम्प्यूटर देर तक देखते हैं। कोई नशा करने लगते हैं। दिनचर्या पर ध्यान नहीं देते हैं। इसे अन-हैल्दी कोपिंग स्ट्रेटजी कहते हैं। इनसे आत्महत्या के विचार और बढ़ने लगते हैं। इनसे बचें।

सामान्य व्यक्ति कर सकता है मदद – आत्महत्या

आत्महत्या के विचार आना दोष नहीं है। इसका यह भी अर्थ नहीं है कि संबंधित का मानसिक संतुलन बिगड़ गया या वह पागल हो गया है। या फिर मानसिक रूप से कमजोर है। इसका केवल यह अर्थ है कि संबंधित व्यक्ति अधिक कष्ट में है। ऐसे में कोई व्यक्ति केवल उसकी बातों को संवेदना के साथ सुन ही ले तो भी उसकी मदद हो सकती है। साथ ही उसकी भड़ास भी निकल जाती है।

युवा महिलाएं आत्महत्या अधिक

आंकड़ों की बात करें तो विदेशों में अधिक उम्र के लोगों में आत्महत्या की प्रवृत्ति है, जबकि भारत में 20-30 वर्ष के युवा सबसे ज्यादा आत्महत्या करते हैं। अपने देश में युवा पुरुषों की तुलना में युवतियों की संख्या 2-3 गुना तक ज्यादा है।

आत्महत्या प्रमुख कारण

डिप्रेशन, नशा या दूसरे मानसिक कारण आत्महत्या के एक तिहाई मामलों के लिए जिम्मेदार हैं। वहीं आवेश, बात न मानना, किसी वस्तु की चाहत, ब्रेकअप, परीक्षा में विफलता, बिजनेस में नुकसान, पारिवारिक कलह भी कारण हैं।

जरूरी नहीं है कि आप निष्कर्ष ही दें

अगर आपको नहीं लगता है कि पीड़ित व्यक्ति को कोई अच्छी सलाह दे सकते हैं तो बेशक सलाह न दें। हर बार जरूरी नहीं होता है कि पीड़ित को सलाह चाहिए। ऐसे में उसकी बातों को सुनें और भरोसा दिलाएं कि आने वाले दिनों में अच्छा होगा।

ऐसे पाएं गुस्से पर काबू

खुद को शांत करने व गुस्से पर नियंत्रण के लिए उस दृश्य के बारे में सोचें जब आप गुस्से में थे। तब आपने गुस्से में क्या कहा था? जितनी बार भी आप उस सीन के बारे में सोचेंगे, आपको खुद अपने बारे में विभिन्न प्रतिक्रियाएं मिलेंगी। अगली बार जब आप वैसी ही स्थिति में होंगे और क्रोध की दहलीज पार करने ही वाले होंगे, उनमें से कोई न कोई घटना आपको याद आएगी और आप बेहतर तरीके से घटना से निपट पाएंगे।

छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा?

  1. गुस्से का इजहार करें।
  2. पंचिंग बैग पर गुस्सा न निकालें।
  3. तीन बार गहरी सांसें लें।
  4. गुस्से के पैटर्न को समझें।
  5. इसके लक्षणों को पहचानें।
  6. खुद को चुटकी काटें।
  7. गुस्सा आए तो ठहाके लगाएं।

हैल्दी कोपिंग स्ट्रेटजी अपनाएं

आत्महत्या के विचारों से हैल्दी कोपिंग स्ट्रैटजी अपनाने से न केवल गलत विचार दूर होते हैं, बल्कि सकारात्मक सोच भी विकसित होती है। अगर किसी को आत्महत्या जैसे विचार आ रहे हैं तो अपने मित्रों-परिजनों से बात करें। उनसे अपनी समस्याएं साझा करें। फिजिकल एक्टिविटी जरूर करें। कुछ क्रिएटिव करें। अपने शौक को समय दें। पर्याप्त नींद लें। पोषण वाला फूड समय से खाएं और तनाव वाले कारणों से दूरी बनाकर रहें।

&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&&

गुस्से-आवेश के समय क्या करें

  • गहरी सांस लें और धीरे-धीरे छोडे़ं। साथ ही सांस पर भी ध्यान लगा सकते हैं। ऐसा कम से कम तीन बार जरूर करें।
  • गुस्सा आए तो थोड़ी देर के लिए आंखें बंदकर बैठ जाएं।
  • अपना मन पसंद गाना सुनें।
  • अपने किसी भरोसेमंद दोस्त से बात करें।
  • इन शब्दों से खुद को शांत करें।
  • कुछ समय अकेले बिताएं।
  • टहलना शुरू कर दें और अच्छी नींद लें।
  • उल्टी गिनती करना भी मदद करेगा। उल्टी गिनती गिनने से आपको अपने गुस्से को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

सीखें आत्मनियंत्रण का हुनर

अचानक क्रोध आने या फिर कुछ दिनों से तुनकमिजाज होने और गुस्सा करने के थोड़ी देर बाद ही शांति और पश्चाताप से मन भर जाता है। तो इस स्थिति में अपने दिमाग में एक बड़े बोर्ड पर लिखे स्टॉप की कल्पना करें। अगर यह मुश्किल हो तो हाथ में एक रबर बैंड पहनें। जब भी गुस्सा लिमिट पार करने वाला हो, बैंड को देखें और खुद को कंट्रोल करने की कोशिश करें। खुद से पूछें कि जो गुस्सा आप दिखाने वाले हैं वो सही है या नहीं।


आत्महत्या तथ्य

  • संयुक्त राज्य अमेरिका में हर साल 30,000 से अधिक लोग आत्महत्या से मरते हैं
  • संयुक्त राज्य अमेरिका में आत्महत्या मौत का 11वां प्रमुख कारण है
  • संयुक्त राज्य अमेरिका में हर 16 मिनट में कोई न कोई आत्महत्या से मरता है
  • आत्महत्या से मरने वाले सभी लोगों में से 90% लोगों की मृत्यु के समय मनोरोग निदान होता है; प्रमुख अवसाद मनोरोग निदान है जो आमतौर पर आत्महत्या से जुड़ा होता है
  • संयुक्त राज्य अमेरिका में आत्महत्या की दर सर्दियों में सबसे कम और वसंत में सबसे ज्यादा होती है
  • पश्चिमी राज्यों में आत्महत्या की दर राष्ट्रीय औसत से अधिक है, जबकि पूर्वी और मध्य पश्चिमी राज्यों में राष्ट्रीय औसत से कम है
  • पुरुषों में आत्महत्या की दर श्वेत पुरुषों में सबसे अधिक है, इसके बाद अमेरिकी भारतीय और मूल निवासी अलास्का पुरुष हैं
  • अफ्रीकी अमेरिकी महिलाओं में आत्महत्या की दर विशेष रूप से कम है
  • 15 से 24 वर्ष की आयु के युवाओं में मृत्यु का तीसरा प्रमुख कारण आत्महत्या है और किसी भी अन्य आयु वर्ग की तुलना में बुजुर्गों में आत्महत्या की दर अधिक है।
  • प्रत्येक पूर्ण महिला आत्महत्या के लिए, चार पूर्ण पुरुष आत्महत्याएं होती हैं
  • प्रतिदिन लगभग 80 अमेरिकी अपनी जान लेने में सफल होते हैं
  • आग्नेयास्त्र आत्महत्या का सबसे आम तरीका है
  • किसी प्रियजन को खोने के आघात के अलावा, आत्महत्या से मरने वाले व्यक्तियों के परिवार के सदस्यों को आत्महत्या और भावनात्मक समस्याओं के लिए अधिक जोखिम होता है।

आत्महत्या के प्रयास

  • आत्महत्या के प्रयास वास्तविक आत्महत्याओं की तुलना में बहुत अधिक बार होते हैं
  • ऐसा अनुमान है कि हर साल करीब 1,000,000 लोग आत्महत्या का प्रयास करते हैं
  • आत्महत्या के प्रयास आत्महत्या पूर्ण होने के लिए सबसे बड़ा जोखिम कारक हैं
  • पुरुषों की तुलना में दोगुनी महिलाएं आत्महत्या का प्रयास करती हैं
  • आत्महत्या के प्रयासों के प्रमुख जोखिम कारकों में अवसाद, मादक द्रव्यों के सेवन, निराशा, घरेलू हिंसा और आघात का बचपन का इतिहास शामिल हैं
  • आत्महत्या के प्रयास को मदद की पुकार के रूप में देखा जाना चाहिए

आत्महत्या के हस्तक्षेप 

  • आत्महत्या करने वाले लोगों के लिए अच्छे हस्तक्षेप हैं
  • सुसाइड हॉटलाइन 24/7/365 सुनने के लिए कान, समर्थन और सलाह प्रदान करने के लिए उपलब्ध हैं
  • व्यक्ति, समूह, या जोड़े/पारिवारिक परामर्श लोगों को उनके आत्मघाती विचारों और भावनाओं से जुड़े तनावों से निपटने में सहायता कर सकते हैं
  • अगर लोग उदास या चिंतित हैं या अन्य मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं हैं, तो लोग आत्महत्या करने का अनुभव करते हैं तो दवा सहायक हो सकती है
  • परिवार के सदस्य जिन्होंने आत्महत्या के लिए किसी प्रियजन को खो दिया है, वे बचे लोगों के लिए दु: ख चिकित्सा और सहायता और समर्थन समूहों से लाभान्वित हो सकते हैं
  • यदि आपको सहायता चाहिए तो सहायता लें

आत्महत्या के लिए जोखिम कारक

  • मानसिक बीमारी का इतिहास, विशेष रूप से अवसाद
  • शराब और अन्य मादक द्रव्यों के सेवन विकारों का इतिहास
  • निराशा और लाचारी की भावना
  • आवेगी या आक्रामक प्रवृत्तियाँ
  • आघात या दुर्व्यवहार का इतिहास
  • शारीरिक बीमारी
  • पिछले आत्महत्या के प्रयास
  • आत्महत्या का पारिवारिक इतिहास
  • हानि (प्रियजन, संबंध, सामाजिक, कार्य या वित्तीय)
  • घातक तरीकों तक आसान पहुंच
  • आत्महत्या की स्थानीय महामारी
  • मित्रों और परिवार से सीमित समर्थन
  • अलगाव, दूसरे लोगों से कट जाने का अहसास
  • आत्मघाती विचार
  • मुकाबला करने के लिए सीमित प्रभावी रणनीतियाँ
  • सांस्कृतिक और धार्मिक विश्वास; उदाहरण के लिए, यह विश्वास कि आत्महत्या एक व्यक्तिगत दुविधा का एक अच्छा समाधान है
  • घरेलू हिंसा
  • मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े कलंक के कारण मदद लेने की अनिच्छा
  • मानसिक स्वास्थ्य उपचार तक पहुंचने में बाधाएं

आत्महत्या के लिए सुरक्षात्मक कारक 

  • पारिवारिक सहयोग
  • दोस्तों, सहकर्मियों, शिक्षकों, मालिकों, धार्मिक नेताओं, साथी मंडलियों से सामुदायिक समर्थन
  • समस्या समाधान, संघर्ष समाधान और विवादों के अहिंसक प्रबंधन में कौशल
  • सांस्कृतिक और धार्मिक मान्यताएँ जो जीवन को महत्व देती हैं
  • मदद लेने की इच्छा
  • मदद मांगने के लिए विभिन्न प्रकार के नैदानिक ​​हस्तक्षेपों और सहायता के लिए आसान पहुंच
  • चल रहे चिकित्सा और मानसिक स्वास्थ्य देखभाल संबंधों से समर्थन
  • मानसिक, शारीरिक और मादक द्रव्यों के सेवन की समस्याओं के लिए प्रभावी नैदानिक ​​देखभाल
  • आत्महत्या के अत्यधिक घातक साधनों तक सीमित पहुंच

Note- ये तथ्य अमेरिकन फाउंडेशन फॉर सुसाइड प्रिवेंशन http://www.afsp.org से लिए गए हैं । http://www.cdc.gov/ncipc/factsheets/suifacts.htm पर नेशनल सेंटर फॉर इंजरी प्रिवेंशन एंड कंट्रोल , और अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ सुसाइडोलॉजी www.suicidology.org पर । 

Leave a Comment

error: Content is protected !!