टोमेटो फ्लू: बच्चों को लेकर डरें नहीं, जागरूक बनें

टोमेटो फ्लू: बच्चों को लेकर डरें नहीं यह करे :-

टोमेटो फ्लू: बच्चों को लेकर डरें नहीं, जागरूक बनें
टोमेटो फ्लू: बच्चों को लेकर डरें नहीं, जागरूक बनें

 
 

केरल में आ रहे टोमेटो फ्लू के मामलों को लेकर डरें नहीं, बल्कि जागरूकता के साथ बच्चों को किसी भी संक्रमण से बचा सकते हैं। ये मामले 5 साल से छोटे बच्चों में आ रहे हैं। टमाटर से न करें परहेज: इस बुखार का नाम टमाटर के नाम पर पड़ा है, लेकिन टमाटर से इसका लेना-देना नहीं है। शरीर पर टमाटर के रंग और आकार के रेशे पड़ने से इसे टोमेटो फ्लू कहा जा रहा है।

हाइजीन पर ध्यान दें: बच्चों में हाइजीन का विशेष खयाल रखें व सफाई पर ध्यान दें। बच्चे स्कूल जा रहे हों तो उन्हें प्रॉपर हैंड हाइजीन सिखाएं। उनके आहार, दिनचर्या पर खास नजर रखें। उन्हें ताजा व गर्म आहार दें और शारीरिक अभ्यास करवाएं। हल्का व मौसमी आहार दें।

ये हैं लक्षण: इसके लक्षण भी अन्य वायरल संक्रमण के समान ही हैं। इसमें तेज बुखार, शरीर में दर्द, जोड़ों में दर्द, थकान, मितली, उल्टी-दस्त, बुखार, डिहाइड्रेशन, जोड़ों व शरीर में सूजन जैसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं। ये लक्षण चिकनगुनिया के समान ही हैं। लेकिन खुद से उपचार न करें।

एहतियात बरतें: बच्चे को बुखार हो तो उसे अलग रखें। साथ ही उसकी चीजें भी अलग कर दें। उसे स्कूल न भेजें। घर के आसपास पानी न भरे, ताकि मच्छर न पनपें।


 

Leave a Comment

error: Content is protected !!