भारत के मौसम पर निबंध » Bharat ke Mausam par nibandh

Rate this post

आज हम भारत की ऋतुओं पर निबंध पढ़ेंगे । किसी क्षेत्र का मौसम उस क्षेत्र का औसत मौसम होता है, जो उस क्षेत्र को एक निश्चित समय पर प्रभावित करता है। भारतीय मौसम चक्र को छह अवधियों में विभाजित किया गया है। वे एक दूसरे के लिए पूरी तरह से असमान हैं। ग्रीष्म, वर्षा, शरद, हेमंत, शिशिर और वसंत भारत के छह प्रमुख मौसम हैं। महान कवि कालिदास द्वारा रचित ऋतु-सम्हार में भारत की ऋतुओं का बहुत ही सुंदर दार्शनिक वर्णन मिलता है।

भारत में ऋतुओं पर लघु और दीर्घ निबंध

भारत के मौसम पर निबंध » Bharat ke Mausam par nibandh
भारत के मौसम पर निबंध » Bharat ke Mausam par nibandh

भारत के मौसम पर निबंध – 1 (300 शब्द)

परिचय

पृथ्वी के अपनी धुरी पर लगातार घूमने के कारण दिन और रात की घटना होती है। साथ ही, जैसे-जैसे पृथ्वी सूर्य के चारों ओर घूमती है, ऋतुएँ बदलती हैं। जिससे हम सभी को गर्मी, बारिश और ठंड का अनुभव होता है।

वर्षों से हो रहे ऋतुओं के परिवर्तन के कारण मनुष्य और जानवर अपने आप को इसके अनुकूल बना चुके हैं। फिर भी एक प्राकृतिक शक्ति के रूप में, ऋतुओं के परिवर्तन का हमारे जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है।

भारत में ऋतु परिवर्तन

  • मई-जून के सूरज की गर्मी (पृथ्वी) और गर्म हवाओं (लू) से लोग परेशान हो जाते हैं। आसमान छूते तापमान के कारण पक्षियों के लिए पेड़ पर पानी रखा जाता है और जगह-जगह सड़क किनारे यात्रियों के लिए पानी की भी व्यवस्था की जाती है.
  • बरसात का मौसम शुरू होने के साथ ही कई इलाकों में मूसलाधार बारिश के कारण नदियों का जलस्तर इस तरह बढ़ जाता है कि गांवों के गांवों को खाली करना पड़ता है और शहर भी इससे अछूते नहीं रह पाते हैं. वहीं, बारिश की एक बूंद नहीं होने से कई जगह शुष्क बनी हुई है। इससे मानव जीवन और सभी जानवर बहुत प्रभावित होते हैं।
  • सर्दी के आगमन के साथ सर्दी का आना व्यक्ति को सुखद अहसास कराता है, लेकिन समय बीतने के साथ सर्दी के मौसम की सर्दी व्यक्ति के लिए बहुत कष्टदायक हो जाती है। ऐसे में घर से बाहर निकलना एक बड़ी चुनौती नजर आ रही है. सड़क के किनारे बैठे भिखारियों और जिन जानवरों के पास कोई नहीं है उनकी पीड़ा का अंदाजा लगाना बहुत मुश्किल है।
निष्कर्ष

जब से पृथ्वी अस्तित्व में आई है, तब से पृथ्वी पर ऋतुओं के परिवर्तन की घटना होती रही है। यह मनुष्यों के साथ-साथ जीव-जंतुओं, वनस्पतियों और जीवों को भी प्रभावित करता है।

भारत के मौसम पर निबंध – 2 (400 शब्द)

भारत के मौसम पर निबंध » Bharat ke Mausam par nibandh
भारत के मौसम पर निबंध » Bharat ke Mausam par nibandh

परिचय

भारत दुनिया के खूबसूरत देशों में से एक है। इसकी सुंदरता का मुख्य कारण प्रकृति प्रदत्त वातावरण और समय-समय पर बदलते मौसम हैं। पृथ्वी के अपनी धुरी पर पश्चिम से पूर्व की ओर घूमने और सूर्य की परिक्रमा करने के परिणामस्वरूप बारह महीनों में ऋतुएँ छह बार बदलती हैं।

भारत के मौसमों का विवरण

गर्मी  का मौसम

भारतीय कैलेंडर के अनुसार, वर्ष की शुरुआत चैत्र महीने से होती है, और भारत में ऋतुओं का चक्र भी चैत्र (मार्च-अप्रैल) के ग्रीष्म (गर्मी) महीने में शुरू होता है। गर्मियों के शुरुआती दिनों में जहां हवा के माध्यम से खुशी होती है, वहीं कुछ समय बाद बढ़ती गर्मी के कारण स्कूल बंद कर दिए जाते हैं। इसके बाद भी गर्मी का मौसम परिवार और दोस्तों के साथ पिकनिक मनाने और कहीं दूर छुट्टी पर जाने का सुखद आनंद देता है।

बरसात का  मौसम

भीषण गर्मी के कारण तालाब, नदियां, कुएं और धरती सूख चुकी थी। बारिश की वजह से ये सभी अब हरे हो गए हैं। बरसात के मौसम में चारों तरफ हरियाली होती है।

पतझड़ का  मौसम

अब आसमान का नीला रंग साफ देखा जा सकता है। सफेद बादल आपस में खेलते नजर आते हैं। इस मौसम में फल और कई तरह के फूल खिलते हैं, इसके साथ ही किसान द्वारा लगाए गए धान का उत्पादन भी शुरू हो जाता है। सुबह-सुबह घास पर ओस की बूंदें जीवन में नई ऊर्जा भर देती हैं। शरद को कवियों द्वारा “शरद सुंदरी” भी कहा जाता है।

हेमंत रितु (  पूर्व शीतकालीन मौसम)

हेमंत के मौसम में सर्दी शुरू हो जाती है लेकिन अभी इतनी ठंड नहीं लगती है। इस सर्दी में खुशनुमा मौसम होता है।

सर्दी  का मौसम

सर्दियों में ठंड अपने चरम पर रहती है। जिससे कई दिनों तक धूप का पता नहीं चलता, दूर-दूर तक फैले धुंध के कारण लोगों का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है। यह उत्तरी गोलार्ध से दक्षिणी गोलार्ध में सूर्य की गति के कारण है।

वसंत  ऋतु

अंत में बसंत का मौसम आता है, वसंत को ऋतुओं का राजा और वसंत का दूत भी कहा जाता है। यह मौसम न ज्यादा गर्म होता है और न ही ज्यादा ठंडा। इस मौसम में सर्दी के मौसम में पेड़ों से गिरने वाले पत्तों की टहनियों पर नए पत्ते उगने लगते हैं। कहा जाता है कि वसंत ऋतु में फूल, पेड़, नदियां और तालाब सुगंध से भर जाते हैं।

निष्कर्ष

ऋतुओं में परिवर्तन पृथ्वी के घूर्णन के परिणामस्वरूप देखा जाता है। हर मौसम एक दूसरे से अलग होता है लेकिन सभी में प्रकृति पर अपना प्रभाव डालने की क्षमता होती है।

भारत के मौसम पर निबंध – 3 (500 शब्द)

भारत के मौसम पर निबंध » Bharat ke Mausam par nibandh
भारत के मौसम पर निबंध » Bharat ke Mausam par nibandh

परिचय

वायुमण्डल में समय-समय पर मुख्यतः तीन प्रकार की ऋतुएँ पायी जाती हैं। जिसमें गर्मी, सर्दी और बारिश प्रमुख हैं, लेकिन कभी अधिक गर्मी होती है और कभी सामान्य होती है, ठंड के साथ भी ऐसी ही स्थिति पाई जाती है। इस कारण इन्हें छह भागों में बांटा गया है।

जलवायु परिवर्तन के प्रमुख कारण

ग्रीष्म ऋतु –  जब सूर्य भूमध्य रेखा से कर्क रेखा की ओर गति करता है, इसके परिणामस्वरूप भारत में ग्रीष्म ऋतु का आगमन होता है। इसके साथ ही उत्तर से दक्षिण की ओर तापमान भी बढ़ता है। इससे पूरा देश गर्मी से तप रहा है। मई-जून के महीने में उत्तर पश्चिम (राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब) का तापमान बढ़कर 47 डिग्री सेल्सियस हो गया। (47    सी) बन जाता है। वहीं, उत्तर भारत के शुष्क भागों में दोपहर के समय गर्म हवाएं चलती हैं, जिन्हें ‘लू’ कहा जाता है। भारत समेत उत्तरी गोलार्ध में पड़ने वाले सभी देशों में 21 जून का दिन अन्य दिनों की तुलना में सबसे लंबा होता है। इसका कारण यह है कि जब सूर्य कर्क रेखा से गुजरता है तो सूर्य की किरणें उत्तरी गोलार्ध पर लंबवत पड़ती हैं।

गर्मी का उपहार –  गर्मी के मौसम में तेज गर्मी के कारण बरसात के मौसम में अधिक बारिश होती है, जिससे किसान की फसलों का उत्पादन बढ़ जाता है।

भारत के मौसम पर निबंध » Bharat ke Mausam par nibandh
भारत के मौसम पर निबंध » Bharat ke Mausam par nibandh

सर्दी –  भूमध्यसागरीय क्षेत्र से उत्पन्न होने वाला शीतोष्ण चक्रवात पाकिस्तान और इराक को पार करके भारत में प्रवेश करता है। जिसके कारण जम्मू-कश्मीर, पश्चिमी पंजाब आदि क्षेत्रों में हल्की बारिश के साथ सर्दी का मौसम आता है। उत्तरी भारतीय क्षेत्रों में बारिश और बर्फबारी के कारण सर्दी का मौसम अपने चरम पर पहुंच जाता है। भारत में सर्दी का मौसम 15 दिसंबर से 15 मार्च तक होता है। खगोलीय कारणों से पृथ्वी पर सूर्य के प्रकाश की अनुपस्थिति के कारण 21 दिसंबर का दिन वर्ष का सबसे छोटा दिन होता है।

जाड़े के मौसम की शोभा  ,  रात में चांद की चांदनी ने सारी दुनिया को जगमगा दिया और दिन में तालाब में लगे फूल फूलों पर बैठ कर पतझड़ की शोभा बढ़ा देते हैं।

वर्षा ऋतु –  भारत में दक्षिण-पश्चिम मानसूनी हवाओं के प्रवाह के कारण पूरे देश में वर्षा होती है। दक्षिण से बहने वाली हवाएं बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से गुजरते हुए समुद्र की नमी को सोख लेती हैं। यह जहां भी पहाड़ों से टकराता है, बारिश होती है। यही कारण है कि राजस्थान में वर्षा नहीं होती है, क्योंकि राजस्थान में एक भी पर्वत श्रंखला नहीं है। बंगाल की खाड़ी के ऊपर हवा के माध्यम से उठने वाली नमी गारो-खासी पर्वतों से टकराती है और मेघालय के मासिनराम और चेरापूंजी के गांवों में दुनिया में सबसे ज्यादा बारिश का कारण बनती है। इस गांव में रहने वाले लोग कभी भी बिना छाते के घर से बाहर नहीं निकलते हैं और घने बादल का खूबसूरत नजारा हम पास से ही देख सकते हैं।

बारिश के आगमन के साथ ही  चारों ओर हरियाली छा जाती है। बारिश के मौसम में प्रकृति की सबसे खूबसूरत प्रकृति को देखने का आनंद मिलता है।

निष्कर्ष

ऋतुओं में परिवर्तन पृथ्वी की विभिन्न भौगोलिक गतिविधियों के परिणामस्वरूप देखा जाता है। पुरापाषाण काल ​​(जब मानव जाति अस्तित्व में आई) से पहले ऋतुओं के परिवर्तन के प्रमाण मिलते हैं, तो इससे यह स्पष्ट होता है कि ऋतुओं का परिवर्तन प्राकृतिक घटनाओं से होता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

भारत के मौसम पर निबंध » Bharat ke Mausam par nibandh
भारत के मौसम पर निबंध » Bharat ke Mausam par nibandh

प्रश्न 1 – ऋतु क्या है ?

उत्तर-ऋतु वर्ष की एक निश्चित अवधि है जिसमें मौसम के विभिन्न रूप देखने को मिलते हैं।

प्रश्न 2 – ऋतुएँ कितने प्रकार की होती हैं ?

उत्तर- ऋतुएँ 6 प्रकार की होती हैं- ग्रीष्म, शरद, वर्षा, हेमंत, शिशिर और बसंत।

प्रश्न 3 – हेमंत ऋतु कितने समय तक चलती है ?

उत्तर – हेमंत ऋतु की अवधि नवंबर के अंतिम सप्ताह से जनवरी के दूसरे सप्ताह तक रहती है।

प्रश्न 4 – शीत ऋतु क्या है ?

उत्तर- शीत ऋतु को पतझड़ का मौसम भी कहते हैं, जिसमें कड़ाके की ठंड पड़ती है।

प्रश्न 5 – शरद ऋतु किस महीने में आती है?

उत्तर- शरद ऋतु आश्विन और कार्तिक मास में आती है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!