मोबाइल फोन पर निबंध » Mobile phone par nibandh

5/5 - (1 vote)

आइए दोस्तों आज हम मोबाइल फोन पर निबंध के बारे में जानेंगे। मोबाइल फोन आज के जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है। हमारा दिन भी मोबाइल फोन से शुरू और खत्म होता है। बड़े और बच्चे भी इसके आदी हो गए हैं। आज के माता-पिता भी छोटे बच्चों की परेशानी से बचने के लिए उनके हाथ में फोन रखते हैं, वही बच्चों की आदत हो जाती है। जो कतई सही नहीं है।

Contents show

मोबाइल फोन पर लघु और लंबा निबंध

मोबाइल फोन पर निबंध
मोबाइल फोन पर निबंध

मोबाइल फोन पर निबंध -1 (300 निबंध): पहले फोन का आविष्कार

प्रस्तावना

मोबाइल फोन को अक्सर “सेलुलर फोन” के रूप में भी जाना जाता है। यह मुख्य रूप से वॉयस कॉल के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला डिवाइस है। वर्तमान में तकनीकी प्रगति ने हमारे जीवन को आसान बना दिया है। आज मोबाइल फोन की मदद से हम दुनिया भर में किसी से भी आसानी से बात कर सकते हैं या वीडियो चैट कर सकते हैं।

पहला फोन

1973 से पहले, मोबाइल टेलीफोनी कारों और अन्य वाहनों में स्थापित फोन तक ही सीमित थी। मोटोरोला हैंडहेल्ड मोबाइल फोन बनाने वाली पहली कंपनी थी। 3 अप्रैल, 1973 को,  मोटोरोला के एक शोधकर्ता और कार्यकारी मार्टिन कूपर  ने अपने प्रतिद्वंद्वी बेल लैब्स के डॉ. जोएल्स एंगेल को हैंडहेल्ड सब्सक्राइबर डिवाइस से पहला मोबाइल टेलीफोन कॉल किया।

डॉ कूपर द्वारा इस्तेमाल किए गए प्रोटोटाइप हैंडहेल्ड फोन का वजन 1.1 किलोग्राम था और इसका माप 23x13x4.5 सेमी (9.1×5.1×1.8 इंच) था। प्रोटोटाइप ने सिर्फ 30 मिनट का टॉकटाइम दिया और रिचार्ज करने में 10 घंटे का समय लगा।

fun-hindi.com

जॉन एफ मिशेल, मोटोरोला के प्रमुख पोर्टेबल संचार उत्पाद, और कूपर के बॉस ने मोबाइल टेलीफोन उपकरणों के विकास को चलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। चूंकि मिशेल मोटोरोला के लिए वायरलेस संचार उत्पादों को विकसित करने में विफल रहा। लेकिन उनकी दूरदर्शी सोच ने आज के आधुनिक फोन की नींव रखी।

Read also:

नई तकनीक तरंगों या पीढ़ियों की एक श्रृंखला में विकसित और लुढ़की है। “जेनरेशन” शब्द का व्यापक रूप से उपयोग केवल 3G के लॉन्च होने पर किया जाता है, लेकिन अब इसका उपयोग पहले के सिस्टम के संदर्भ में पूर्वव्यापी रूप से किया जाता है।

उपसंहार

आज मोबाइल फोन विभिन्न आकार और आकार में उपलब्ध हैं, विभिन्न तकनीकी विशेषताएं हैं और कई उद्देश्यों के लिए उपयोग किए जाते हैं। जैसे – वॉयस कॉलिंग, वीडियो चैटिंग, टेक्स्ट मैसेजिंग, इंटरनेट ब्राउजिंग, ईमेल, वीडियो गेम और फोटोग्राफी आदि। इसलिए इसे ‘स्मार्ट फोन’ कहा जाता है।

मोबाइल फोन पर निबंध – 2 (400 शब्द): मोबाइल फोन के लाभ

मोबाइल फोन पर निबंध
मोबाइल फोन पर निबंध

प्रस्तावना

आजकल फोन ने आदमी के सभी जरूरी काम संभाल लिए हैं। व्यस्ततम व्यक्ति भी फोन का उपयोग करने के लिए समय निकालता है। आजकल व्हाट्सएप, फेसबुक ने इतनी बुरी आदत बना ली है कि हर दो मिनट में हर कोई व्हाट्सएप चेक करता रहता है। अगर आप फ्री हैं तो यह आपका बेस्ट टाइम बिताने का जरिया बन जाएगा।

मोबाइल फोन के फायदे

1) हमें जोड़े रखता है

अब हम कई ऐप के जरिए अपने दोस्तों, रिश्तेदारों से कभी भी जुड़ सकते हैं। अब हम अपने मोबाइल फोन या स्मार्टफोन को ऑपरेट करके किसी से भी वीडियो चैट कर सकते हैं। इसके अलावा मोबाइल हमें पूरी दुनिया के बारे में भी अपडेट रखता है।

2) ऑनलाइन संचार सुविधा

आज मोबाइल फोन ने दैनिक जीवन की गतिविधियों के लिए हमारे जीवन को बहुत आसान बना दिया है। आज, कोई भी मोबाइल फोन पर यातायात की स्थिति का लाइव आकलन कर सकता है और समय पर पहुंचने के लिए उचित निर्णय ले सकता है। इसके साथ ही मौसम की जानकारी, कैब बुकिंग और भी बहुत कुछ।

3) किसी भी समय, कहीं भी सभी के लिए मनोरंजन।

मोबाइल प्रौद्योगिकी में सुधार के साथ, संपूर्ण मनोरंजन जगत अब एक ही उपकरण के अधीन है। जब भी हम नियमित काम से ब्रेक लेना चाहते हैं, हम संगीत सुन सकते हैं, फिल्में देख सकते हैं, अपने पसंदीदा शो देख सकते हैं या पसंदीदा गानों के वीडियो भी देख सकते हैं।

4) कार्यालय के काम का प्रबंधन
मोबाइल फोन पर निबंध
मोबाइल फोन पर निबंध

इन दिनों मोबाइल फोन का उपयोग विभिन्न आधिकारिक उद्देश्यों के लिए किया जाता है। मीटिंग शेड्यूल करने से लेकर दस्तावेज़ भेजने और प्राप्त करने, प्रेजेंटेशन देने, अलार्म देने, नौकरी के लिए आवेदन करने आदि तक। मोबाइल फोन हर कामकाजी व्यक्ति के लिए एक आवश्यक उपकरण बन गया है।

5) मोबाइल बैंकिंग

आजकल मोबाइल का उपयोग भुगतान करने के लिए वॉलेट के रूप में भी किया जाता है। स्मार्टफोन में मोबाइल बैंकिंग का उपयोग करके दोस्तों, रिश्तेदारों या अन्य लोगों को लगभग तुरंत पैसा ट्रांसफर किया जा सकता है। इसके अलावा, कोई भी आसानी से अपने खाते के विवरण देख सकता है और पिछले लेनदेन को जान सकता है। यह बहुत समय बचाता है और इसे परेशानी मुक्त भी बनाता है।

निष्कर्ष

मोबाइल फोन के कई फायदे हैं। यह आधुनिकता का सबसे बड़ा प्रतीक बन गया है। अगर आज किसी के पास मोबाइल फोन नहीं है तो हम उसे बड़े आश्चर्य से देखते हैं। कहते हैं नहीं, अति हर चीज की बुरी होती है। यह मोबाइल फोन के अत्यधिक उपयोग पर भी लागू होता है। अगर इसका इस्तेमाल सावधानी और समझदारी से किया जाए तो यह हमारे लिए हर मामले में फायदेमंद साबित होगा।

मोबाइल फोन पर निबंध – 3 (500 शब्द): मोबाइल फोन के नुकसान

मोबाइल फोन पर निबंध
मोबाइल फोन पर निबंध

प्रस्तावना

मोबाइल फोन हमारे लिए बहुत कुछ करते हैं, पहले वे हमें डेटा स्टोर करने की अनुमति देते हैं। छवियों, पाठ और ऑडियो को मोबाइल फोन पर संग्रहीत किया जा सकता है। यह हमें अपनी फाइलों को कहीं भी कभी भी ले जाने में सक्षम बनाता है। यह सुनिश्चित करता है कि हम हमेशा काम या हमारे निजी जीवन के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेजों के साथ हैं।

मोबाइल फोन के नुकसान

1) समय बर्बाद करना

आजकल लोगों को मोबाइल की लत लग गई है। यहां तक ​​कि जब हमें मोबाइल की आवश्यकता नहीं होती है तब भी हम नेट सर्फ करते हैं, गेम खेलते हैं जो एक वास्तविक लत है। जैसे-जैसे मोबाइल फोन स्मार्ट होते गए, वैसे-वैसे लोग भी।

2) हमें गैर-संचारी बनाना

मोबाइल फोन के व्यापक उपयोग के कारण, बैठक कम और बात करना अधिक हो गया है। अब लोग फिजिकली मिलने से ज्यादा सोशल मीडिया पर चैट या कमेंट करते हैं।

3) गोपनीयता की हानि

अत्यधिक मोबाइल उपयोग के कारण अपनी गोपनीयता खोना एक बड़ी चिंता है। आज कोई भी आपके बारे में केवल आपके सोशल मीडिया अकाउंट्स के माध्यम से ब्राउज़ करके आसानी से आपके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकता है। जैसे आप कहाँ रहते हैं, आपके मित्र और परिवार, आपका व्यवसाय क्या है, आपका घर कहाँ है आदि।

4) पैसे की बर्बादी

जैसे-जैसे मोबाइल की उपयोगिता बढ़ी है, वैसे-वैसे उनकी कीमत भी बढ़ी है। आज लोग स्मार्टफोन खरीदने पर एक बड़ी राशि खर्च कर रहे हैं, जिसे शिक्षा, या हमारे जीवन में अन्य उपयोगी चीजों पर खर्च किया जा सकता है।

5) दुर्घटना की संभावना

इन दिनों हमने देखा है कि लोग सड़कों पर चलते हुए भी फोन में घुसते रहते हैं जो कभी-कभी भीषण हादसों का रूप ले लेता है। कुछ लोग चलते समय सेल्फी क्लिक करते हैं, कुछ लोग कॉल पर, कुछ लोग मैसेज करते रहते हैं। लोगों ने लगातार प्रचार और विभिन्न जागरूकता अभियानों के बाद टेक्स्टिंग और ड्राइविंग के निहितार्थों को महसूस किया है। अब, टेक्स्टिंग और अन्य चीजों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए नए कार्यक्रमों की आवश्यकता प्रतीत होती है।

6) साइबर अपराध का खतरा

आजकल साइबर क्राइम का खतरा काफी बढ़ गया है। आजकल हम अपनी सभी जरूरी जानकारियां अपने फोन में रखते हैं। जब तक फोन साइबर अपराध की चपेट में न आ जाए, तब तक आपकी सारी जानकारी एक ही स्थान पर रखना सुविधाजनक हो सकता है। लेकिन चोरी होने पर ये हमें हर तरह के साइबर अपराधों के प्रति बेहद संवेदनशील बना देते हैं।

7) नोमोफोबिया

नोमोफोबिया आपके मोबाइल फोन के बिना होने या किसी कारण से आपके फोन का उपयोग करने में असमर्थ होने का तर्कहीन डर है, जैसे कि सिग्नल की अनुपस्थिति या बैटरी का डिस्चार्ज होना। यह मोबाइल फोन से संपर्क से बाहर होने के डर को दिया गया नाम है। हालांकि शब्द ‘नोमोफोबिया’ है, कई लोगों का तर्क है कि ‘फोबिया’ सबसे उपयुक्त नहीं हो सकता है; और इसे चिंता विकार कहना अधिक उचित होगा।

निष्कर्ष

एक मोबाइल फोन सकारात्मक और नकारात्मक दोनों हो सकता है। निर्भर करता है कि उपयोगकर्ता इसका उपयोग कैसे करता है। चूंकि मोबाइल हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन गया है। इसे अपने बेहतर जीवन के लिए गलत तरीके से इस्तेमाल करने के बजाय सावधानी से इस्तेमाल करना चाहिए और इसे जीवन में उपयोगी बनाना चाहिए।

मोबाइल फोन पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

मोबाइल फोन पर निबंध
मोबाइल फोन पर निबंध

प्रश्न 1- भारत में मोबाइल फोन की शुरुआत कब हुई थी?

उत्तर देना

प्रश्न 2- दुनिया का सबसे पहला मोबाइल किसने बनाया था ?

उत्तर- 1970 में इंजीनियर मार्टिन कूपर।

प्रश्न 3- भारत का पहला मोबाइल किस कंपनी ने बनाया था ?

उत्तर- मोदी टेल्स्ट्रा।

प्रश्न 4- दुनिया का पहला स्मार्ट मोबाइल फोन किस कंपनी ने बनाया था ?

उत्तर- दुनिया का पहला स्मार्टफोन IBM साइमन ने बनाया था।

Leave a Comment