स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध » svachchh bhaarat abhiyaan par nibandh

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंधगांधी जी हमेशा कहा करते थे कि आजादी से ज्यादा स्वच्छता जरूरी है । इस कथन से हम समझ सकते हैं कि उनके विचार में स्वच्छता कितनी महत्वपूर्ण थी। उन्होंने स्वच्छ और स्वस्थ भारत की कल्पना की थी, जिसे पूरा करने का जिम्मा माननीय प्रधानमंत्री जी ने उठाया। अभी तक इस ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया था।

यह अभियान क्या है  ?

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध » svachchh bhaarat abhiyaan par nibandh
स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध » svachchh bhaarat abhiyaan par nibandh

स्वतंत्रता से पहले गांधीजी ने इसकी अवधारणा की थी, लेकिन आधिकारिक तौर पर इसे 1 अप्रैल, 1999 से शुरू माना जाता है। जब भारत सरकार ने ग्रामीण स्वच्छता और पूर्ण स्वच्छता के लिए आयोगों का गठन किया। जिसे बाद में 2012 में तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने अपनी सहमति देते हुए इस योजना का नाम ‘निर्मल भारत अभियान’ रखा था।

सरकारी आंकड़ों की बात करें तो अब तक करीब 10,19,64,757 घरों में शौचालयों का निर्माण किया जा चुका है. 6,03,055 खुले में शौच मुक्त गांव हो चुके हैं। इसकी श्रेणी में 706 जिले आ गए हैं। 36 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश मिलकर इस अभियान को सफल बना रहे हैं. ‘गांधीजी का चश्मा’ इस अभियान का लोगो (प्रतीक) है। इसे भारत सरकार के जल शक्ति मंत्रालय के तहत पेयजल और स्वच्छता विभाग को सौंपा गया है।

🇷 🇪 🇦 🇩  🇦 🇱 🇸 🇴  :»

प्रधानमंत्री ने पूरे देश से इस अभियान में अधिक से अधिक संख्या में शामिल होने और इसे सफल बनाने की अपील की। पूरे देश ने उनकी बात मानी और यह अभियान एक राष्ट्रव्यापी आंदोलन के रूप में उभरा। प्रधानमंत्री के अनुरोध पर इस मिशन में बड़ी हस्तियों ने हाथ मिलाया। स्वच्छता अभियान के तहत सभी लोग पीएम के साथ सड़कों पर उतरे। पीएम ने झाड़ू लेकर खुद वाराणसी में गंगा किनारे अस्सी घाट की सफाई की.

उपसंहार

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध » svachchh bhaarat abhiyaan par nibandh
स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध » svachchh bhaarat abhiyaan par nibandh

दुनिया में आप जो भी बदलाव देखना चाहते हैं, पहले खुद में लागू करें।” –महात्मा गांधी।

महात्मा गांधी की यह कहावत स्वच्छता पर भी लागू होती है। अगर हमें समाज में बदलाव देखना है तो सबसे पहले हमें खुद में बदलाव लाना होगा। हर कोई दूसरों का रास्ता तलाशता रहता है। और आप पहले कार को आप में छोड़ दें।

स्वच्छता हमारे तन और मन दोनों को स्वस्थ और सुरक्षित रखती है। यह हमें किसी और के लिए नहीं बल्कि अपने लिए करना है। इस जागरूकता को जन-जन तक पहुँचाना है। इसके लिए हमें जमीनी स्तर से काम करना होगा। बच्चों में स्वच्छता की आदत हमें बचपन से ही डालनी होगी। उन्हें सिखाया जाना चाहिए कि कुत्ता भी जहां बैठता है वहां झाड़ू लगाता है। जब जानवरों में स्वच्छता को लेकर इतनी जागरूकता है तो हम इंसान हैं।

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध – 3 (500 शब्द)

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध » svachchh bhaarat abhiyaan par nibandh
स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध » svachchh bhaarat abhiyaan par nibandh

प्रस्तावना

क्या विडम्बना है कि हमारे घर, मोहल्ले आदि को स्वच्छ रखने के लिए हमारी सरकार को अभियान चलाना पड़ रहा है। भारतीय जनता भी गजब की है, अपने काम के लिए भी सरकार का चेहरा देखती है। अगर हमारे घर का आंगन साफ है तो हमारे लिए ही अच्छा होगा, आजकल हम अपने निजी स्वार्थ के लिए भी दूसरों से अपेक्षा करते हैं। इस आदत को बदलना होगा। यह सिर्फ हमारे लिए ही नहीं बल्कि पूरे देश के लिए जरूरी है। इसी को ध्यान में रखते हुए यह अभियान शुरू किया गया है।

स्वच्छ भारत अभियान क्यों शुरू हुआ

2 अक्टूबर 2014 को शुरू हुए इस अभियान का उद्देश्य गांधी जी की 150वीं जयंती 2019 तक भारत को ‘स्वच्छ भारत’ बनाना है। गांधी जी को इससे बेहतर श्रद्धांजलि और क्या हो सकती है कि वे अपने सपनों का भारत देखें। कोई आश्चर्य करता है कि इसकी आवश्यकता क्यों थी। मैंने कई बार देखा है कि लोग अपने घरों में शौचालय होने के बाद भी बाहर निकलते हैं। क्योंकि उन्होंने ऐसी प्रवृत्ति बनाई है। इसी सोच को बदलने के लिए यह आंदोलन शुरू किया गया था। ग्रामीण लोगों की मानसिकता को बदलना एक कठिन कार्य है।

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध » svachchh bhaarat abhiyaan par nibandh
स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध » svachchh bhaarat abhiyaan par nibandh

इसका पहला लक्ष्य भारत को खुले में शौच की प्रवृत्ति से मुक्त करना है। इसके तहत सरकार ने हर गांव में शौचालय का निर्माण कराया। उन्होंने लोगों से इन शौचालयों का उपयोग करने की भी अपील की। बाहर जाने की आदत छोड़ दें। इतना ही नहीं लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए जगह-जगह कैंप भी लगाए जाते हैं, नुक्कड़ नाटकों के जरिए उन्हें इसके फायदों से अवगत कराया जाता है. ग्राम-पंचायतों के माध्यम से सभी घरों में उचित कचरा प्रबंधन की शिक्षा भी दी जाती है। और हर घर में पानी की पाइप लाइन भी बिछा दी गई है। 1.25 अरब की आबादी वाला भारत, उस आबादी का आधे से ज्यादा हिस्सा अभी भी गांवों में रहता है।

आंकड़ों पर नजर डालें तो 2011 की जनगणना के मुताबिक 16.78 करोड़ घरों में करीब 72.2% आबादी गांवों में रहती है. और आपको जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ 5.48 करोड़ घरों में ही शौचालय का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसका मतलब है कि 67 फीसदी घरों में लोग अभी भी इस सुविधा का लाभ नहीं उठाते हैं। पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय द्वारा 2012-13 में किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार, 40% ग्रामीण परिवारों में शौचालय हैं। 60% अभी बाकी है। अगर सरकारी खर्च की बात करें तो 5 साल के लिए अनुमानित राशि 62,009 करोड़ रुपये है और इसमें केंद्र सरकार की ओर से करीब 14,623 करोड़ रुपये की सहायता मिली है.

उपसंहार

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध » svachchh bhaarat abhiyaan par nibandh
स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध » svachchh bhaarat abhiyaan par nibandh

यदि हम अपने घरों के पिछले हिस्से को साफ नहीं रख सकते हैं तो स्वराज बेईमान होगा। प्रत्येक व्यक्ति को अपना स्वयं का सफाईकर्मी होना चाहिए” – महात्मा गांधी

कार्यक्रम के तहत 25 सितंबर 2014 से 31 अक्टूबर 2014 तक केन्द्रीय विद्यालय और नवोदय विद्यालय संगठन में कई स्वच्छता गतिविधियों का आयोजन किया गया जैसे महात्मा गांधी की शिक्षा, स्वच्छता और स्वास्थ्य विज्ञान से संबंधित छात्रों द्वारा स्वच्छता के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा। विषय पर चर्चा, स्वच्छता गतिविधियाँ (कक्षा में, पुस्तकालय, प्रयोगशाला, मैदान, उद्यान, रसोई, शेड की दुकान, खानपान क्षेत्र आदि)। विद्यालय क्षेत्र में स्वच्छता, महान लोगों के योगदान पर भाषण, निबंध लेखन प्रतियोगिता, कला, फिल्म, परिचर्चा, चित्रकला एवं स्वास्थ्य एवं स्वच्छता पर नाटक का मंचन आदि इसके अलावा सप्ताह में दो बार स्वच्छता अभियान चलाया जाएगा जिसमें शिक्षक , छात्र और अभिभावक सभी भाग लेंगे।

निष्कर्ष

हम कह सकते हैं कि हम इस वर्ष के लिए अपने लक्ष्य में काफी हद तक सफल रहे हैं। जैसा कि हम सभी ने कहावत सुनी है ‘स्वच्छता ईश्वर की ओर अगला कदम है’। हम विश्वास के साथ कह सकते हैं कि यदि भारत के लोग इसका प्रभावी ढंग से पालन करते हैं तो आने वाले समय में स्वच्छ भारत अभियान से पूरा देश ईश्वर का धाम बन जाएगा। हमारा कर्तव्य है कि हम एक सच्चे नागरिक बनें, गंदगी न फैलाएं और न फैलने दें। देश को अपने घर की तरह चमकाओ ताकि तुम भी गर्व से कह सको कि तुम एक भारतीय हो।

स्‍वच्‍छ भारत मिशन (ग्रामीण) का उद्देश्‍य दिनांक 02 अक्‍टूबर, 2019 तक स्‍वच्‍छ एवं खुले में शौच मुक्‍त (ODF) भारत की प्राप्‍ति करना। स्‍वच्‍छता, साफ-सफाई तथा खुले में शौच के उन्‍मूलन को बढ़ावा देकर ग्रामीण क्षेत्रों में जीवन की सामान्‍य गुणवत्‍ता में सुधार लाना है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!