भारतीय संविधान पर भाषण 300, 500, 800 और 1000 शब्दों में

आज हम भारतीय संविधान पर भाषण के बारे में पढ़ते हैं। हम सभी को भारतीय होने पर गर्व है। हमारा देश सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। इन 70 सालों में हमने काफी तरक्की की है। इस साल हम सब अपना 71वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं। हमारे संविधान को लागू हुए 71 साल हो चुके हैं। संविधान का अर्थ है कानून की पुस्तक, जिसमें देश को ठीक से चलाने के लिए शासन प्रणाली का हवाला दिया गया है। हमारा संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। 26 जनवरी 1950 को पूरे भारत में संविधान लागू किया गया था। चूंकि इस अवसर पर गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। इस कारण से संविधान पर उल्लेख करना अनिवार्य है। यहां हम संविधान पर बहुत ही आसान और सरल भाषा में कुछ भाषण दे रहे हैं जो इस संबंध में आपकी मदद करेंगे।

भारत के संविधान पर संक्षिप्त और लंबा भाषण

भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan
भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan

भारतीय संविधान पर भाषण – 1

सबसे पहले तो मैं यहां आने वाले सभी विशेष लोगों का स्वागत करता हूं जैसे कि प्रधानाचार्य महोदय, सभी शिक्षक, माता-पिता और उपस्थित बच्चे। हम सभी आज यहां अपना 71वां गणतंत्र दिवस मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं। आज हमारा संविधान 71 साल से लागू है।

आज मैं उन सभी महान योद्धाओं को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। जिनकी वजह से हमें ये आजादी मिली है।

मुझे बहुत खुशी है कि इस शुभ दिन पर मुझे अपनी बात कहने का मौका मिला।

भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को पूरे देश में लागू किया गया था। इसीलिए इस दिन को राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाया जाता है। संविधान को सर्वोच्च दस्तावेज की उपाधि मिली है। देश का शासन कैसे चलाया जाए, यह संविधान में विस्तार से लिखा गया है। देश के नागरिकों के अधिकार और कर्तव्य बताए गए हैं। भारत के लोकतंत्र की बागडोर संविधान द्वारा ही संभाली जाती है। इससे पता चलता है कि हमारा देश ‘राज्यों का संघ’ है। हमारे पास कामकाज की संसदीय प्रणाली है, यानी संसद की सर्वोच्चता। संसद सबसे अच्छी और सबसे महत्वपूर्ण है।

हमारा देश एक स्वतंत्र संप्रभु समाजवादी लोकतांत्रिक गणराज्य है। इसे 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा द्वारा अपनाया गया था और 26 जनवरी 1950 को देश भर में लागू किया गया था। संविधान का अर्थ है कानून द्वारा बनाए गए नियम और सिद्धांत। इनका नियमित रूप से पालन करना होगा। हमारा संविधान दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे व्यापक संविधान है। इसके निर्माण के लिए संविधान सभा का गठन किया गया था। इसका मसौदा तैयार करने के लिए मसौदा समिति का गठन किया गया था, जिसकी अध्यक्षता डॉ भीमराव अंबेडकर ने की थी। इसलिए अंबेडकर को संविधान का जनक कहा जाता है।

इन्हीं पंक्तियों के साथ मैं अपनी बात समाप्त करता हूं।

सब मिलकर कहेंगे- भारत माता की जय, वंदे मातरम।

भारतीय संविधान पर भाषण – 2

भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan
भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan

मुझे बहुत गर्व है कि मेरा जन्म भारत जैसे महान देश में हुआ। हम सभी को भारतीय होने पर गर्व होना चाहिए। मुझे अपार हर्ष हो रहा है, मैं अपने प्राचार्य महोदय का धन्यवाद करता हूँ जिन्होंने मुझे इस योग्य समझा और इस अवसर पर मुझे दो शब्द बोलने का अवसर दिया। सबसे पहले मैं यहां आने वाले सभी विशिष्ट अतिथियों, प्रधानाध्यापक, वर्तमान शिक्षकों, अभिभावकों और छात्रों को बधाई देना चाहता हूं।

हम सभी आज यहां अपना 71वां गणतंत्र दिवस मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं। हमारे देश ने इन 70 वर्षों में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं, लेकिन यह कभी नहीं डगमगाया है। एक मजबूत चट्टान की तरह दृढ़ रहता है। हमारा देश विकास के पथ पर जा रहा है। हाल ही में इसरो के वैज्ञानिकों ने अपना अविश्वसनीय और महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट चंद्रयान 2 लॉन्च किया। मान लीजिए यह सफल नहीं हुआ, लेकिन यह पूरे देश के लिए बड़े सम्मान और गर्व की बात है।

हमारे देश का संविधान दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की किताब है। यह हमारे देश की दिशा तय करता है। यह अब तक का सबसे लंबा संविधान है, जिसे कई देशों के संविधानों के गहन अध्ययन के बाद बनाया गया है। भारत का संविधान सबसे बड़ा लिखित संविधान है। साथ ही, यह भारत को स्वतंत्र संप्रभुता के साथ एक समाजवादी लोकतांत्रिक गणराज्य बनाता है। जब संविधान लागू हुआ, उस समय इसमें 395 अनुच्छेद, 8 अनुसूचियां और 22 भाग थे, लेकिन अब यह बढ़कर 448 अनुच्छेद, 12 अनुसूचियां और 25 भाग हो गए हैं। कई परिशिष्ट भी जोड़े गए जो शुरू में नहीं थे।

यह बहुत चिंता का विषय है कि आज के युवाओं में देश के प्रति वह भावना नहीं है जो उनके पास होनी चाहिए। यही वजह है कि हमारे खूबसूरत देश में आए दिन कोई न कोई क्राइम होता रहता है।

मैं अपने देश के भविष्य से देश के विकास में योगदान देने का अनुरोध करूंगा। रोजगार के नए अवसर खोजें और खोजें। यही सच्ची देशभक्ति होगी। और गणतंत्र पर्व को मनाने का सही तरीका भी।

इन्हीं शब्दों के साथ मैं विदा करना चाहता हूं। आपको धन्यवाद

भारतीय संविधान पर भाषण – 3

भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan
भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan

सुप्रभात, आदरणीय प्रधानाध्यापक, शिक्षकों और मेरे सभी सहपाठियों। यहां उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों, प्रधानाध्यापक, वर्तमान शिक्षकों, अभिभावकों और मेरे सभी छात्रों को बधाई। आप बड़ों के सामने कुछ बोलने का अवसर पाकर मैं बहुत गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं।

हमारे पहले प्रधान मंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने कहा था, अगर आप हमारे संविधान के बारे में जानना चाहते हैं, तो बस संविधान की प्रस्तावना यानी प्रस्तावना पढ़ें। यह पूरे संविधान का सार है। इसे ही संविधान का सार कहा जाता है। इसलिए संविधान के बारे में शुरू करने से पहले इसकी प्रस्तावना यानी प्रस्तावना के बारे में जानना बहुत जरूरी है। यह कुछ इस प्रकार है-

“हम, भारत के लोग, भारत को एक संप्रभु, समाजवादी, धर्मनिरपेक्ष, लोकतांत्रिक गणराज्य बनाने के लिए, और उसके सभी नागरिकों के लिए:

सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और पूजा की स्वतंत्रता, स्थिति और अवसर की समानता प्राप्त करने के लिए,

और उन सब में,

भाईचारे को बढ़ावा देना, व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता और अखंडता सुनिश्चित करना,

संकल्प के साथ आज हमारी संविधान सभा में दिनांक 26 नवम्बर 1949 ई. (मिटि मार्गशीर्ष शुक्ल सप्तमी, संवत 2006 विक्रमी) इस संविधान को अंगीकार, अधिनियमित एवं समर्पण करती है।

इसे पढ़ने से ज्ञात होता है कि –

  • संविधान लोगों के लिए है और जनता ही सर्वोच्च संप्रभु है।
  • यह लोगो के लक्ष्यों और आकांक्षाओं का सूचक है।
  • इसका उपयोग पैराग्राफ में अस्पष्टता को दूर करने के लिए किया जा सकता है।
  • संविधान किस तारीख को बना और पारित किया गया था?
भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan
भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का सबसे बड़ा ग्रंथ हमारा संविधान है। संविधान का निर्माण 1946 में ही शुरू हो गया था। इसकी जिम्मेदारी संविधान सभा की मसौदा समिति को सौंपी गई थी। बाबासाहेब डॉ. भीम राव अम्बेडकर को मसौदा समिति का अध्यक्ष बनाया गया था। इसीलिए डॉ. भीम राव अम्बेडकर को संविधान निर्माता कहा जाता है। इसका फाइनल ड्राफ्ट तैयार करने में 2 साल 11 महीने 18 दिन का समय लगा। और 26 नवंबर 1949 को देश को समर्पित किया गया था। तब से पूरे देश में 26 नवंबर को संविधान दिवस के रूप में मनाया जाता है।

संविधान बनाने में करीब एक करोड़ रुपये खर्च किए गए। और मसौदा समिति ने हाथ से संविधान लिखा, और फिर सुलेख किया गया। उस समय कोई छपाई, टाइपिंग आदि नहीं किया जाता था। संविधान सभा के सदस्य मुख्य रूप से जवाहरलाल नेहरू, डॉ भीमराव अंबेडकर, डॉ राजेंद्र प्रसाद, सरदार वल्लभभाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद आदि थे। सच्चिदानंद सिन्हा इसके अस्थायी अध्यक्ष के रूप में चुने गए थे।

11 दिसंबर 1946 को संविधान सभा की बैठक में डॉ. राजेंद्र प्रसाद को स्थायी अध्यक्ष के रूप में चुना गया था।

संविधान सरकार के संसदीय स्वरूप की बात करता है। जिसके अनुसार भारत राज्यों का एक संघ है। केंद्रीय कार्यपालिका का संवैधानिक प्रमुख राष्ट्रपति होता है, लेकिन वास्तविक शक्ति प्रधान मंत्री में निहित होती है।

भारत की संविधान सभा को भारतीय संविधान बनाने के लिए चुना गया था। स्वतंत्रता के बाद, केवल संविधान सभा के सदस्य ही संसद के पहले सदस्य बने।

कैबिनेट मिशन की सिफारिशों पर जुलाई 1946 में भारत की संविधान सभा का गठन किया गया था।

संविधान सभा के सदस्यों की कुल संख्या 299 थी, जिसमें ब्रिटिश प्रांतों के प्रतिनिधि, 4 मुख्य आयुक्त, प्रदेशों के प्रतिनिधि और 93 रियासतों के प्रतिनिधि शामिल थे। इस पर कुल 114 दिनों तक बहस हुई। उसके बाद यह अपने मूल रूप में आ गया। 42वें संविधान संशोधन अधिनियम 1976 द्वारा प्रस्तावना में ‘समाजवादी’ शब्द जोड़ा गया।

ये थे संविधान के बारे में कुछ बुनियादी बातें, जो मैंने आज आपके सामने रखी हैं। मुझे उम्मीद है कि इससे आपको संविधान को समझने में आसानी होगी।

मैं इन पंक्तियों के साथ आपकी अनुमति माँगना चाहता हूँ।

जय हिंद जय भारत।

भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan
भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan
यह जानकारी और पोस्ट आपको कैसी लगी ?

मुझे आशा है की आपको हमारा यह लेख भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan जरुर पसंद आया होगा मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की आपको भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे आपको किसी दुसरी वेबसाइट या इन्टरनेट में इस विषय के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत नहीं पड़े।  जिससे आपके समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में आपको सभी तरह की जानकारी भी मिल जाएगी। 

अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी तो कमेंट box में अपने विचार दे ताकि हम इस तरह की और भी पोस्ट करते रहे। यदि आपके मन में इस पोस्ट को लेकर कोई भी किसी भी प्रकार की उलझन या हो या आप चाहते हैं की इसमें कुछ और सुधार होना चाहिए तो इसके लिए आप नीच comment box में लिख सकते हैं।

यदि आपको यह पोस्ट भारतीय संविधान पर भाषण : bhaarateey sanvidhaan par bhaashan पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तो कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे WhatsApp, Facebook, Instagram, Telegram, Pinterest, Twitter, Google+  और Other Social media sites पर शेयर जरुर  कीजिये।

|❤| धन्यवाद |❤|…

Leave a Comment

error: Content is protected !!