Love You All (शिक्षक और शिष्य)

Love You All (शिक्षक और शिष्य)
Love You All (शिक्षक और शिष्य)

एक प्राथमिक स्कूल मे अंजलि नाम की एक शिक्षिका थीं वह कक्षा 5 की क्लास टीचर थी, उसकी एक आदत थी कि वह कक्षा मे आते ही हमेशा “LOVE YOU ALL” बोला करतीं थी।

मगर वह जानती थीं कि वह सच नहीं बोल रही ।
वह कक्षा के सभी बच्चों से एक जैसा प्यार नहीं करती थीं।
कक्षा में एक ऐसा बच्चा था जो उनको फटी आंख भी नहीं भाता था। उसका नाम राजू था। राजू मैली कुचेली स्थिति में स्कूल आ जाया करता है। उसके बाल खराब होते, जूतों के बन्ध खुले, शर्ट के कॉलर पर मेल के निशान । पढ़ाई के दौरान भी उसका ध्यान कहीं और होता था।

मेडम के डाँटने पर वह चौंक कर उन्हें देखता, मगर उसकी खाली खाली नज़रों से साफ पता लगता रहता.कि राजू शारीरिक रूप से कक्षा में उपस्थित होने के बावजूद भी मानसिक रूप से गायब हे यानी (प्रजेंट बाडी अफसेटं माइड) .धीरे धीरे मेडम को राजू से नफरत सी होने लगी। क्लास में घुसते ही राजू मेडम की आलोचना का निशाना बनने लगता। सब बुराई उदाहरण राजू के नाम पर किये जाते. बच्चे उस पर खिलखिला कर हंसते.और मेडम उसको अपमानित कर के संतोष प्राप्त करतीं।
राजू ने हालांकि किसी बात का कभी कोई जवाब नहीं दिया था।
.
मेडम को वह एक बेजान पत्थर की तरह लगता जिसके अंदर आत्मा नाम की कोई चीज नहीं थी। प्रत्येक डांट, व्यंग्य और सजा के जवाब में वह बस अपनी भावनाओं से खाली नज़रों से उन्हें देखा करता और सिर झुका लेता। मेडम को अब इससे गंभीर नफरत हो चुकी थ।


पहला सेमेस्टर समाप्त हो गया और प्रोग्रेस रिपोर्ट बनाने का चरण आया तो मेडम ने राजू की प्रगति रिपोर्ट में यह सब बुरी बातें लिख मारी । प्रगति रिपोर्ट माता पिता को दिखाने से पहले हेड मास्टर के पास जाया करती थी। उन्होंने जब राजू की प्रोग्रेस रिपोर्ट देखी तो मेडम को बुला लिया। “मेडम प्रगति रिपोर्ट में कुछ तो राजू की प्रगति भी लिखनी चाहिए। आपने तो जो कुछ लिखा है इससे राजू के पिता इससे बिल्कुल निराश हो जाएंगे।” मेडम ने कहा “मैं माफी माँगती हूँ, लेकिन राजू एक बिल्कुल ही अशिष्ट और निकम्मा बच्चा है । मुझे नहीं लगता कि मैं उसकी प्रगति के बारे में कुछ लिख सकती हूँ। “मेडम घृणित लहजे में बोलकर वहां से उठ कर चली गई स्कूल की छुट्टी हो गई आज तो ।

अगले दिन हेड मास्टर ने एक विचार किया ओर उन्होंने चपरासी के हाथ मेडम की डेस्क पर राजू की पिछले वर्षों की प्रगति रिपोर्ट रखवा दी । अगले दिन मेडम ने कक्षा में प्रवेश किया तो रिपोर्ट पर नजर पड़ी। पलट कर देखा तो पता लगा कि यह राजू की रिपोर्ट हैं। ” मेडम ने सोचा कि पिछली कक्षाओं में भी राजू ने निश्चय ही यही गुल खिलाए होंगे।” उन्होंने सोचा और कक्षा 3 की रिपोर्ट खोली। रिपोर्ट में टिप्पणी पढ़कर उनकी आश्चर्य की कोई सीमा न रही जब उन्होंने देखा कि रिपोर्ट उसकी तारीफों से भरी पड़ी है। “राजू जैसा बुद्धिमान बच्चा मैंने आज तक नहीं देखा।” “बेहद संवेदनशील बच्चा है और अपने मित्रों और शिक्षक से बेहद लगाव रखता है।” “

यह लिखा था
अंतिम सेमेस्टर में भी राजू ने प्रथम स्थान प्राप्त कर लिया है। “मेडम ने अनिश्चित स्थिति में कक्षा 4 की रिपोर्ट खोली।” राजू ने अपनी मां की बीमारी का बेहद प्रभाव लिया। .उसका ध्यान पढ़ाई से हट रहा है। “” राजू की माँ को अंतिम चरण का कैंसर हुआ है। । घर पर उसका और कोई ध्यान रखनेवाला नहीं है.जिसका गहरा प्रभाव उसकी पढ़ाई पर पड़ा है।

” लिखा था
निचे हेड मास्टर ने लिखा कि राजू की माँ मर चुकी है और इसके साथ ही राजू के जीवन की चमक और रौनक भी। । उसे बचाना होगा…इससे पहले कि बहुत देर हो जाए। ” यह पढ़कर मेडम के दिमाग पर भयानक बोझ हावी हो गया। कांपते हाथों से उन्होंने प्रगति रिपोर्ट बंद की । मेडम की आखो से आंसू एक के बाद एक गिरने लगे. मेडम ने साङी से अपने आंसू पोछे
अगले दिन जब मेडम कक्षा में दाख़िल हुईं तो उन्होंने अपनी आदत के अनुसार अपना पारंपरिक वाक्यांश “आई लव यू ऑल” दोहराया।
मगर वह जानती थीं कि वह आज भी झूठ बोल रही हैं। क्योंकि इसी क्लास में बैठे एक उलझे बालों वाले बच्चे राजू के लिए जो प्यार वह आज अपने दिल में महसूस कर रही थीं..वह कक्षा में बैठे और किसी भी बच्चे से अधिक था ।


पढ़ाई के दौरान उन्होंने रोजाना दिनचर्या की तरह एक सवाल राजू पर दागा और हमेशा की तरह राजू ने सिर झुका लिया। जब कुछ देर तक मेडम से कोई डांट फटकार और सहपाठी सहयोगियों से हंसी की आवाज उसके कानों में न पड़ी तो उसने अचंभे में सिर उठाकर मेडम की ओर देखा। अप्रत्याशित उनके माथे पर आज बल न थे, वह मुस्कुरा रही थीं। उन्होंने राजू को अपने पास बुलाया और उसे सवाल का जवाब बताकर जबरन दोहराने के लिए कहा। राजू तीन चार बार के आग्रह के बाद अंतत:बोल ही पड़ा। इसके जवाब देते ही मेडम ने न सिर्फ खुद खुशान्दाज़ होकर तालियाँ बजाईं बल्कि सभी बच्चो से भी बजवायी..

फिर तो यह दिनचर्या बन गयी।मेडम हर सवाल का जवाब अपने आप बताती और फिर उसकी खूब सराहना तारीफ करतीं। प्रत्येक अच्छा उदाहरण राजू के कारण दिया जाने लगा । धीरे-धीरे पुराना राजू सन्नाटे की कब्र फाड़ कर बाहर आ गया। अब मेडम को सवाल के साथ जवाब बताने की जरूरत नहीं पड़ती। वह रोज बिना त्रुटि उत्तर देकर सभी को प्रभावित करता और नये नए सवाल पूछ कर सबको हैरान भी करता ।

उसके बाल अब कुछ हद तक सुधरे हुए होते, कपड़े भी काफी हद तक साफ होते जिन्हें शायद वह खुद धोने लगा था। देखते ही देखते साल समाप्त हो गया और राजू ने दूसरा स्थान हासिल कर कक्षा 5 वी पास कर लिया यानी अब दुसरी जगह स्कूल मे दाखिले के लिए तैयार था।

कक्षा 5 वी के विदाई समारोह में सभी बच्चे मेडम के लिये सुंदर उपहार लेकर आए और मेडम की टेबल पर ढेर लग गया । इन खूबसूरती से पैक हुए उपहारो में एक पुराने अखबार में बदतर सलीके से पैक हुआ एक उपहार भी पड़ा था। बच्चे उसे देखकर हंस रहे थे । किसी को जानने में देर न लगी कि यह उपहार राजू लाया होगा। मेडम ने उपहार के इस छोटे से पहाड़ में से लपक कर राजू वाले उपहार को निकाला।

 

खोलकर देखा तो उसके अंदर एक महिलाओं द्वारा इस्तेमाल करने वाली इत्र की आधी इस्तेमाल की हुई शीशी और एक हाथ में पहनने वाला एक बड़ा सा कड़ा कंगन था जिसके ज्यादातर मोती झड़ चुके थे। मिस ने चुपचाप इस इत्र को खुद पर छिड़का और हाथ में कंगन पहन लिया। बच्चे यह दृश्य देखकर सब हैरान रह गए। खुद राजू भी। आखिर राजू से रहा न गया और मिस के पास आकर खड़ा हो गया। ।

कुछ देर बाद उसने अटक अटक कर मेडम को बोला “आज आप में से मेरी माँ जैसी खुशबू आ रही है।” इतना सुनकर मेडम के आखो मे आसू आ गये ओर मेडम ने राजू को अपने गले से लगा लिया
राजू अब दुसरी स्कूल मे जाने वाला था
राजू ने दुसरी जगह स्कूल मे दाखिले ले लिया था
समय बितने लगा।
दिन सप्ताह,
सप्ताह महीने और महीने साल में बदलते भला कहां देर लगती है?
मगर हर साल के अंत में मेडम को राजू से एक पत्र नियमित रूप से प्राप्त होता जिसमें लिखा होता कि “इस साल कई नए टीचर्स से मिला।। मगर आप जैसा मेडम कोई नहीं था।”

फिर राजू की पढ़ाई समाप्त हो गया और पत्रों का सिलसिला भी सम्माप्त । कई साल आगे गुज़रे और मेडम रिटायर हो गईं।
एक दिन मेडम के घर अपनी मेल में राजू का पत्र मिला जिसमें लिखा था:
“इस महीने के अंत में मेरी शादी है और आपके बिना शादी की बात मैं नहीं सोच सकता। एक और बात .. मैं जीवन में बहुत सारे लोगों से मिल चुका हूं।। आप जैसा कोई नहीं है………आपका डॉक्टर राजू

पत्र मे साथ ही विमान का आने जाने का टिकट भी लिफाफे में मौजूद था।
मेडम खुद को हरगिज़ न रोक सकी। उन्होंने अपने पति से अनुमति ली और वह राजू के शहर के लिए रवाना हो गईं। शादी के दिन जब वह शादी की जगह पहुंची तो थोड़ी लेट हो चुकी थीं।

उन्हें लगा समारोह समाप्त हो चुका होगा.. मगर यह देखकर उनके आश्चर्य की सीमा न रही कि शहर के बड़े डॉक्टर , बिजनेसमैन और यहां तक कि वहां पर शादी कराने वाले पंडितजी भी थक गये थे. कि आखिर कौन आना बाकी है…मगर राजू समारोह में शादी के मंडप के बजाय गेट की तरफ टकटकी लगाए उनके आने का इंतजार कर रहा था। फिर सबने देखा कि जैसे ही एक बुड्ढी ओरत ने गेट से प्रवेश किया राजू उनकी ओर लपका और उनका वह हाथ पकड़ा जिसमें उन्होंने अब तक वह कड़ा पहना हुआ था कंगन पहना हुआ था और उन्हें सीधा मंच पर ले गया।

राजू ने माइक हाथ में पकड़ कर कुछ यूं बोला “दोस्तों आप सभी हमेशा मुझसे मेरी माँ के बारे में पूछा करते थे और मैं आप सबसे वादा किया करता था कि जल्द ही आप सबको उनसे मिलाउंगा।।।……..
ध्यान से देखो यह यह मेरी प्यारी सी मा दुनिया की सबसे अच्छी है यह मेरी मा यह मेरी माँ हैं –
!! प्रिय दोस्तों…. इस सुंदर कहानी को सिर्फ शिक्षक और शिष्य के रिश्ते के कारण ही मत सोचिएगा । अपने आसपास देखें, राजू जैसे कई फूल मुरझा रहे हैं जिन्हें आप का जरा सा ध्यान, प्यार और स्नेह नया जीवन दे सकता है………..👍

 TRANSLATE IN ENGLISH

There was a teacher named Anjali in a primary school, she was a class teacher of class 5, she had a habit that she always used to say “LOVE YOU ALL” as soon as she came to class.

But she knew that she was not telling the truth.
She did not love all the children in the class the same way.
There was a child in the class who did not even like his tear-eyed. His name was Raju. Raju goes to school in unbearable condition. His hair was spoiled, the shoe ties were loose, there were marks of mail on the collar of the shirt. Even during his studies, his attention was elsewhere.

On being scolded by Madam, he looked at them in shock, but it was clearly visible from his empty eyes. That Raju is mentally missing despite being physically present in the class i.e. (Present Body Offset Maid). Slowly to Madam I started hating Raju. As soon as he entered the class, Raju started becoming the target of criticism of Madam. All evil examples are done in the name of Raju. The children laughed and laughed at him. And madam would get satisfaction by humiliating him.
Raju, however, never gave any reply to anything.
.
To Madam, he seemed like a lifeless stone, inside which there was no such thing as a soul. In response to every scolding, sarcasm and punishment, he would simply look at them empty-handed and bow his head. Madam had a serious hatred for it now.
.
When the first semester was over and the stage of preparing the progress report came, Madam wrote all these bad things in Raju’s progress report. The progress report used to go to the head master before showing it to the parents. When he saw Raju’s progress report, he called Madam. “Madam, Raju’s progress should also be written in the progress report. Whatever you have written will make Raju’s father very disappointed with it.” Madam said “I’m sorry, but Raju is an absolutely vulgar and worthless kid. I don’t think I can write anything about his progress.” Madam, speaking in a disgusting tone, got up from the school and left. It’s done today.

The next day the head master had a thought and he got the progress report of Raju’s previous years placed on the desk of the peon in the hands of the peon. The next day when Madam entered the class, the report was noticed. When I looked back, I found out that this is Raju’s report. “Madam thought that Raju must have fed the same gulps in the previous classes as well.” He thought and opened the class 3 report. Reading the remarks in the report, his surprise knew no bounds when he saw that the report was full of praises for it. “I have never seen a child as intelligent as Raju.” “A very sensitive child and very attached to his friends and teacher.” “

it was written
Raju has secured first position in the last semester also. “Madam opens class 4 report in precarious position.” Raju took great effect of his mother’s illness. .His attention is being diverted from studies. “Raju’s mother is diagnosed with end stage cancer. . There is no one else to take care of him at home. Which has had a deep impact on his studies.
.
” wrote
The head master below wrote that Raju’s mother is dead and with it the radiance and radiance of Raju’s life. . He has to be saved…before it’s too late. Reading this, a terrible burden fell on Madam’s mind. With trembling hands she closed the progress report. Tears began to fall one after the other. Madam wiped her tears with a sari.
When Madam entered the class the next day, she repeated her traditional phrase “I love you all” as per her habit.
But she knew that she was still lying. Because the love she felt in her heart today for Raju, a boy with tangled hair sitting in the same class…was more than any other child sitting in the class.
During his studies, he posed a question on Raju like a daily routine and as usual, Raju bowed his head. When there was no rebuke from Madam and laughter from classmates for some time, he raised his head in amazement and looked at Madam. Unexpectedly, there was no force on her forehead today, she was smiling. He called Raju to him and asked him to repeat forcibly giving him the answer to the question. Raju finally spoke after three or four requests. On answering this, the madam not only cheered herself and applauded but also made all the children to play..
.
Then it became a routine. Madam would answer every question on her own and then appreciate it a lot. Every good example was given because of Raju. Slowly the old Raju came out tearing the grave of silence. Now madam does not need to tell the answer along with the question. He used to impress everyone by giving wrong answers every day and also surprised everyone by asking new questions.

His hair would have been somewhat improved now, his clothes much cleaner which he had probably started washing himself. Soon the year ended and Raju secured second position and passed class 5th i.e. now he was ready to take admission in another school.
.
In the farewell ceremony of class 5th, all the children brought beautiful gifts for Madam and there was a heap on Madam’s table. Among these beautifully packaged gifts was a poorly packaged present in an old newspaper. The children were laughing seeing him. It didn’t take long for anyone to know that this gift would have been brought by Raju. Madam grabbed Raju’s gift from this small mountain of gifts. When opened, it contained a half-used bottle of perfume used by a woman and a large hard bracelet worn in one hand, most of which had lost its pearls. Miss quietly sprinkled this perfume on herself and put on the bracelet in her hand. The children were surprised to see this scene. Raju himself. After all, Raju did not stay with him and came and stood near Miss. .
.
After some time he stuck and said to the madam “Today you smell like my mother.” Hearing this, tears came to Madam’s eyes and Madam hugged Raju by her neck.
Raju was about to go to another school now
Raju had taken admission in another school
Time passed.
day week,
Where does it take time to change weeks into months and months into years?
But at the end of every year, Madam would regularly receive a letter from Raju that read, “Meet many new teachers this year… But there was no one like you, Madam.”
 
Then Raju’s studies ended and the series of letters also ended. Many years passed and Madam retired.
One day, I got a letter from Raju in my mail at Madam’s house which read:
“I am getting married at the end of this month and I can’t think of getting married without you. One more thing.. I have met a lot of people in life.. There is no one like you……… .your doctor Raju
.
Along with the letter, the ticket for the arrival and departure of the plane was also present in the envelope.
Madam could not stop herself at all. She took permission from her husband and she left for Raju’s town. When she reached the place of marriage on the wedding day, it was a little late.
.
He thought the ceremony was over.. But his surprise knew no bounds that the city’s big doctors, businessmen and even the priests who got married there were tired. Who is yet to come… But Raju was waiting for his arrival at the ceremony, gazing towards the gate instead of the wedding pavilion. Then everyone saw that as soon as an old lady had entered the gate, Raju rushed towards them and grabbed her hand in which she was wearing the bracelet till now and took her straight to the stage.
.
Raju held the mic in his hand and said something like this “Friends, you all always used to ask me about my mother and I used to promise all of you that soon you will all meet her.
Look carefully this my sweet mother is the best in the world this is my mother this is my mother
.
!! Dear friends… don’t think of this beautiful story only because of the relationship between teacher and disciple. Look around you, many flowers like Raju are withering, which your little attention, love and affection can give a new life………..

 

2 thoughts on “Love You All (शिक्षक और शिष्य)”

Leave a Comment

error: Content is protected !!