राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण 350,550,850 और 900 शब्दों में

Rate this post

आइए जानते हैं राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण के बारे में । झंडा हर राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करता है। यह हमारे राष्ट्र के गौरव और प्रतिष्ठा को दर्शाता है। अगर आपने अपने झंडे का अपमान किया है, तो इसका मतलब है देश का टैक्स। इसलिए ऐसा कुछ होशपूर्वक करना चाहिए। राष्ट्रीय प्रतीक का अपमान करना दंडनीय अपराध माना जाना चाहिए। तभी लोग ऐसा करने से पहले डरेंगे और झिझकेंगे। वो कहते हैं न ‘भया बिन प्रीत ना हो‘. इस संदर्भ में कहीं न कहीं हमें अपने विचार व्यक्त करने होते हैं, उस समय हमें बेचैनी होने लगती है। इसी को ध्यान में रखते हुए हम आपके सामने कुछ भाषण छोटे-बड़े शब्दों में पेश कर रहे हैं।

भारत के राष्ट्रीय ध्वज पर संक्षिप्त और लंबा भाषण

राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan
राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan

राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण – 1

मैं सभी अतिथि गणमान्य व्यक्तियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। मैं अपने प्रधानाध्यापक के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करना चाहता हूँ, जिन्होंने मुझे इस योग्य समझा और इस विषय पर अपने विचार आपके साथ साझा करने का अवसर दिया।

हमारे राष्ट्रीय ध्वज का नाम तिरंगा है। यह तीन रंगों से बना है – केसरिया, सफेद और हरा। इन रंगों का महत्व है, साथ ही उनका औचित्य भी है। इसमें तीन समानांतर पट्टियां होती हैं। केसर ने शीर्ष स्थान प्राप्त किया है, फिर बीच में सफेद और अंत में गहरा हरा। सफेद पट्टी के बीच में एक गहरा नीला घेरा होता है। यह चक्र सारनाथ के अशोक स्तंभ से लिया गया है। इसमें चौबीस तीलियाँ हैं। यह हमें सिखाता है कि हमें चलते रहना चाहिए। जीवन चलने का नाम है। ये चौबीस तीलियाँ दिन के चौबीस घंटे का प्रतिनिधित्व करती हैं। इसका व्यास सफेद पट्टी के समान ही होता है।

हमारे ध्वज के प्रारूप को 22 जुलाई 1947 को भारत की संविधान सभा द्वारा अनुमोदित किया गया था।

Read Aslo :> राष्ट्रीय ध्वज पर निबंध 300, 500, 800, 1000 शब्द

भारतीय ध्वज संहिता 2002 के अनुसार, जो 26 जनवरी 2002 से लागू हुआ, भारत का ध्वज संहिता कानूनों, परंपराओं, प्रक्रियाओं और निर्देशों का एक संग्रह है। भारतीय ध्वज संहिता के अनुसार, आम नागरिकों, सरकारी और निजी संस्थानों, शैक्षणिक संस्थानों आदि में राष्ट्रीय ध्वज फहराने पर कोई प्रतिबंध नहीं है। लेकिन इस संबंध में यह ध्यान देने योग्य है कि कोई भी राष्ट्रीय प्रतीक का दुरुपयोग नहीं कर सकता है। . यह ‘अधिनियम 1950’ में कहा गया है। साथ ही, ‘राष्ट्रीय गौरव के अपमान की रोकथाम, अधिनियम 1976’ के प्रावधानों के अनुसार इसका अनुपालन अनिवार्य है।

यह हमारे झंडे के बारे में कुछ जानकारी थी, जिसे मैं आप लोगों के साथ साझा करना चाहता था। इन्हीं शब्दों के साथ मैं अपनी बात समाप्त करता हूं।

शुक्रिया।

राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण – 2

राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan
राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan

आदरणीय प्रधानाध्यापक, आदरणीय अतिथि महोदय, मैं साथी शिक्षकों को नमन करता हूं और अपने प्रिय छात्रों को बहुत आशीर्वाद देता हूं। मैं आप सभी का आभारी हूं जो अपना कीमती समय निकाल कर यहां आए हैं। आप सभी को बहुत – बहुत धन्यवाद।

आज हम सब अपने राष्ट्र के गौरव के प्रतीक अपने ‘तिरंगे’ के बारे में बात करने के लिए यहां एकत्रित हुए हैं। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि राष्ट्रीय ध्वज प्रत्येक राष्ट्र का प्रतीक है। इससे देश की गरिमा जुड़ी हुई है। इसके सम्मान का मतलब है देश का सम्मान और आप इसके अपमान का मतलब तो समझ ही गए होंगे।

अपने देश और उसके प्रतीकों का सम्मान करना हर आम आदमी का नैतिक कर्तव्य बन जाता है। जब आप अपनी ही बात का सम्मान नहीं करेंगे तो कोई दूसरा क्यों और कैसे करेगा? इसलिए यह नितांत आवश्यक है कि हम अपने देश के प्रतीकों और विरासत की रक्षा करें और उनका सम्मान करें।

हमारा राष्ट्रीय ध्वज, जिसे हम ‘तिरंगा’ के नाम से भी जानते हैं। इसे तिरंगा इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह तीन रंगों से मिलकर बना होता है। सबसे ऊपर की पट्टी केसरिया, बीच वाली सफेद और आखिरी वाली पट्टी गहरे हरे रंग की होती है। इसकी सफेद पट्टी के बीच में अशोक चक्र मौजूद होता है। यह गहरे नीले रंग का होता है। अशोक चक्र सारनाथ में अशोक स्तंभ से निकला है। अशोक चक्र में चौबीस तीलियाँ होती हैं जो दिन के चौबीस घंटे का प्रतिनिधित्व करती हैं। यह हमें सिखाता है कि हमें जीवन में चलते रहना चाहिए। रुकना मृत्यु के समान है। परिस्थिति कैसी भी हो, हमें चलते रहना चाहिए।

Read Aslo :> देशभक्ति पर निबंध 300,400,500,800 शब्द

इसका हर रंग हमें कुछ न कुछ जरूर सिखाता है। केसरिया रंग देश की ताकत और साहस का प्रतीक है। सफेद रंग शांति और सच्चाई का प्रतीक है। हरा रंग हरियाली और विकास का प्रतिनिधित्व करता है।

अशोक चक्र को धर्म चक्र के नाम से भी जाना जाता है। झंडे की लंबाई और चौड़ाई का अनुपात 3:2 है। यह मानक है। हम इसकी लंबाई और चौड़ाई में कोई बदलाव स्वीकार नहीं कर सकते।

ये थी हमारे झंडे के बारे में कुछ बातें, जो हम सभी को जानना जरूरी है। इन्हीं शब्दों के साथ मैं अपनी बात समाप्त करता हूं।

शुक्रिया।

राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण – 3

राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan
राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan

मैं यहां उपस्थित सभी लोगों का अभिनंदन करता हूं। मैं यहां उपस्थित सभी गणमान्य व्यक्तियों का हृदय से सम्मान एवं अभिनन्दन करता हूँ। यह मेरे लिए अत्यंत प्रसन्नता की बात है कि मुझे आप जैसे अनुभवी और विद्वानों के सामने बोलने का अवसर मिला। मैं अपने वरिष्ठ शिक्षक महोदय का ऋणी हूँ, जिन्होंने मुझे यह अवसर दिया। आज हम अपने देश के गौरव के बारे में कुछ बिंदुओं पर चर्चा करेंगे।

भारत का राष्ट्रीय ध्वज, जिसे हम तिरंगे के नाम से भी जानते हैं, तीन रंगों की समानांतर धारियों से सुशोभित है। इसकी अवधारणा पिंगली वेंकैया ने दी थी। आजादी से पहले ही 22 जुलाई 1947 को हमारी संविधान सभा की बैठक में इसे अपनाया गया था। और उसके कुछ दिनों बाद हमें 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली

राष्ट्रीय ध्वज विनिर्देशों के अनुसार इसे खादी में ही बनाया जाना चाहिए, ऐसा प्रावधान है। एक विशेष प्रकार के हाथ से बने कपड़े से बनाया गया था जिसे महात्मा गांधी ने लोकप्रिय बनाया था। आप किसी अन्य कपड़े का उपयोग नहीं कर सकते। इसे अवैध माना जाता है। हमारे राष्ट्रीय ध्वज के निर्माण का अधिकार केवल कर्नाटक खादी ग्रामोद्योग संयुक्त संघ के पास है। कोई दूसरा नहीं। इसे बेहद खास तरीके से बनाया जाता है। और इसके सम्मान का विशेष ध्यान रखा जाता है।

Read Aslo :> देशभक्ति के महत्व पर निबंध 300,400,500,800 शब्दों में

हमारा राष्ट्रीय ध्वज देश की एकता और अखंडता का प्रतीक है। इसका समानांतर रूप बहुत आकर्षक लगता है। सबसे ऊपरी पट्टी पर केसरिया रंग निस्वार्थता और समर्पण का प्रतीक है। मध्य बैंड पर सफेद रंग शांति और सद्भाव का प्रतिनिधित्व करता है। बीच में सारनाथ में अशोक स्तंभ से लिया गया गहरा नीला धर्म-चक्र है। तीसरी पट्टी गहरे हरे रंग की है, जो हरियाली और समृद्धि का प्रतीक है।

स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस जैसे किसी विशेष अवसर पर झंडा फहराया जाता है। आम नागरिक को अपने घरों, दफ्तरों आदि में झंडा फहराने की आजादी है। लेकिन किसी भी हालत में हमारे झंडे का अपमान नहीं होना चाहिए।

आइए जानते हैं तिरंगे के बारे में कुछ खास और दिलचस्प बातें।

राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan
राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan

देश पर शहीद हुए शहीदों और देश की महान हस्तियों को श्रद्धांजलि देने के लिए लहरों में लिपटे हुए हैं। यह बड़े गर्व की बात है। हर सैनिक की यही ख्वाहिश होती है कि उसे तिरंगे में लिपटने का मौका मिले। हंसते-हंसते देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले अपने देश के वीर जवानों की हम ऐसी सोच भी नहीं सकते।

जब जवान को तिरंगे में रैप किया जाता है तो कई बातों का ध्यान रखा जाता है। ध्वज का ऊपरी भाग (केसर वाला भाग) सिर की ओर और हरे रंग की पट्टी वाला भाग पैरों की ओर ले जाया जाता है। शव को जलाने से पहले सम्मानपूर्वक तिरंगा उतारा जाता है।

भारत के झारखंड राज्य की राजधानी रांची में देश का सबसे ऊंचा झंडा 493 मीटर की ऊंचाई पर फहराया जाता है.

राष्ट्रीय ध्वज के सम्मान और सम्मान के लिए एक समिति का गठन किया गया है, जो आम जनता को इसके उपयोग के बारे में सूचित कर सकती है। इसे भारतीय ध्वज संहिता (भारत का ध्वज न्यायालय) के रूप में जाना जाता है। यह न केवल एक झंडा है, बल्कि हमारी आशाओं और आकांक्षाओं का भी प्रतीक है। भारतीय ध्वज संहिता-2002 में सभी नियमों, निर्देशों और औपचारिकताओं को एक साथ लाने का प्रयास किया गया है।

झंडा फहराने के भी बुनियादी नियम हैं –

  • झंडा हमेशा ऐसी जगह फहराना चाहिए जहां से वह साफ दिखाई दे।
  • जिस उत्साह और उल्लास के साथ राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है, उसी उत्साह और उल्लास के साथ उसे धीरे-धीरे समान सम्मान के साथ उतारा जाना चाहिए।
  • झंडा कहीं भी नहीं फहराया जा सकता।
  • यदि यह मैला या गंदा हो जाता है, तो इसे अकेले ही निपटाया जाना चाहिए।
  • राष्ट्रीय शोक के समय ही राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहता है।
  • झंडे पर कुछ भी छपा या लिखा नहीं जाना चाहिए।
  • इसकी तुलना किसी अन्य ध्वज से नहीं की जा सकती।
  • इसका स्थान सदैव सर्वोपरि रहेगा, इसके ऊपर कोई दूसरा झंडा नहीं फहराया जा सकता।
  • कोई भी झंडा राष्ट्रीय ध्वज की तरह खड़ा नहीं हो सकता।
  • राष्ट्रीय ध्वज मानक आकार में ही होना चाहिए। इसे कोई अपने मन से कोई आकार या रूप नहीं दे सकता।

ये हमारे राष्ट्रीय ध्वज के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं, जो भारत के नागरिकों के रूप में हम सभी को पता होनी चाहिए। इन्हीं बातों के साथ मैं अपनी बात समाप्त करने का आदेश देना चाहूंगा।

शुक्रिया।

राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan
राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan

यह जानकारी और पोस्ट आपको कैसी लगी ?

मुझे आशा है की आपको हमारा यह लेख राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan जरुर पसंद आया होगा मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की आपको राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे आपको किसी दुसरी वेबसाइट या इन्टरनेट में इस विषय के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत नहीं पड़े।  जिससे आपके समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में आपको सभी तरह की जानकारी भी मिल जाएगी। 

अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी तो कमेंट box में अपने विचार दे ताकि हम इस तरह की और भी पोस्ट करते रहे। यदि आपके मन में इस पोस्ट को लेकर कोई भी किसी भी प्रकार की उलझन या हो या आप चाहते हैं की इसमें कुछ और सुधार होना चाहिए तो इसके लिए आप नीच comment box में लिख सकते हैं।

यदि आपको यह पोस्ट राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण : raashtreey dhvaj par bhaashan पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तो कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे WhatsApp, Facebook, Instagram, Telegram, Pinterest, Twitter, Google+  और Other Social media sites पर शेयर जरुर  कीजिये।

|❤| धन्यवाद |❤|…

1 thought on “राष्ट्रीय ध्वज पर भाषण 350,550,850 और 900 शब्दों में”

Leave a Comment

error: