संस्कृत के जनक :»

संस्कृत के शब्द तो आपने सुने  होंगे  , लेकिन क्या आप संस्कृत भाषा के जनक के बारे  में जानते हैं  ?

शायद नहीं, इसलिए इस लेख में हम आपको बताने जा रहे हैं कि  संस्कृत के जनक कौन  हैं और उन्हें संस्कृत का जनक क्यों कहा जाता है।

संस्कृत के जनक :»
संस्कृत के जनक :»

संस्कृत भाषा की शिक्षा और उससे संबंधित अन्य जानकारी प्राप्त करने से पहले संस्कृत के जनक अर्थात संस्कृत के जनक कौन हैं, के बारे में जानना आवश्यक है  ।

यही कारण है कि इस लेख में आपको संस्कृत भाषा के जनक और उनसे जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण बातों के बारे में सरल शब्दों में समझाया गया है।

तो आइए अब जानते हैं कि संस्कृत के जनक कौन हैं (संस्कृत के जनक), उन्हें संस्कृत का जनक क्यों कहा जाता है, और इससे जुड़ी अन्य जानकारी के बारे में।

संस्कृत के जनक कौन है ?

महर्षि पाणिनि को संस्कृत का जनक कहा जाता है, जो संस्कृत भाषा के सबसे बड़े व्याकरणकर्ता बने। उन्होंने संस्कृत का व्याकरण लिखा, जिसके बाद विश्व की सभी भाषाओं के व्याकरण की रचना हुई।

उनके द्वारा रचित व्याकरण का नाम “अष्टाध्यायी” है जिसमें आठ अध्याय और लगभग चार हजार सूत्र हैं। पाणिनि के इस अतुलनीय योगदान के कारण, उन्हें “संस्कृत के पिता” के रूप में जाना जाता है।

उनके व्याकरण में अनुवाद से तत्कालीन भारतीय समाज का संपूर्ण चित्र मिलता है। अर्थात् “अष्टाध्यायी” व्याकरण में उस समय के भूगोल, सामाजिक, आर्थिक, शिक्षा और राजनीतिक जीवन के साथ-साथ दार्शनिक चिंतन, भोजन, रहन-सहन आदि बातें दर्ज की गई हैं।

आज हम जिस संस्कृत भाषा को जानते हैं, पढ़ते हैं, लिखते हैं और बोलते हैं, उसे व्याकरणिक रूप देने में पाणिनि का बहुत बड़ा योगदान है। यही कारण है कि पाणिनि को “संस्कृत व्याकरण का जनक” कहा जाता है।

संस्कृत के पिता  Maharshi Panini
संस्कृत व्याकरण के जनकMaharshi Panini

महर्षि पाणिनी कौन थे?

संस्कृत के जनक :»
संस्कृत के जनक :»

पाणिनि प्राचीन भारत के संस्कृत भाषाविद्, व्याकरणविद् और श्रद्धेय विद्वान थे, जिन्होंने संस्कृत व्याकरण की रचना करने वाले पहले व्यक्ति थे, इसलिए उन्हें “संस्कृत का पिता” भी कहा जाता है।

नामपाणिनी
जन्म520 ई.पू
मौत460 ई.पू
मुख्य रुचियांसंस्कृत व्याकरण, भाषाविज्ञान
निवास स्थानउत्तर पश्चिमी भारतीय उपमहाद्वीप
सिटिज़नशिपभारतीय
माता – पिता का नाम Dakshi, Panin
भाई-बहनpingala
गुरु का नामउप वर्ष
मुख्य कार्य (पुस्तक) Ashtadhyayi
प्रसिद्धिसंस्कृत के जनक संस्कृत व्याकरण के जनक

पाणिनि को संस्कृत का जनक क्यों कहा जाता है?

पाणिनि द्वारा दिए गए व्याकरण के व्यापक और वैज्ञानिक सिद्धांत (अष्टाध्यायी) को पारंपरिक रूप से शास्त्रीय संस्कृत की शुरुआत के रूप में लिया जाता है। उनके व्यवस्थित ग्रंथों ने संस्कृत को दो सहस्राब्दियों तक सीखने और साहित्य की प्रमुख भारतीय भाषा बना दिया। इसलिए पाणिनि को संस्कृत का जनक कहा जाता है।

संस्कृत भाषा की उत्पत्ति कैसे हुई?

संस्कृत भाषा की उत्पत्ति के दो मुख्य पहलू हैं: पहला जो उनके द्वारा ब्रिटिश राज के दौरान लिखा गया था और दूसरा जो हमारे प्राचीन ग्रंथों और पुस्तकों में मिलता है।

  1. अंग्रेजों  के अनुसार संस्कृत की उत्पत्ति अंग्रेजों द्वारा लिखे गए इतिहास के अनुसार पाणिनि पहले विद्वान थे जिन्होंने संस्कृत का व्याकरण तैयार किया। उनके द्वारा रचित व्याकरण “अष्टाध्यायी” ने संस्कृत भाषा की उत्पत्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसीलिए उन्हें “संस्कृत व्याकरण के लेखक और पिता” भी कहा जाता है।
  2. प्राचीन ग्रंथों और पुस्तकों के अनुसार:  संस्कृत (संस्कृत) को देवताओं की बोली कहा गया है, इसलिए संस्कृत भाषा देववाणी है। प्राचीन ग्रंथों में विश्व के प्राचीनतम संस्कृत ग्रंथ “ऋग्वेद” तथा अन्य ग्रन्थों में संस्कृत भाषा की उत्पत्ति के विषय में बहुत कुछ बताया गया है। संस्कृत सनातन भाषा है, जिसका उद्गम सृष्टि के प्रारंभ में ब्रह्मा जी के मुख से बोले गए वेद से हुआ है जो संस्कृत में था।

संस्कृत को देव भाषा क्यों कहा जाता है?

संस्कृत के जनक :»
संस्कृत के जनक :»

संस्कृत को ईश्वरीय भाषा कहा जाता है क्योंकि:

  1. यह सबसे काव्यात्मक, संगीतमय भाषा है।
  2. यह देवताओं द्वारा बोली जाने वाली भाषा है।
  3. प्राचीन काल में सभी हिंदू शास्त्र और धार्मिक साहित्य केवल संस्कृत में ही बोले और लिखे जाते थे।

प्रसिद्ध व्याकरणविद् और संस्कृत के विद्वान

संस्कृत के प्रसिद्ध व्याकरणविद्उनकी मुख्य कृतियाँ
पतंजलिMahabhashya
Bhartrihariउन्होंने उन्हें खा लिया
वररुचि कात्यायनकलंक
पिंगलेChandashastra
yaskNirukta

संस्कृत व्याकरण का जनक किसे कहा जाता है?

संस्कृत व्याकरण के जनक “पाणिनी” कहे जाते हैं, जिनके द्वारा संस्कृत भाषा के व्याकरण के लिए ” अष्टाध्यायी ” व्यवस्थित ग्रंथ की रचना की गई थी।

संस्कृत व्याकरण की पहली पुस्तक कौन सी है?

“अष्टाध्यायी” नामक व्याकरण ग्रंथ को संस्कृत व्याकरण का प्रथम ग्रंथ माना जाता है, जिसके रचयिता महर्षि पाणिनि हैं।

संस्कृत भाषा का आविष्कार कब हुआ था?

संस्कृत साहित्य के इतिहास के अनुसार 3500 ईसा पूर्व से 500 ईसा पूर्व तक के काल को वैदिक संस्कृत काल कहा जाता है।

किस वेद को भारतीय संस्कृत का जनक कहा जाता है?

ऋग्वेद वैदिक संस्कृत का सबसे पुराना ज्ञात ग्रंथ है, इसलिए इसे भारतीय संस्कृत का जनक कहा जाता है।

संस्कृत को कितनी भाषाओं की उत्पत्ति माना जा सकता है?

संस्कृत प्राचीन भाषा के साथ-साथ कई अन्य भाषाओं की जननी है, जैसे हिंदी, बंगाली, मराठी, सिंधी, पंजाबी, नेपाली आदि की उत्पत्ति इसी से हुई है। इसके साथ ही ग्रीक, लैटिन और ईरानी-वर्ग की भाषाओं के साथ संस्कृत का भी संबंध है।

निष्कर्ष,

इस लेख में हमें  संस्कृत के जनक (संस्कृत के जनक  कौन है) और संस्कृत भाषा की उत्पत्ति, खोज, प्रसिद्ध व्याकरणकर्ता और महर्षि पाणिनी जैसी अन्य संबंधित जानकारी के बारे में जानकारी मिली।

प्रश्न का उत्तर है:  महर्षि पाणिनी को संस्कृत का पिता और पिता कहा जाता है। 

हम आशा करते हैं कि  इस लेख में वर्णित संस्कृत के जनक कौन हैं? के बारे में आपको पूरी जानकारी मिल गई होगी. अगर आपको यह लेख पढ़कर अच्छा लगा हो तो कृपया इसे शेयर करें और इसे अपने दोस्तों और जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाएं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!