सूक्ष्मदर्शी के जनक के संबंधित 10 रोचक जानकारिया

Rate this post

सूक्ष्मदर्शी के जनक : आज हम सूक्ष्मदर्शी के जनक को पढ़ेंगे । 15वीं शताब्दी में, वैज्ञानिकों ने जीवों के अंगों की आंतरिक संरचना के अध्ययन और प्रकृति के नियमों और व्यवस्थाओं और ब्रह्मांड की संरचना की जटिलताओं के अध्ययन पर ध्यान देना शुरू किया। लेकिन, उनके सामने एक बड़ी और महत्वपूर्ण कठिनाई यह थी कि जो वस्तु आंखों से देखने पर भी स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं दे रही थी, उसे कैसे देखा जाए, यानी उन्हें एक ऐसे उपकरण की आवश्यकता थी जिससे छोटी चीजों को बड़े रूप में देखा जा सके और स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है, वैज्ञानिकों ने उस आवश्यक उपकरण को तैयार करना शुरू कर दिया। 

सूक्ष्मदर्शी (माइक्रोस्कोप) के जनक – परिभाषा, प्रकार, उपयोग

सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak
सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak

प्राप्त जानकारी के अनुसार सबसे पहले माइक्रोस्कोप का आविष्कार हॉलैंड निवासी जकारियस जानसन ने 1590 ई. में किया था। सूक्ष्मदर्शी यानि यह छोटी से छोटी वस्तु को भी स्पष्ट और बड़े रूप में दिखाने का एक यंत्र है। 

उसके बाद 1665 ई. में विट आइलैंड के छोटे से शहर फ्रेशवाटर में पैदा हुए अंग्रेज वैज्ञानिक रॉबर्ट हुक ने एक माइक्रोस्कोप बनाया, जिससे रॉबर्ट हुक ने कोशिका के बारे में कई जानकारी हासिल की। 

सूक्ष्‍मदर्शी : (एक यंत्र जिसमें बहुत वस्‍तुएँ इतनी बड़ी दिखाई देती है कि हम इन्‍हें सरलता से देख सकें)

रॉबर्ट हुक जीवाश्मों के पर्यवेक्षक थे। वह माइक्रोस्कोप के तहत जीवाश्मों का निरीक्षण करने वाले पहले व्यक्ति थे। उन्होंने एक ओर जली हुई लकड़ी और जीवाश्म के गोले और दूसरी ओर जीवित लकड़ी और जीवित मोलस्क के गोले के बीच घनिष्ठ समानताएँ देखीं। 

अरस्तू के समय से ही जीवाश्म ज्ञात और चर्चा में थे। आमतौर पर यह माना जाता था कि जीवाश्म पृथ्वी के भीतर बनते और बढ़ते हैं। 

जीवित चीजों की तरह दिखने वाले पत्थर (जीवाश्म) वास्तव में जीवित चीजों के अवशेष नहीं हैं, बल्कि एक रचनात्मक शक्ति या ‘असाधारण लोचदार प्रभावकारिता’ द्वारा बनाए गए हैं। (माइक्रोस्कोप के जनक)

सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak
सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak

चौदहवीं और सोलहवीं शताब्दी में यूरोप में कला, साहित्य और ज्ञान का महान पुनरुद्धार, यानी पुनर्जागरण के दौरान, शास्त्रीय स्रोतों पर आधारित, कोनराड गेसनर जैसे विद्वानों ने जीवाश्म एकत्र किए और उन्हें संग्रहालयों और अलमारियाँ में प्रदर्शित किया। हालांकि वैज्ञानिकों को सत्रहवीं शताब्दी के अंत तक जीवाश्मों की उत्पत्ति और प्रकृति के बारे में कुछ भी पता नहीं था। सत्रहवीं शताब्दी में भी जीवाश्मों की उत्पत्ति के लिए कई परिकल्पनाएँ प्रस्तावित की गई थीं। हुक के जीवाश्मों के अध्ययन ने उन्हें यह एहसास कराया कि जीवाश्म ‘प्रकृति का खेल’ नहीं थे, बल्कि जीवों के अवशेष थे जो कभी जीवित थे।

बर्नार्ड पेल्सी और निकोल्स स्टेना जैसे अन्य प्रकृतिवादियों का मानना ​​​​था कि जीवाश्म जानवरों और पौधों के शांत अवशेष थे, जिन्हें बाढ़ से ठोस चट्टानों में फ़िल्टर किया गया था। हुक द्वारा जीवाश्मों की उत्पत्ति और प्रकृति की व्याख्या करने के लिए प्रस्तावित सिद्धांत बाद में सही साबित हुए। हालांकि जिस समय हुक ने अपना जीवाश्म सिद्धांत प्रस्तुत किया, वह उनकी स्वीकृति के लिए उपयुक्त समय नहीं था, हूक ने चार्ल्स डार्विन से लगभग ढाई सौ साल पहले भविष्यवाणी की थी कि जीवाश्म रिकॉर्ड दस्तावेज पृथ्वी पर जीवों के बीच बदलते हैं। . उन्होंने महसूस किया कि पृथ्वी पर जीवन के इतिहास के दौरान, प्रजातियां अस्तित्व में आई हैं और गायब हो गई हैं। 

हुक का माइक्रोग्राफिया 1665 ई. में ही प्रकाशित हुआ था। इस पुस्तक में विभिन्न क्षेत्रों को शामिल किया गया है।एक संयोजी माइक्रोस्कोप और रोशनी प्रणाली के साथ हुक द्वारा देखे गए, इस पुस्तक में विभिन्न प्रकार की वस्तुओं के विस्तृत चित्र शामिल हैं। रॉबर्ट हुक ने कीड़े, स्पंज, ब्रायोजोअन (सूक्ष्म जल जंतु जो शाखा करते हैं, मांस की तरह कालोनियों का निर्माण करते हैं और नवोदित द्वारा प्रजनन करते हैं), फॉरिया मिनिफेरा (समुद्री प्रोटोजोआ जिसका खोल कैल्शियम और छोटी खाल से भरा होता है और जिसमें पतले तंतु होते हैं) का वर्णन किया है। विभिन्न जीव जैसे पक्षी के पंख।

माइक्रोग्राफिया उनके अवलोकनों का एक सटीक और विस्तृत रिकॉर्ड है। इसमें 57 में से अधिकांश चित्र स्वयं हुक द्वारा और कुछ प्रसिद्ध क्रिस्टोफर व्रेन द्वारा बनाए गए थे। माइक्रोस्कोप की सहायता से बनाई गई ये छवियां इतनी सटीक थीं कि कोई मक्खी की आंख, मधुमक्खी के डंक के अंग का आकार, पिस्सू और जूं की शारीरिक रचना, पंखों की संरचना और मोल्डों के प्रकार देख सकता था। रॉबर्ट हुक ने माइक्रोस्कोप का उपयोग पौधों के ऊतकों की विशेषताओं को ‘कोशिकाओं’ के रूप में वर्णित करने के लिए किया क्योंकि वे मोज़ेक कोशिकाओं के समान थे। 

रॉबर्ट हुक के बाद 1673 ई. में डच वैज्ञानिक एंटोनी वैन ल्यूवेन हुक ने डायमंड पाउडर के अध्ययन का इस्तेमाल किया और एक साधारण लयबद्ध माइक्रोस्कोप बनाया, जिसकी मदद से वस्तु को लगभग तीन सौ गुना बड़ा देखना संभव था। एंटनी ने माइक्रोस्कोप की मदद से कई बैक्टीरिया, प्रोटोजोआ और कोशिकाओं का अध्ययन किया। उनके द्वारा बनाया गया सूक्ष्मदर्शी भी सरल था। 

सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak
सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak

इसके बाद, इतालवी वैज्ञानिक मार्सिज़ो मालपिज़ी ने कोशिकाओं और विभिन्न प्रकार के अंगों का अध्ययन करने के लिए रॉबर्ट हुक और ल्यूवेन हॉक के उपकरणों में सुधार किया। 

उन्नीसवीं सदी में जर्मनी, ब्रिटेन, अमेरिका आदि देशों के वैज्ञानिकों ने इसमें सुधार किया, जिसका प्रयोग आमतौर पर सभी प्रयोगशालाओं में किया जाता है। इस युक्ति में वस्तु का आवर्धन कई प्रकार के तलों के संयोजन से किया जाता है। इसी कारण इसे ‘संयुक्त सूक्ष्मदर्शी’ कहते हैं। इसमें वस्तु का आकार दो हजार से तीन हजार गुना बड़ा देखा जा सकता है। 

1843 में, बर्क ने एक परावर्तक सूक्ष्मदर्शी का आविष्कार किया। इसके बाद 1900 ई. में जिगमंडी ने अल्ट्रा (अल्ट्रा) माइक्रोस्कोप बनाया, जिसका उपयोग सूक्ष्म जीवों के अध्ययन में किया जाता है। 

1932 ई. में, दो जर्मन वैज्ञानिकों, ‘नॉल और रुस्का’ ने इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप का आविष्कार किया। इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी दो प्रकार के होते हैं 

(i) ट्रांसमिशन इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप, (ii) स्कैनिंग इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप। 

इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप से वस्तुओं को दो लाख से पांच लाख गुना बड़ा देखा जा सकता है। इसमें प्रकाश किरणों के स्थान पर इलेक्ट्रॉन किरणों का तथा कांच के लेंसों के स्थान पर चुंबकीय क्षेत्र का प्रयोग किया जाता है। 

1935 ई. में एफ. जर्निक ने शेप डिफरेंसर यानी कंडीशन कम्पेरेटिव माइक्रोस्कोप का भी आविष्कार किया। इन्हीं दिनों डार्क फील्ड माइक्रोस्कोप का भी आविष्कार हुआ था। 

1945 ई. में कुज्जा नाम के एक वैज्ञानिक ने सुपरइम्पोज़्ड फ्लोरोसेंट इवन माइक्रोस्कोप का आविष्कार किया। इसके अलावा अन्य सूक्ष्मदर्शी में पराबैंगनी सूक्ष्मदर्शी शामिल हैं। 

आवर्धन शक्ति छह हजार गुना तक है। इसमें क्वार्ट्ज या लिथियम फ्लोराइड के लेंस का इस्तेमाल किया जाता है।

आज सूक्ष्मदर्शी में अनेक सुधार हुए हैं और आगे भी करते रहेंगे, जिससे सूक्ष्मदर्शी के नए आविष्कार से अधिक क्षमता वाले सूक्ष्मदर्शी का आविष्कार हो सके।

सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak
सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak

माइक्रोस्कोप – परिभाषा, प्रकार, उपयोग

यह वैज्ञानिक उपकरण है जो बहुत छोटी वस्तुओं को बड़ा करता है जो नग्न आंखों को दिखाई नहीं देती हैं। इसके अलावा, एक माइक्रोस्कोप की मदद से, हम विभिन्न जीवों को देख सकते हैं जिन्हें हम देख या अध्ययन नहीं कर सकते हैं।

माइक्रोस्कोप क्या है?

यह एक ऑप्टिकल उपकरण को संदर्भित करता है जो किसी वस्तु को बड़ा करने के लिए लेंस या लेंस की व्यवस्था का उपयोग करता है। साथ ही, वे विभिन्न जीवों को देखने में मदद करते हैं। इसके अलावा, माइक्रोस्कोप की रोशनी सूक्ष्मजीवों को देखने में मदद करती है।

माइक्रोस्कोप के प्रकार

दायरा विभिन्न प्रकार का होता है। य़े हैं:
1. कंपाउंड माइक्रोस्कोप

यह एक उपकरण है जिसमें दो लेंस होते हैं (दो लेंसों का सेट) ये लेंस उद्देश्य और ओकुलर हैं। इसके अलावा, वे रोशनी के स्रोत के रूप में दृश्य प्रकाश का उपयोग करते हैं।

2. डार्कफील्ड माइक्रोस्कोप

इन सूक्ष्मदर्शी में एक उपकरण होता है जो प्रदीपक से प्रकाश को बिखेरता है। इसके अलावा, यह काली पृष्ठभूमि पर नमूने को सफेद दिखाने के लिए ऐसा करता है।

3. इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप

यह एक दायरा है कि प्रकाश के बजाय एक छवि बनाने के लिए इलेक्ट्रॉन के प्रवाह का उपयोग करता है। इसके अलावा, यह माइक्रोस्कोप वायरस, प्रोटीन , लिपिड, राइबोसोम और यहां तक ​​कि छोटे अणुओं की छवियों को बढ़ाता है।

4. प्रतिदीप्ति माइक्रोस्कोप

ये स्कोप उन नमूनों को रोशन करने के लिए पराबैंगनी प्रकाश का उपयोग करते हैं जो प्रतिदीप्त होते हैं। इसके अलावा, अधिकतर, देखे गए नमूने पर एक फ्लोरोसेंट एंटीबॉडी या डाई जोड़ा जाता है।

5. कंट्रास्ट / चरण माइक्रोस्कोप

यह दायरा एक विशेष कंडेनसर का उपयोग करता है जो कोशिकाओं के अंदर संरचनाओं की जांच की अनुमति देता है। इसके अलावा, वे एक मिश्रित प्रकाश का उपयोग करते हैं।

सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak
सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak

यह जानकारी और पोस्ट आपको कैसी लगी ?

मुझे आशा है की आपको हमारा यह लेख सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak जरुर पसंद आया होगा मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की आपको सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak. के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे आपको किसी दुसरी वेबसाइट या इन्टरनेट में इस विषय के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत नहीं पड़े।  जिससे आपके समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में आपको सभी तरह की जानकारी भी मिल जाएगी। 

अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी तो कमेंट box में अपने विचार दे ताकि हम इस तरह की और भी पोस्ट करते रहे। यदि आपके मन में इस पोस्ट को लेकर कोई भी किसी भी प्रकार की उलझन या हो या आप चाहते हैं की इसमें कुछ और सुधार होना चाहिए तो इसके लिए आप नीच comment box में लिख सकते हैं।

यदि आपको यह पोस्ट सूक्ष्मदर्शी के जनक : sookshmadarshee ke janak पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तो कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे WhatsApp, Facebook, Instagram, Telegram, Pinterest, Twitter, Google+  और Other Social media sites पर शेयर जरुर  कीजिये।

|❤| धन्यवाद |❤|…

Leave a Comment

error: Content is protected !!