माँ पर भाषण » Maa Par Bhasan

Rate this post

आज हम माँ पर भाषण पढ़ेंगे । माँ सबसे प्यारी और पूज्य होती है। दुनिया में किसी भी तरह का प्यार माता-पिता के प्यार की बराबरी नहीं कर सकता। एक माँ अपने बच्चे की सबसे अच्छी कोच और गाइड होती है। मां वो पहली शख्स होती है जिसे हम अपनी खुशी में सबसे पहले याद करते हैं। माँ को ईश्वर की शक्ति से उनके गर्भ में गहरे प्रेम और देखभाल के साथ एक नया जीवन विकसित करने का आशीर्वाद प्राप्त है। कई बार हमें मातृ दिवस जैसे अवसरों पर हमारे जीवन में माताओं की भूमिका के लिए अपने प्यार और सम्मान का इजहार करना पड़ता है। इसलिए यहां हम आपको बहुत अच्छी गुणवत्ता वाला भाषण देने में आपकी मदद करने के लिए माँ पर कुछ भाषण प्रदान कर रहे हैं जिसे बहुत सारे दर्शकों ने सराहा है।

माँ पर लंबा और छोटा भाषण

माँ पर भाषण » Maa Par Bhasan
माँ पर भाषण » Maa Par Bhasan

माँ पर भाषण – 1

सभी को सुप्रभात! हम आज यहां हमारे जीवन में सबसे प्रिय और महत्वपूर्ण व्यक्ति मां को धन्यवाद देने के लिए हैं। हम में से कोई भी मां के बिना अपने जीवन की कल्पना नहीं कर सकता। इतना दर्द और पीड़ा सहकर हमें इस खूबसूरत दुनिया में लाने के लिए हम सभी उनके आभारी हैं।

अगाथा क्रिस्टी के शब्दों को उद्धृत करने के लिए, “एक माँ का अपने बच्चे के लिए प्यार दुनिया की हर चीज़ से बड़ा होता है। वह कोई कानून नहीं जानता, किसी से नहीं डरता। इसमें हर चीज से लड़ने और अपने बच्चे के रास्ते पर चलने का साहस है।” मेरे अंदर आने वाली हर मुसीबत को कुचलने वाली जनता है।”

एक माँ अपने बच्चों को अपने खून से गर्भ में रखती है और अपने बच्चों के पालन-पोषण के लिए बहुत त्याग करती है। वह इस धरती पर भगवान का विकल्प है। माता-पिता के प्यार से बढ़कर दुनिया में कोई प्यार नहीं हो सकता। दुनिया के सभी महापुरुष अपनी मां के समर्थन और भक्ति के कारण उन ऊंचाइयों तक पहुंचे हैं जो हमेशा उनके लिए खड़े रहे और उन्हें प्रतियोगिता के लिए आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। गांधीजी एक ऐसे व्यक्ति के उदाहरण हैं, जो अपनी मां पुतलीबाई के प्रेम और भक्ति से ऊपर उठे हैं।

माँ को समर्पित कविता ~

घुटनों से रेंगते रेंगते,
कब पैरों पर खड़ा हुआ,
तेरी ममता की छाँव में,
जाने कब बड़ा हुआ,
काला टीका दूध मलाई,
आज भी सबकुछ वैसा है,
मैं ही मैं हूँ हर जगह,
प्यार ये तेरा कैसा है,
सीधा साधा भोला भाला,
मैं ही सबसे अच्छा हूँ,
कितना भी हो जाऊं बड़ा,
माँ मैं आज भी तेरा बच्चा हूँ।

मैं आज तक कभी ये जान न पाया,
माँ को मेरे कुछ कहने से पहले ही,
कैसे सब समझ आया,
माँ के पास जरूर होगी,
कोई जादू की छड़ी,
मैं मांगू उससे पहले,
वह कर देती हर बात पूरी,
माँ तो माँ है माँ के आगे कुछ भी नहीं,
माँ को ही बतानी होती है,
सबसे पहले हर बात नयी,
माँ मेरी दोस्त है सबसे खास,
सुरक्षित है मेरे सार राज उसके पास..!!

इस दुनिया में प्रवेश करने से लेकर इस दुनिया को अलविदा कहने तक, हम अपने जीवन में कई रिश्ते बनाते हैं। कुछ रिश्ते कुछ समय के लिए बनते हैं, कुछ हमें धोखा देते हैं, कुछ हमें तब छोड़ देते हैं जब हमें उनकी सबसे ज्यादा जरूरत होती है और कुछ हर तरह के सुख-दुख में हमारा साथ देते हैं। लेकिन जो व्यक्ति बिना लालच के इंसान की परवाह करता है, प्यार करता है और प्यार करता है वह “माँ” है। माँ अपने बच्चे की प्रशिक्षक और मार्गदर्शक होती है। वह हमें सिखाती है कि जीवन की परेशानियों का सामना कैसे करना है, कैसे बोलना है, कैसे लिखना है और व्यवहार के सभी सबक सिखाते हैं जो हमें बेहतर इंसान बनने में मदद करते हैं और इस दुनिया में हमारे आचरण को अच्छा रखते हैं।

हर माँ को अपने बच्चों के लिए किए गए सभी कार्यों और बलिदानों के लिए उचित सम्मान और प्रशंसा दी जानी चाहिए। माँ अपने बच्चों के लिए सब कुछ करती है और अब हमारा समय इस कर्तव्य को निभाने का है। हमें अपनी पूरी कोशिश करनी चाहिए कि हम अपनी माँ के प्रति अरुचि का कारण न बनें और उन्हें चोट न पहुँचाएँ। हमें यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि जन्म के समय से ही हम हर चीज के लिए अपनी मां पर निर्भर रहते थे। एक शख्स है जिसने हर वक्त हमारा साथ दिया और पूरे दिल से हमारा पालन-पोषण किया। उनका प्यार और स्नेह अतुलनीय है।

हमारी मां हमारी सुरक्षा कवच है जो हमें हर तरह के हमलों और मुश्किलों से बचाती है। वह अपने सभी दुखों को भूलकर अपने बच्चे की जरूरतों का ख्याल रखती है। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आज मदर्स डे है, हम सभी को विशेष रूप से इस विशेष दिन पर न केवल अपनी माताओं को खुश करने का संकल्प लेना चाहिए, बल्कि जीवन भर अपनी माताओं की देखभाल भी करनी चाहिए।

अंत में मैं मदर्स डे पर यहां मौजूद सभी माताओं को शुभकामनाएं देना चाहता हूं और ईश्वर से प्रार्थना करना चाहता हूं कि उन्हें साहस और शक्ति प्रदान करें ताकि वे हर चुनौतीपूर्ण स्थिति का सामना कर सकें।

शुक्रिया।

माँ पर भाषण – 2

माँ पर भाषण » Maa Par Bhasan
माँ पर भाषण » Maa Par Bhasan

आप सभी को सुप्रभात!

आप सभी का गर्मजोशी से स्वागत करते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है! आशा है कि आप सभी इस अवसर पर अपना कीमती समय देकर स्वस्थ और संतुष्ट होंगे।

आज हम सब अपने जीवन में सबसे सुंदर और अद्भुत व्यक्तित्व “माँ” के बारे में बात करने के लिए यहाँ एकत्रित हुए हैं। विभिन्न भाषाओं में बोली जाने वाली, पृथ्वी पर सबसे सुंदर आत्मा के लिए यह शब्द समान ध्वनियों के साथ-साथ प्रेम के भावों को भी उद्घाटित करता है। मां वो होती है जो अपने बच्चे के लिए भगवान से कम नहीं होती। शायद भगवान की भौतिक उपस्थिति हर जगह संभव नहीं थी जिसके कारण उन्होंने “माँ” नाम की एक मूर्ति बनाई। माँ वह होती है जो एक साथ कई काम करना जानती है। उसे कोई फर्क नहीं पड़ता कि उसे क्या काम दिया जाता है, वह हमेशा जानती है कि उसे सही समय पर सही तरीके से कैसे पूरा करना है। पैसे कमाने से लेकर खाना बनाने तक और हमारे दोषों के लिए हमें डांटने से लेकर हमें लाड़ करने तक, वह अपने किरदार को बेहद प्यार और स्नेह से निभाती है।

हमारी मां हमारे अस्तित्व की निर्माता हैं। माँ ही है जिसने हमें यह एहसास दिलाया कि जीवन वास्तव में क्या है? उन्होंने हमें जीवन देने के साथ-साथ हममें कई गुणों को भी जन्म दिया है। यही है ना

मेरा मानना ​​है कि वह एक धागा है जो पूरे परिवार को एक साथ बांधती है, वह हमें प्रेरित करती है और हमारी ताकत बढ़ाती है और हमें इस दुनिया का सम्मान, आत्मविश्वास और ताकत के साथ सामना करने में मदद करती है जैसे हम आज हैं। सक्षम करता है।

माँ ही है जो हमारे जीवन की नींव रखती है, जो हमें शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से सक्षम बनाती है और हमें दुनिया का सामना करने की शक्ति देती है। वह पहले व्यक्ति हैं जिन्हें हम अपने सुख और दुख के समय में याद करते हैं। वह पहला व्यक्ति है जो हमारे दिमाग में तब आता है जब हम अस्वस्थ होते हैं, जब हम दुखी होते हैं, जब हम कुछ हासिल नहीं कर पाते हैं या जब हम सफलता की सबसे बड़ी ऊंचाई पर पहुंच जाते हैं।

आइए हम अपने आप से पूछें कि क्या वह वह व्यक्ति नहीं है जिसका पहला विचार हमारे दिमाग में तब आता है जब हम किसी स्थिति से डरते हैं या अपने बिस्तर पर बीमार पड़ते हैं। हाँ! वह वही है। हर सुबह उठने के बाद हम अपना लंच पैक करते हैं, लंच के समय तक यह पुष्टि करने के लिए कि हमारा लंच तैयार है या नहीं, यह हमारी मां है जो हमारी देखभाल करती है। अच्छा देखता है। मैं सभी माताओं को उनके अस्तित्व के लिए धन्यवाद देता हूं, क्योंकि उनकी वजह से ही हम आज यहां हैं।

किसी ने ठीक ही कहा है, “हर सफल आदमी के पीछे एक महिला का हाथ होता है”। मैं इस उदाहरण का समर्थन करता हूं और कहना चाहता हूं कि यह महिला ‘मां’ के अलावा और कोई नहीं हो सकती। माँ वो होती है जिसकी दुआ सिर्फ अपने बच्चों के लिए होती है क्योंकि वो माँ ही होती है जो सारे संसार को अपने में समेटे रहती है और अपने गर्भ में एक पूर्ण जीवन को गहरे प्यार और देखभाल से पालती है।

अपनी बात को समाप्त करते हुए मैं यही कहना चाहूंगा कि आप सभी अपनी मां के साथ प्रेम और सम्मान से पेश आएं। हमेशा उसके आभारी रहें क्योंकि आप यह जीवन सिर्फ अपनी मां की वजह से जी रहे हैं। हम सभी का यह दायित्व है कि हम अपनी मां का सम्मान करें और उनकी देखभाल करें। आप इसे अपना प्यार या कुर्बानी कह सकते हैं लेकिन मां ही है जिसने हमारे अस्तित्व को सार्थक बनाया है।

मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ माँ!

आपको धन्यवाद !

माँ पर भाषण – 3

माँ पर भाषण » Maa Par Bhasan
माँ पर भाषण » Maa Par Bhasan

यहां आने वाले सभी लोगों को सुप्रभात!

इस कार्यक्रम में आप सभी का हार्दिक स्वागत है, मैं आशा करता हूँ कि आप सभी का दिन मंगलमय हो और आप इस कार्यक्रम को लेकर उत्साहित हों।

हम सब आज यहां दुनिया की सबसे खूबसूरत और महत्वपूर्ण शख्सियत के बारे में बात करने के लिए इकट्ठे हुए हैं, जिन्हें मां के नाम से जाना जाता है। मां के इस शब्द को अलग-अलग भाषाओं में अलग-अलग नामों से जाना जाता है लेकिन हर भाषा में इसका अर्थ एक ही होता है। माँ वह है जो अपने बच्चों के लिए दुनिया में भगवान से कम नहीं है क्योंकि भगवान दुनिया में हर जगह भौतिक रूप से मौजूद नहीं हो सकते हैं, इसलिए उन्होंने माँ की तरह एक महान व्यक्तित्व बनाया है। मैं मां को एक साथ कई काम करने वाली देवी मानता हूं, जो हमारे लिए काम करते-करते कभी नहीं थकती। हमारे पास बस सोचने का समय है और वह हमारे लिए सब कुछ करती है, चाहे खाना बनाना हो या पैसा कमाना। वह हमारी परवाह भी करती है और हमारी गलतियों के लिए हमें फटकार भी देती है, वह अपनी हर जिम्मेदारी को बड़े प्यार और स्नेह से निभाती है।

इसके साथ ही हमारी मां हमारे अस्तित्व की निर्माता भी हैं। वह वह व्यक्ति है जो हमें सिखाती है कि जीवन वास्तव में क्या है। उन्होंने हमें जीवन देने के साथ-साथ अच्छे संस्कार भी दिए हैं।

मेरा मानना ​​है कि एक परिवार में मां ही एक ऐसी सदस्य होती है जो पूरे परिवार को एक सूत्र में बांधे रखती है। वह हमें प्रेरित करती है और हमें मजबूत बनाने के साथ-साथ सब कुछ करती है, जिससे हममें और भी अधिक गर्व, आत्मविश्वास और शक्ति का जन्म होता है।

माँ वह व्यक्ति है, जो हमें मानसिक और शारीरिक दोनों रूप से विकसित करती है, ताकि हम इस दुनिया की हर समस्या का सामना कर सकें। मां अपने बच्चे के लिए सुबह की रोशनी के समान होती है। जिसका वह सुख-दुख दोनों में इंतजार करते हैं। जब हम उदास या उदास होते हैं तो हमारे दिमाग में सबसे पहले मां ही आती है।

बहुत सारे लोग मेरी इस बात से सहमत होंगे कि जब हम डरते हैं या बीमार होते हैं तो सबसे पहले हम अपनी मां के बारे में सोचते हैं। हमें सुबह उठने से लेकर हमारे लिए खाना बनाने तक सब कुछ इन्हीं के द्वारा किया जाता है। इसके साथ ही उन्हें इस बात की भी चिंता रहती है कि हमने खाना खाया या नहीं, दरअसल वह हमारा हर तरह से ख्याल रखती हैं। इसके लिए मैं हर एक मां का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं क्योंकि आज हम जो कुछ भी हैं अपनी मां की वजह से हैं।

किसी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा है कि “हर पुरुष की सफलता के पीछे एक महिला का हाथ होता है।” लेकिन मैं इसमें थोड़ा सा बदलाव करना चाहूंगी क्योंकि मेरे हिसाब से किसी व्यक्ति की सफलता में सबसे बड़ा योगदान अगर किसी का होता है तो वह उसकी मां का ही होता है। एक मां को हमेशा अपने बच्चों की चिंता रहती है क्योंकि वह अकेली मां है, जो अपने बच्चों के लिए पूरी दुनिया है और इससे उसे अपने गर्भ में पल रहे बच्चे का पालन-पोषण करने की ईश्वर से यह विशेष शक्ति प्राप्त होती है-

अंत में बस इतना ही कहना चाहूंगा कि हम सभी को हमेशा अपनी मां का ख्याल रखना चाहिए और उनका सम्मान करना चाहिए। हम हमेशा उनके ऋणी रहेंगे क्योंकि उन्होंने हमें जीवन दिया है। इसलिए यह सबकी जिम्मेदारी है कि हम हमेशा अपनी मां का सम्मान करें और उनकी सेवा करें। आप इसे मां की ममता कहें या कुर्बानी, लेकिन असल में वह वही शख्स है। जिसने हमारे जीवन के महत्व को अर्थ दिया है।

मेरे भाषण को इतने ध्यान से सुनने और अपना बहुमूल्य समय देने के लिए आप सभी का धन्यवाद।

माँ पर भाषण – 4

माँ पर भाषण » Maa Par Bhasan
माँ पर भाषण » Maa Par Bhasan

आप सभी को सुप्रभात!

मुझे बहुत खुशी है कि आज मुझे मदर्स डे के इस खास दिन पर आप सभी के सामने अपने विचार व्यक्त करने का अवसर मिला है.

क्या आपने कभी खुद से पूछा है कि मां कौन है? असल में मां वह होती है जो अपने बच्चे के लिए अपना सबकुछ दे देती है। वह खुद सिर्फ अपने बच्चे की अच्छी नींद के लिए पूरी रात नहीं सोती है। जब तक उसका बच्चा खाना नहीं खाता तब तक वह खुद नहीं खाती, वह खुद भूखा रहकर अपने हिस्से का भरण-पोषण करती है।

मां शब्द का अर्थ बहुत ही अनूठा और सम्माननीय है। अगर हमें इस खूबसूरत दुनिया में जीवन जीने का मौका मिला है, तो इसका श्रेय हमारी मां को ही जाता है। हमें जन्म देते समय कितना दर्द सही होता है ये तो हमारी मां नहीं जानती, लेकिन हमारी एक मुस्कान से वो अपने सारे दर्द और गम भूल जाती है।

एक माँ अपने बच्चे से सबसे ज्यादा प्यार करती है और उस पर जीत पाने के लिए कोई और नहीं कर सकता। अपने बेजोड़ प्यार और अपनत्व के कारण, वह हमारे लिए किसी भी समस्या को लेने के लिए तैयार है। जब हमारे भविष्य और भलाई की बात आती है, तो वह सबसे बड़े संकट का सामना करने से नहीं कतराती है। हमें जन्म से लेकर जीवन भर कई रिश्ते देखने को मिलते हैं। जिनमें से कुछ आपको धोखा देते हैं, कुछ आपकी जरूरत के समय आपके साथ नहीं होते हैं और कुछ अपने स्वार्थ के कारण ही आपके साथ होते हैं। लेकिन ‘मातृत्व’ वह बंधन है, जिसकी हमारे त्याग और भलाई के लिए कोई सीमा और स्वार्थ नहीं है।

माँ हमारी सारी चिंताओं और दुखों को अपने अंदर ले लेती है और हमें कभी यह महसूस नहीं होने देती कि हम अकेले हैं। हमारे लिए उनका प्यार हमारी सबसे खराब स्थिति में भी कभी कम नहीं होता है। वह एक ऐसी शख्सियत हैं जो हमारे लिए पूरी दुनिया की तरह हैं।

इस दुनिया में मां ही एक ऐसी शख्सियत है जो बिना किसी स्वार्थ या लाभ के हमारे लिए चौबीसों घंटे काम करती है। उसके लिए कोई दिन की छुट्टी नहीं है और न ही उसे इसके लिए किसी भी तरह का पारिश्रमिक मिलता है, लेकिन तब केवल हमारी खुशी के लिए, वह हमारे जीवन को और भी बेहतर बनाने के लिए दिन-रात काम करती है।

अंत में मैं आप सभी से यही कहना चाहूंगा कि हमें हमेशा भगवान की मां का सम्मान करना चाहिए। इसके साथ ही हमें संकल्प लेना चाहिए कि हम हमेशा अपनी मां के जीवन को और भी बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे।

अंत में बस इतना ही कहना चाहूंगा कि मां सिर्फ एक शब्द नहीं बल्कि अपने आप में एक पूरी दुनिया है। अपना कीमती समय देने और मेरे इस भाषण को इतने ध्यान से सुनने के लिए आप सभी का धन्यवाद।

“माँ की ममता – पापा का प्यार” ~

घर मेरा एक बरगद है…..
मेरे पापा जिसकी जड़ है…!!
घनी छायो है मेरी माँ..
यही है मेरे आसमान…!!
पापा का है प्यार अनोखा..
जैसे शीतल हवा का झोका …!!
माँ की ममता सबसे प्यारी …
सबसे सुंदर सबसे नयारी….!!
हाथ पकड़ चलना सिखलाते
पापा हमको खूब घूमते ….!!
माँ मलहम बनकर लग जाती …
जब भी हमको चोट सताती..!!
माँ पापा बिन दुनिया सुनी
जैसे तपती आग की धुनी..!!
माँ ममता की धारा है …
पिता जीने का सहारा है…!!

पूछा  कि  जायदाद  में  क्या  चाहिए  तुझे …!

होंठो   से   मेरे   सिर्फ   मेरी   मां   निकला …!!♥️

Fun-hindi.com 💚

Leave a Comment

error: Content is protected !!