‘मेरा देश’ पर निबंध | mera desh par nibandh

आइए जानते हैं ‘मेरा देश’ पर निबंध | mera desh par nibandh के बारे में। मेरे देश की राष्ट्रभाषा “हिन्दी” है। “वंदे मातरम” राष्ट्रगान है। “जन गण मन” राष्ट्रगान है। मेरे देश का राष्ट्रीय पक्षी “मोर” है.

मेरा देश इंडिया निबंध का परिचय

'मेरा देश' पर निबंध | mera desh par nibandh
‘मेरा देश’ पर निबंध | mera desh par nibandh

मेरे देश का नाम पूरे विश्व में गर्व का विषय है। मेरे देश की परंपरा वीरता संस्कृति या जिसे आप भौगोलिक कहते हैं वह सभी परिस्थितियों में महान है। मेरे देश की परंपरा वीरता संस्कृति या जिसे आप भौगोलिक कहते हैं वह सभी परिस्थितियों में महान है। जहां इतने प्राचीन काल में इसे आर्यावत के नाम से पुकारा जाता था। भले ही मेरे भारत देश ने कई संकटों और युद्धों का सामना किया हो, लेकिन हर क्षेत्र में मेरा देश हर युग में अग्रणी रहा है।

मेरे देश में महात्मा गांधी जैसे राष्ट्रपिता का जन्म हुआ जिन्होंने आजादी के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी। मेरे देश की राष्ट्रभाषा “हिन्दी” है। “वंदे मातरम” राष्ट्रगान है। “जन गण मन” राष्ट्रगान है। मेरे देश का राष्ट्रीय पक्षी “मोर” है। मेरे भारत देश का राष्ट्रीय पशु “बाघ” है। राष्ट्रीय चिन्ह “तुला” है। जो न्याय का प्रतीक है। मेरे देश भारत का भविष्य उज्जवल था और उज्जवल रहेगा।

मेरा देश एक कृषि प्रधान देश है

'मेरा देश' पर निबंध | mera desh par nibandh
‘मेरा देश’ पर निबंध | mera desh par nibandh

मेरा देश एक कृषि प्रधान देश है, यहाँ मक्का, ज्वार, गेहूँ, बाजरा आदि सभी प्रकार के अनाज का उत्पादन होता है। मेरे देश में सिंधु घाटी सभ्यता के समय से कृषि की जा रही है। मेरे देश में लगभग 51% क्षेत्र में कृषि की जाती है, कुल 52% लोग कृषि से अपनी आजीविका चलाते हैं। मेरा देश एक कृषि प्रधान देश है और दूसरे देशों में भी अग्रणी है।

मेरे देश भारत की नदियाँ और राज्य

'मेरा देश' पर निबंध | mera desh par nibandh
‘मेरा देश’ पर निबंध | mera desh par nibandh

मेरे देश में हिमालय से निकलने वाले शुद्ध शुद्ध जल की धाराएँ हैं। मेरे देश में गंगा, यमुना, सतलुज, गोदावरी आदि अनेक नदियाँ हैं, मेरे देश की नदियाँ पूजनीय हैं। मेरे देश में कुछ ऐसे राज्य हैं जिन्होंने कई खनिजों को अपनी गोद में समेट लिया है। कश्मीर, नैनीताल, शिमला, कुल्लू मनाली जैसे राज्य- जिनकी प्राकृतिक सुंदरता किसी जन्नत से कम नहीं है।

मेरे देश भारत की संस्कृति

'मेरा देश' पर निबंध | mera desh par nibandh
‘मेरा देश’ पर निबंध | mera desh par nibandh

मेरे देश की संस्कृति अनेकता में एकता पर आधारित है। विविधता में यह एकता केवल एक शब्द नहीं है बल्कि यह देश की संस्कृति और विरासत में पूरी तरह से लागू है। मेरा देश दुनिया के नक्शे पर अपनी रंगीन और अनूठी संस्कृति की छाप छोड़ रहा है। मेरा देश मरिया, चोल, मुगल काल और ब्रिटिश साम्राज्य तक अपनी परंपरा और अतिथि के लिए प्रसिद्ध था। मेरे देश ने उन अंग्रेजों का भी स्वागत किया जिन्होंने मेरे देश पर कई वर्षों तक शासन किया, लेकिन उनके राजनयिक के कारण, मेरे देश ने विविधता में एकता दिखाई और उन्हें मेरा देश छोड़ने के लिए मजबूर किया। मेरे देश की संस्कृति और कला भी नृत्य और संगीत की वजह से है। मेरे देश की संस्कृति अन्य देशों की तुलना में बहुत आकर्षक है।

मेरे देश भारत का कानून

'मेरा देश' पर निबंध | mera desh par nibandh
‘मेरा देश’ पर निबंध | mera desh par nibandh

मेरे देश में रहने वाले सभी लोगों के लिए सामान्य आचरण का पालन करें, इसके लिए कुछ नियम बनाए गए हैं, जिनका पालन मेरे देश के प्रत्येक नागरिक के लिए आवश्यक है जो इसका पालन नहीं करता है, उसके लिए मेरे में न्यायपालिका द्वारा सजा निर्धारित की गई है। देश। गया है। मेरे देश में लोकतंत्र है। मेरे देश में सभी पर समान कानून लागू होता है और मेरे देश के प्रत्येक नागरिक के लिए इसका पालन करना आवश्यक है।

माई कंट्री इंडिया प्लेस इन साइंस एंड टेक्नोलॉजी

मेरे देश का नाम विज्ञान और प्रौद्योगिकी में बहुत विकसित हुआ है, सभी देशों में विज्ञान और प्रौद्योगिकी में नई खोजें हो रही हैं, लेकिन मेरा देश भी इस दौड़ में पीछे नहीं है। मेरे देश में वैज्ञानिक खोजों के लिए कई वैज्ञानिक शामिल हैं। जिसमें सीवी रमन, जगदीश चंद्र बसु, श्रीनिवास रामानुजन और कई अन्य वैज्ञानिक बने। उन्होंने भौतिकी, चिकित्सा विज्ञान, खगोल विज्ञान, सभी में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। मेरे देश का नाम रोशन किया है।

निष्कर्ष

मेरे देश के बारे में लिखना हो तो शब्द कम पड़ेंगे, इतना दर्द और खून सह कर आजादी तो मिली है, लेकिन फिर भी हार नहीं मानी। आज मेरा देश जिसे सोने की चिड़िया कहा जाता था , अंग्रेजों ने चुरा लिया, लेकिन आज मेरे देश ने अपनी मेहनत, लगन और ईमानदारी से उसी मुकाम को हासिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी, मुझे अपने देश पर गर्व है।

Share On facebook *****

Leave a Comment

error: Content is protected !!