(COVID-19) Corona par nibandh in hindi 100, 200, 500, 1000 words

Rate this post

‘कोविड 19’ या ‘नोवेल कोरोना वायरस’ बीमारी एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम कोरोनावायरस – 2 (SARS-CoV-2) के कारण होने वाली बीमारी है (Corona par nibandh) जो कोरोनावायरस परिवार का एक नया खोजा गया सदस्य है। नीचे दिए गए निबंधों में हम COVID 19 की पहचान और उपचार, इसके कारण, निवारक उपाय, इसके लक्षण और उपचार आदि के बारे में जानेंगे।

Corona par nibandh in hindi निबंध – COVID 19 Hindi में

यहां मैं कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, और कक्षा 12 के छात्रों के लिए अंग्रेजी में 100 में अलग-अलग शब्द सीमा में कोरोना वायरस रोग पर छोटे और लंबे निबंध प्रस्तुत कर रहा हूं। 150, 200, 250, 300, 500 शब्द से उन्हें अपने स्कूल के काम में कुछ मदद मिल सकती है। भाषा Hindi me को सरल रखा गया है ताकि प्रत्येक छात्र निबंधों को ठीक से समझ सके।

कोरोना वायरस रोग पर निबंध 10 लाइन (100 – 150 शब्द) (Corona par nibandh)

1) उपन्यास कोरोनावायरस या कोविड -19 2019 में दुनिया में पेश की गई बीमारी है।

2) यह रोग एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलने में सक्षम है।

3) यह वायरस मुख्य रूप से श्वसन प्रणाली पर हमला करता है जिससे रोगी को सांस लेने में कठिनाई होती है।

4) बुखार, सांस लेने में तकलीफ, खांसी आदि कोविड-19 के सामान्य लक्षण हैं।

5) कम रोग प्रतिरोधक क्षमता वाला व्यक्तिइस रोग का अधिक शिकार होता है।

6) संक्रमित व्यक्ति की रिपोर्ट निगेटिव आने तक उसे इलाज के लिए क्वारंटीन रखा जाता है।

7) डॉक्टर्स भी बार-बार हैंडवॉश और सैनिटाइजर के इस्तेमाल की सलाह देते हैं।

8) सोशल डिस्टेंसिंग और भीड़ से बचने से कोरोना वायरस से बचाव में मदद मिलेगी।

9) खुद को ट्रांसमिशन से बचाने के लिए लोगों को हमेशा मास्क पहनना चाहिए।

10) इस बीमारी के कारण कई लोगों ने अपनी और अपनों की जान गंवाई।


निबंध 1 (250 शब्द) – COVID 19 का पता कैसे लगाएं और उसका इलाज कैसे करें

(COVID-19) Corona par nibandh in hindi 100
(COVID-19) Corona par nibandh in hindi 100

परिचय

नवंबर 2019 में निमोनिया जैसे लक्षणों वाली एक रहस्यमयी बीमारी के फैलने से चीन की नींद खुल गई थी। फर्क सिर्फ इतना है कि यह बीमारी सामान्य निमोनिया से अलग थी और प्रभावित लोग निमोनिया के सामान्य उपचार का जवाब नहीं दे रहे थे। तब से COVID 19 नामक बीमारी दुनिया के बाकी हिस्सों में फैल गई है, जिससे वैश्विक स्तर पर 1.05 मिलियन लोगों की मौत हुई है।(Corona par nibandh)

COVID 19 जांच और उपचार

COVID 19 के लक्षण सामान्य फ्लू के समान हैं, जिससे बीमारी का पता लगाना अधिक कठिन हो जाता है। बुखार, खांसी और सांस लेने में तकलीफ और सीने में जकड़न जैसे लक्षण देखे जाते हैं। अक्सर संक्रमित व्यक्ति बीमारी को फ्लू समझ लेता है, जिससे उपचार में और देरी हो जाती है।

COVID 19 का पता एक विशेष COVID 19 परीक्षण किट के साथ प्रमाणित प्रयोगशालाओं द्वारा किए गए परीक्षणों से चलता है।

COVID 19 बीमारी का कोई पक्का इलाज नहीं है। काम करने का तरीका लक्षणों का इलाज करना है और अंत में रिकवरी इस बात पर निर्भर करती है कि रोगी उपचार के प्रति कैसी प्रतिक्रिया देता है। एक बार उपचार शुरू होने के बाद, रोगी को हर 48 घंटों में वायरस के तनाव के लिए परीक्षण किया जाता है। परीक्षण नकारात्मक आने तक रोगी को पूर्ण संगरोध में रखते हुए उपचार जारी रखा जाता है। लगातार दो टेस्ट निगेटिव आने के बाद ही मरीज को डिस्चार्ज किया जाता है।

निष्कर्ष

COVID 19 गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम कोरोनावायरस – 2 (SARS-CoV-2) के कारण होता है, जिसमें एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में स्पर्श, सतह के संपर्क या हवा के माध्यम से यात्रा करने की एक अलग क्षमता होती है। यदि कोई संक्रमित व्यक्ति छींकता है, तो पूरी संभावना है कि वह हवा में वायरस फैलाता है, जो विभिन्न सतहों पर बैठ जाता है और संपर्क में आने वाले व्यक्ति को संक्रमित कर देता है। COVID 19 को रोकने के लिए नियमित रूप से हाथ धोना और शारीरिक संपर्क से बचना महत्वपूर्ण सक्रिय उपाय हैं।

निबंध 2 (400 शब्द) – कोविड 19: एक वैश्विक महामारी (Corona par nibandh)

परिचय

COVID 19 एक ऐसी बीमारी है जो इंसानों के श्वसन तंत्र को प्रभावित करती है। यह पहली बार दिसंबर 2019 में चीन के वुहान में प्रकोप के बाद खोजा गया था। तब से यह बीमारी दुनिया के बाकी हिस्सों में तेजी से फैल गई है।(Corona par nibandh)

कोविड 19 – एक वैश्विक महामारी

31 दिसंबर 2019 को चीन के वुहान में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के कंट्री ऑफिस में पहली बार इस बीमारी की सूचना मिलने के बाद से यह 180 से अधिक देशों में फैल चुकी है, जिससे दुनिया दहशत में है।

विश्व स्तर पर इसके व्यापक होने के कारण, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने COVID 19 को वैश्विक चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया था। बड़ी संख्या में देशों में COVID 19 के मामलों की पुष्टि होने के बाद, इसे 11 मार्च 2020 को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा महामारी घोषित कर दिया गया।(Corona par nibandh)

पूरे विश्व में, कुल 7,863,044 सक्रिय COVID 19 मामले दर्ज किए गए हैं और अब तक वैश्विक मृत्यु संख्या 1,055,644 है। वैश्विक आंकड़ों में भारत में 9,10,275 मामले और 104,591 मौतें हुई हैं। यहां प्रस्तुत आंकड़े 7 अक्टूबर 2020 तक के हैं।

कोविड 19 का क्या कारण है?

COVID 19, कोरोनावायरस परिवार के एक वायरस के कारण होता है। सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम कोरोनावायरस – 2 (SARS-CoV-2) नामक इस वायरस को दुनिया ने पहली बार जाना है। चूंकि वायरस पूरी तरह से नया है, इसलिए इससे होने वाली बीमारी का कोई इलाज नहीं है, और यह सबसे परेशान करने वाला सच है जिसका सामना आज दुनिया कर रही है।

SARS-CoV-2 वायरस के उसी परिवार से है जो SARS (सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम) और MERS (मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम) जैसी बीमारियों के लिए जिम्मेदार रहा है।(Corona par nibandh)

COVID 19 के लिए निवारक उपाय

इस जानकारी के मद्देनजर कि कम से कम अभी के लिए COVID 19 का कोई इलाज नहीं है, इसलिए इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है।

  • रोग मानव से मानव संपर्क में फैलता है; इसलिए सभी स्तरों पर व्यक्तिगत स्वच्छता का अभ्यास करें।
  • सामाजिक दूरी बीमारी के प्रसार को रोकने में बहुत उपयोगी है।
  • अपने हाथ नियमित रूप से धोएं।
  • वायरस मुंह, आंख और नाक के जरिए शरीर में प्रवेश करता है; इसलिए अपने चेहरे को हाथों से छूने से बचें।
  • यदि फ्लू के लक्षण विकसित होते हैं जो समय के साथ बिगड़ते जाते हैं; संबंधित अधिकारियों को तुरंत रिपोर्ट करें।

निष्कर्ष

COVID 19 का इलाज अभी तक नहीं खोजा जा सका है; इसलिए, बीमारी की रोकथाम ही इसे रोकने का एकमात्र तरीका है। यह हमारा कर्तव्य है कि हम चिकित्सा बिरादरी की सलाह का पालन करें ताकि इस वैश्विक महामारी से और कोई जान न जाए।

निबंध 3 (600 शब्द) – क्या कोविड 19 को इतना घातक बनाता है (Corona par nibandh)

(COVID-19) Corona par nibandh in hindi 100
(COVID-19) Corona par nibandh in hindi 100

परिचय

COVID 19, कोरोनावायरस रोग 2019 का संक्षिप्त नाम है। कोरोनाविरस वायरस के एक बड़े परिवार का एक समूह है जो स्तनधारियों और पक्षियों में श्वसन संबंधी बीमारियों के लिए जिम्मेदार है। COVID-19 परिवार का एक नया वायरस है, जिसे दिसंबर 2019 में चीन के वुहान में खोजा गया था।

कोविड 19 क्या है?

COVID 19 उसी कोरोनावायरस परिवार का एक तनाव है जिसे पहले मनुष्यों में गंभीर श्वसन रोग पैदा करने के लिए पहचाना गया था। वायरस का एक ही परिवार 2000 में SARS (सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम) और 2017 में MERS (मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम) के प्रकोप के लिए जिम्मेदार था।(Corona par nibandh)

हालाँकि, नवंबर 2019 में, चीन के वुहान में कोरोनावायरस परिवार का एक और घातक तनाव खोजा गया था। यह वायरस आनुवंशिक रूप से एक ही कोरोनावायरस परिवार का था लेकिन पहले इसके बारे में पता नहीं था। इस प्रकार इसका नाम रखा गया – गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम कोरोनावायरस – 2 (SARS-CoV-2) और इससे होने वाली बीमारी को ‘नॉवेल कोरोनावायरस रोग’ या ‘COVID 19’ कहा जाता है।

क्या है कोविड 19 इतना घातक?

वायरस SARS-CoV-2, जो COVID 19 का कारण बनता है, पहली बार खोजा गया है। हालांकि कोविड 19 के लक्षण मौसमी फ्लू के समान हैं; वैज्ञानिक और डॉक्टर दशकों से फ्लू का अध्ययन कर रहे हैं। फ्लू में आश्चर्य का कोई तत्व नहीं है जैसा कि COVID 19 के मामले में है। इसके इलाज के बारे में कम या बिल्कुल ज्ञान नहीं है या यह कितने समय तक रहने वाला है, COVID 19 को किसी भी अन्य बीमारी की तुलना में अधिक घातक बना देता है।

COVID 19 को खतरनाक बनाने वाला एक और सबसे महत्वपूर्ण कारक यह है कि यह मानव से मानव में अत्यधिक संचारी है। एक संक्रमित व्यक्ति हाथ के सामान्य स्पर्श से ही एक स्वस्थ व्यक्ति को वायरस पहुंचा सकता है। SARS-CoV-2 वायरस सतह पर तीन से चार दिनों तक और हवा में तीन से चार घंटे तक रहने में भी सक्षम है। (Corona par nibandh)

COVID-19 के लक्षण

COVID 19 के कई लक्षण सामान्य फ्लू के समान हैं, इतना कि प्रारंभिक अवस्था में यह बताना असंभव है कि कोई व्यक्ति COVID 19 से संक्रमित है या उसे सामान्य फ्लू है। किसी व्यक्ति में कोविड-19 के तनाव को निर्धारित करने के लिए प्रशिक्षित चिकित्सा पेशेवरों द्वारा आयोजित एक विशिष्ट परीक्षण की आवश्यकता होती है। COVID 19 के लक्षण नीचे दिए गए हैं-

  • गले में दर्द के साथ खांसी
  • भोजन निगलने में कठिनाई
  • पेट खराब होना और भूख न लगना
  • हल्का बुखार आमतौर पर 100°F से थोड़ा ऊपर होता है
  • सांस लेने में कठिनाई
  • सीने में लगातार दर्द या दबाव
  • भ्रम और गतिहीनता जैसे अन्य लक्षण बाद के चरणों में प्रमुख हो सकते हैं।

सबसे ज्यादा जोखिम किसे है?

हालांकि कोविड 19 सभी आयु वर्ग के व्यक्तियों को प्रभावित करता है, लेकिन श्वसन या हृदय रोगों के नैदानिक ​​इतिहास वाले लोग सबसे अधिक जोखिम में हैं। दुनिया भर में कोविड-19 के रिपोर्ट किए गए मामलों की संख्या का अध्ययन अन्य बीमारियों से संबंधित एक पैटर्न तैयार करता है। मधुमेह, रक्तचाप, अस्थमा, तपेदिक या किसी अन्य बीमारी से पीड़ित लोग कोविड 19 के शिकार होने के लिए अधिक संवेदनशील होते हैं। साथ ही, मौजूदा बीमारियों के मद्देनजर उपचार के प्रति उनकी प्रतिक्रिया काफी कम हो जाती है।(Corona par nibandh)

लक्षण विकसित होने की स्थिति में उठाए जाने वाले कदम

यदि आपको संदेह है कि किसी को COVID 19 हो सकता है, तो भारत सरकार द्वारा कुछ दिशानिर्देश जारी किए गए हैं। उस स्थिति में, आप निम्नलिखित प्रक्रियाओं का पालन कर सकते हैं।

  • सबसे पहले व्यक्ति को परिवार के बाकी लोगों से तुरंत क्वारंटीन कर दें।
  • जल्द से जल्द परिसर को सेनेटाइज करें।
  • यदि लक्षण नए विकसित हुए हैं, तो 3-4 दिनों के लिए और विकास देखें।
  • यदि लक्षण बिगड़ते हैं, तो संबंधित अधिकारियों को तुरंत सूचित करें।

निष्कर्ष

अभी COVID 19 का कोई इलाज नहीं है। महज नौ महीनों में ही 180 से ज्यादा देश इससे प्रभावित हो चुके हैं। हालाँकि दुनिया एक शक्तिशाली COVID 19 वैक्सीन के लिए शोध कर रही है, लेकिन यह जल्द ही उपलब्ध नहीं लगती है। तब तक, बीमारी के प्रसार को रोकने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि सामाजिक दूरी और व्यक्तिगत स्वच्छता जैसे उपाय करके खुद को संभावित वाहकों से जितना हो सके दूर रखें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: कोरोनावायरस रोग पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (Corona par nibandh)

Q.1 कोरोना का मूल शब्द क्या है?

उत्तर । कोरोना शब्द लैटिन भाषा के शब्द से बना है जिसका अर्थ ताज होता है।

Q.2 कोरोनावायरस का जीनोम आकार क्या है?

उत्तर । कोरोनावायरस के जीनोम का आकार 26-32 किलोबेस होता है।

Q.3 दुनिया में पहली बार मानव कोरोना वायरस की खोज कब हुई थी?

उत्तर । 1960 में दुनिया में पहली बार मानव कोरोनावायरस की खोज की गई थी।

Q.4 मानव शरीर का कौन सा अंग कोविड-19 रोग से सबसे अधिक प्रभावित होता है?

उत्तर । मानव शरीर में फेफड़े कोविड-19 बीमारी से सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं।

Q.5 कोविड-19 संक्रमण के निदान के लिए कौन सा परीक्षण किया जाता है?

उत्तर । कोविड-19 संक्रमण का पता लगाने के लिए आरटी-पीसीआर परीक्षण (रियल-टाइम रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन-पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन) किया जाता है।

Q.6 भारत में covid-19 का पहला मामला कब और कहाँ सामने आया था?

उत्तर । केरल में 30 जनवरी 2020 को कोविड-19 का पहला मामला सामने आया था।

Leave a Comment

error: Content is protected !!