स्वच्छता के महत्व पर भाषण (svachchhata ke mahatv par bhashan) : November 2022

Rate this post

आइए जानते हैं स्वच्छता के महत्व पर भाषण (svachchhata ke mahatv par bhashan) के बारे में। स्वच्छता का महत्व एक ऐसा विषय है जो शायद सभी उम्र के लोगों के लिए समान महत्व रखता है। किसी के जीवन में इसका उतना ही महत्व है जितना कि एक व्यक्ति विशेष का, जितना कि एक छोटे बच्चे के जीवन में होता है। स्वच्छता कई प्रकार की हो सकती है। कभी व्यावहारिक तो कभी वैचारिक। जब बच्चा छोटा होता है तब से हम उसे अच्छी आदतें सिखाते हैं। जिसमें साफ-सफाई भी शामिल है, उसी तरह हमें बच्चों को व्यक्तिगत साफ-सफाई के साथ-साथ अपने आसपास की साफ-सफाई की भी शिक्षा देनी चाहिए। उन्हें बताया जाना चाहिए कि देश की सफाई भी हमारा कर्तव्य है।

स्वच्छता के महत्व पर भाषण लंबा और छोटा

स्वच्छता के महत्व पर भाषण : svachchhata ke mahatv par bhashan
स्वच्छता के महत्व पर भाषण : svachchhata ke mahatv par bhashan

svachchhata ke mahatv par bhashan – 1

एक आदर्श जीवन वह है जिसमें जीवन व्यवस्थित होता है। संगठित होने का अर्थ है सही आदतों से चिपके रहना, क्योंकि बहुत सारा पैसा होने के बाद भी अगर हमारे व्यवहार में स्वच्छता नहीं है, तो हमारा पैसा व्यर्थ है। स्वच्छता अच्छी आदतों में से एक है और अच्छी आदतें सभी को अपनी ओर आकर्षित करती हैं और जब जीवन में सभी का सही मिश्रण होता है तो उस व्यक्ति का एक अलग नाम होता है।

जीवन में स्वच्छता का महत्व इतना अधिक है कि हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी ने भी इसे समझते हुए स्वच्छ भारत अभियान जैसे राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रमों की शुरुआत की। जिसका मुख्य उद्देश्य भारत को स्वच्छ के साथ-साथ पूरी तरह से खुले में शौच मुक्त बनाना है। गंदगी के कारण फैली कई घातक बीमारियां और उनसे बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने शरीर, घर, आसपास के क्षेत्र, स्कूल, ऑफिस की रोजाना सफाई करें। 

जरूरी नहीं कि आपको हर जगह सफाई करनी पड़े, जरूरत है तो जागरूकता की। कभी भी कूड़ा इधर-उधर न फेंके और कोई फेंके तो उसे समझाएं। देश का सच्चा नागरिक होने के नाते सार्वजनिक स्थानों को गंदा न करें, अपने स्कूल, ऑफिस को साफ रखें। इस तरह आप खुद ही अंदाजा लगा सकते हैं कि साफ-सफाई किसी भी व्यक्ति के जीवन के लिए कितनी अहमियत रखती है। मुझे उम्मीद है कि आप लोग स्वच्छता के महत्व को समझ गए होंगे।

स्वच्छ भारत, सुरक्षित भारत। शुक्रिया।

svachchhata ke mahatv par bhashan – 2

स्वच्छता के महत्व पर भाषण : svachchhata ke mahatv par bhashan
स्वच्छता के महत्व पर भाषण : svachchhata ke mahatv par bhashan

उपस्थित सभी बड़ों को मेरा नमस्कार, मैं नमिता हूँ जो कक्षा 2 में पढ़ती है और आज मैं आप सभी को स्वच्छता का महत्व समझाने आई हूँ। यह एक ऐसा विषय है जिससे सभी को अवगत होना चाहिए, क्योंकि स्वच्छता हमारे जीवन का अभिन्न अंग है। और इसके बिना शायद एक व्यवस्थित जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती। जैसे हमारे लिए सांस लेना, खाना खाना जरूरी है, उसी तरह साफ-सफाई भी जरूरी है। और इसका महत्व हम सभी के जीवन में बहुत ही ज्यादा होता है।

एक छोटा बच्चा जब इस दुनिया में आता है तो उसे कुछ नहीं पता, उसे सब कुछ सिखाया जाता है। इसी क्रम में उसमें साफ-सफाई की आदत भी डाली जाती है। जिसे बाद में वह अपनी आदत बना लेते हैं। जीवन में स्वच्छता का पालन करना दर्शाता है कि हम अपने जीवन में अनुशासित भी हैं।

स्वच्छता हर क्षेत्र के लिए जरूरी है। आप जहां भी जाते हैं जैसे स्कूल, घर, मंदिर, कार्यालय आदि। हर जगह स्वच्छता का समान महत्व है। जितना हम अपने घर को साफ रखते हैं, उतना ही दूसरे स्थानों को भी साफ रखना चाहिए, सार्वजनिक स्थानों को कभी गंदा नहीं करना चाहिए। क्योंकि वे देश की धरोहर हैं और हमारा देश ही हमारी पहचान है। जब तक हम अपनी विरासत की रक्षा नहीं करेंगे, तब तक हमारे यहां आने वाले पर्यटक कहां से आएंगे। इसलिए साफ-सफाई जरूरी है और इसका महत्व काफी बढ़ जाता है। मुझे उम्मीद है कि मैंने स्वच्छता के महत्व को समझने में आपकी कुछ हद तक मदद की होगी।

इसके साथ धन्यवाद।

svachchhata ke mahatv par bhashan – 3

स्वच्छता के महत्व पर भाषण : svachchhata ke mahatv par bhashan
स्वच्छता के महत्व पर भाषण : svachchhata ke mahatv par bhashan

आप सभी को हमारे माननीय प्रधानाचार्य, उप प्राचार्य, साथियों और हमारे प्रिय छात्रों की ओर से सुप्रभात !!

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमारे देश के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने लोगों को सभी स्थानों पर स्वच्छता और स्वच्छता के उच्च स्तर को बनाए रखने के लिए पूरे भारत में बड़े उत्साह के साथ स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की है। हमारे घर, कार्यस्थल, सार्वजनिक स्थान, सड़कें आदि हों। इसलिए छात्रों में उस भावना को विकसित करना हमारी जिम्मेदारी बनती है।

जिस तरह भोजन, पानी, ऑक्सीजन और अन्य चीजें हमारे अस्तित्व के लिए जरूरी हैं, उसी तरह स्वच्छता भी हमारे स्वस्थ शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। क्या हम लोगों के मलेरिया, पीलिया आदि रोगों से मरने की खबर नहीं सुनते, जो गंदे वातावरण में पनपते हैं? इसलिए ऐसे मामलों को रोकने के लिए भारत के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने पर ध्यान देना चाहिए जो हमारे देश में आने वाले विदेशियों की आंखों, आत्मा और दिल और दिमाग में सम्मानजनक स्थान हासिल करने में मदद करेगा।

और अगर इस स्वच्छ भारत अभियान में प्रत्येक भारतीय नागरिक कुछ हद तक योगदान देता है, तो हम सोच भी नहीं सकते कि यह इस अभियान के उद्देश्य को पूरा करने में कितना कारगर साबित होगा। वास्तव में आप अपने आस-पास रहने वाले लोगों को या जिन्हें आप जानते हैं, उनके दैनिक जीवन में स्वच्छता के महत्व के बारे में भी सिखा सकते हैं।

हालाँकि प्रिय छात्रों कृपया यह भी समझने की कोशिश करें कि आप इसे सभी पर लागू नहीं कर सकते। स्वच्छता एक अच्छी आदत है और हर कोई इसके साथ पैदा नहीं होता है, इसलिए जो लोग सफाई नहीं करते हैं, वे स्वच्छता के लाभों को समझाने की कोशिश करते हैं, जो दूसरों पर अपने विचार थोपने के बजाय स्वच्छता पर जोर देता है। स्वच्छता भी विभिन्न प्रकार की हो सकती है जैसे व्यक्तिगत स्वच्छता, पर्यावरणस्वच्छता, कार्यस्थल की सफाई (जैसे हमारे कार्यालय, स्कूल, कॉलेज आदि)। 

हमें अपने दैनिक जीवन में स्वच्छता बनाए रखने में ज्यादा समय नहीं लगता है – जैसे हम खाना पकाने, खाने, नहाने आदि नियमित सफाई कार्य करते हैं, वैसे ही स्वच्छता भी हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न अंग बन जाना चाहिए। दरअसल, फर्श या सड़क पर कचरा न फेंकना, कूड़ेदान में कचरा फेंकना, सड़क पर थूकना या पेशाब न करना आदि छोटी-छोटी चीजें करके हम अपने पर्यावरण में काफी बदलाव ला सकते हैं।

हमें इससे समझौता नहीं करना चाहिए और अपने बच्चों को बचपन से ही इसका अभ्यास कराना चाहिए ताकि वे एक जिम्मेदार व्यक्ति के रूप में बड़े हों जो स्वस्थ जीवन जीना जानता हो। यह आदत माता-पिता को अपने बच्चों में डालनी चाहिए क्योंकि माता-पिता, विशेष रूप से माँ उनके बच्चे और उसके व्यक्तित्व को सही तरीके से आकार देने में मदद करती है।

हम अभी भी इस मुद्दे के प्रति असंवेदनशील क्यों हैं जबकि हम जानते हैं कि स्वच्छता भगवान का दूसरा रूप है? प्रदूषण के रूप में पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने सहित कई गंभीर स्वास्थ्य खतरे पैदा हो सकते हैं। गंदे वातावरण में रोगाणु फैल जाते हैं जिन्हें हम अपनी नंगी आंखों से नहीं देख सकते हैं और हम कल्पना भी नहीं कर सकते हैं कि रोगाणुओं की संख्या कितनी तेजी से बढ़ती है। यदि हमारे वातावरण में प्रदूषण बढ़ता है तो यह अस्थमा, कैंसर, सीने में दर्द, फेफड़ों में संक्रमण जैसी बीमारियों का कारण बनेगा, जिससे व्यक्ति की मृत्यु निश्चित है।

इसलिए यह सही समय है कि हम जन चेतना को जगाकर इसे स्वच्छ रखें, ताकि हम अपने पर्यावरण की रक्षा कर सकें और अस्वस्थ वातावरण के कारण मरने वाले सैकड़ों लोगों की जान बचा सकें।

शुक्रिया।

svachchhata ke mahatv par bhashan – 4

स्वच्छता के महत्व पर भाषण : svachchhata ke mahatv par bhashan
स्वच्छता के महत्व पर भाषण : svachchhata ke mahatv par bhashan

सुप्रभात मेरे प्रिय महोदय, महोदया और मेरे सभी दोस्तों को नमस्कार। मैंने आज सुबह की बैठक के लिए स्वच्छता को अपना विषय चुना है। यह दिनचर्या, परिवेश और स्वच्छता का एक बहुत ही आवश्यक हिस्सा है।

स्वच्छता केवल शारीरिक ही नहीं, सामाजिक और मानसिक भी है, जो एक अच्छे व्यक्तित्व को बनाए रखने और दूसरों पर अच्छा प्रभाव डालने में मदद करती है। स्वच्छता तन, मन और आत्मा को स्वच्छ और शांत रखकर अच्छे चरित्र का निर्माण करती है।

क्या ऐसा नहीं है कि जब हम खुद को और अपने आस-पास को साफ रखते हैं तो हम मजबूत और अमीर महसूस करते हैं? यह हमारी आत्मा को सकारात्मक और खुश करता है। स्वच्छता बनाए रखना स्वस्थ जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, क्योंकि स्वच्छता ही बाहरी और आंतरिक रूप से स्वच्छ रहकर हमारे व्यक्तित्व को बेहतर बनाने में मदद करती है।

किसी ने ठीक ही कहा है कि स्वच्छता ही धर्म का मार्ग है। इसका मतलब है कि स्वच्छता बनाए रखना और अच्छे विचार रखने से लोग भगवान के करीब या करीब आते हैं। व्यक्तिगत स्वच्छता को शरीर और आत्मा की पवित्रता का प्रतीक माना जाता है जो स्वस्थ और आध्यात्मिक संबंध प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण है। अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त करने, सकारात्मक रहने और नैतिक जीवन जीने के लिए स्वच्छता बहुत महत्वपूर्ण है।

हमारे शिक्षक चारों ओर स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए उत्सुक हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे जानते हैं कि एक स्वस्थ, सुखी और शांतिपूर्ण जीवन जीने के लिए हम सभी को जीवन के हर पहलू में स्वच्छ आदतों का अभ्यास करना चाहिए क्योंकि अस्वस्थ परिस्थितियाँ बुराई को जन्म देती हैं जबकि स्वच्छता पवित्रता का प्रतीक है।

खुद को साफ रखना या अपने आसपास को साफ रखना ज्यादा मुश्किल नहीं है। हमें इसे अपने लिए, अपने आंतरिक सुख और शांति के लिए करना चाहिए। मनुष्य के रूप में यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम उन्हें सुरक्षित और स्वच्छ रहने के लिए प्रोत्साहित करें। स्वच्छता हमें एक सकारात्मक सार्वजनिक छवि बनाने में मदद करती है और हमें स्वस्थ और समृद्ध रहने में मदद करती है।

स्वच्छता बनाए रखने से हम खुद को बीमारियों और अस्वस्थ सामाजिक, शारीरिक और मानसिक आंतरिक असुरक्षाओं से बचा सकते हैं। नियमित सफाई को अपनी दिनचर्या में शामिल करना बहुत आसान है। हमें स्वच्छता से कभी समझौता नहीं करना चाहिए। भोजन और पानी हमारे लिए बहुत जरूरी है।

मुझे खुशी है कि मेरे माता-पिता और शिक्षकों ने मुझे हमेशा प्रेरित किया है और पर्यावरण को बचाने की कोशिश की है। उन्होंने हमेशा स्वच्छता और स्वच्छता के महत्व पर जोर दिया है। प्रत्येक बच्चे को स्वच्छता का महत्व बताया जाना चाहिए। उन्हें यह बचपन से विरासत में मिलनी चाहिए। स्वच्छ खाने की आदतें, साफ कपड़े, चीजों को इधर-उधर न गिराना, शौचालय का उपयोग करने के बाद उसकी सफाई करना कुछ बहुत ही आवश्यक स्वच्छता रणनीतियाँ हैं जिन्हें सभी को समझना चाहिए और उनका पालन करना चाहिए।


अशुद्ध वातावरण सृष्टिकर्ता का अपमान है। भगवान ने जो कुछ भी बनाया है वह सुंदर है, और माँ प्रकृति अपनी शक्ति और साधन में पृथ्वी की स्वच्छता और स्वच्छता बनाए रखने के लिए है। मनुष्य ही है जो पर्यावरण को गंदा करता है। उन कारणों के लिए जो खुद को सबसे अच्छी तरह से जानते हैं, बहुत बार, मनुष्य इसे इस तरह रखने में प्रसन्न होता है। 

जब आप किसी धार्मिक स्थान पर जाते हैं तो पहले स्नान नहीं करते? क्या आप अपने सबसे अच्छे कपड़े नहीं पहनते हैं? याद रखें, यह दुनिया हमारा मंदिर है और हमें जो पहला मानदंड अपनाना चाहिए वह है व्यक्तिगत स्वच्छता। इसमें शरीर, कपड़े, सामान और घर को साफ रखना शामिल है। यह बीमारियों को रोकता है और जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाता है। यह दिमाग को भी तरोताजा रखता है और हमें बेहतर काम करने के लिए प्रेरित करता है। 

साफ-सफाई का विस्तार पड़ोस और सामान्य रूप से पर्यावरण की ओर भी होना चाहिए। इसके लिए जरूरी है कि प्रत्येक व्यक्ति स्वच्छ सामाजिक और नागरिक आदतों का विकास करे। सड़कों पर थूकना, सार्वजनिक रूप से पेशाब करना या जहां चाहे कूड़ा फेंकना गलत है। इस तरह की चीजें करना केवल इस अद्भुत जगह को खराब करता है जो हमें सर्वशक्तिमान - हमारे ग्रह पृथ्वी द्वारा उपहार में दी गई है। 

✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰✰

स्वच्छता पर 10 पंक्तियाँ देवभक्ति के आगे हैं :-

1) “स्वच्छता देवभक्ति के आगे है” एक मुहावरा है जिसे “जॉन वेस्ले” द्वारा 1778 में गढ़ा गया था।

2) इसका मतलब है कि हमें खुद को साफ रखना चाहिए क्योंकि यह हमारी आत्माओं को अच्छाई देता है।

3) यह वाक्यांश स्वस्थ जीवन के लिए स्वच्छता के महत्व को दर्शाता है।

4) स्वच्छता का अर्थ केवल हमारे शरीर की सफाई ही नहीं है बल्कि यह विचारों की स्वच्छता पर भी जोर देती है।

5) भारतीय परंपरा में, स्वच्छता जीवन शैली का एक अभिन्न अंग है और स्वच्छता के बिना हर अनुष्ठान या उत्सव अधूरा है।

6) स्वच्छता का महत्व हमारे माता-पिता और शिक्षकों द्वारा बचपन से ही सिखाया जाता है।

7) अपने दांतों को ब्रश करना और रोजाना नहाना खुद को साफ करने की पहली प्रक्रिया है।

8) खाना खाने से पहले हाथ धोना सबसे अच्छी आदत है जो हमें कई तरह की बीमारियों से बचाती है।

9) स्वच्छ भारत अभियान भारत को एक स्वच्छ देश बनाने के लिए सरकार द्वारा की गई सबसे अच्छी पहलों में से एक है।

10) स्वच्छता न केवल हमें स्वस्थ रखने में मदद करती है बल्कि यह पवित्रता और अच्छाई का भी प्रतीक है।


यह जानकारी और पोस्ट आपको कैसी लगी ?

मुझे आशा है की आपको हमारा यह लेख ➯ स्वच्छता के महत्व पर भाषण : svachchhata ke mahatv par bhashan जरुर पसंद आया होगा मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की आपको ➯ स्वच्छता के महत्व पर भाषण : svachchhata ke mahatv par bhashan के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे आपको किसी दुसरी वेबसाइट या इन्टरनेट में इस विषय के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत नहीं पड़े।  जिससे आपके समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में आपको सभी तरह की जानकारी भी मिल जाएगी। 

अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी तो कमेंट box में अपने विचार दे ताकि हम इस तरह की और भी पोस्ट करते रहे। यदि आपके मन में इस पोस्ट को लेकर कोई भी किसी भी प्रकार की उलझन या हो या आप चाहते हैं की इसमें कुछ और सुधार होना चाहिए तो इसके लिए आप नीच comment box में लिख सकते हैं।

यदि आपको यह पोस्ट ➯ स्वच्छता के महत्व पर भाषण : svachchhata ke mahatv par bhashan पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तो कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे WhatsApp, Facebook, Instagram, Telegram, Pinterest, Twitter, Google+ और Other Social media sites पर शेयर जरुर कीजिये।

|❤| धन्यवाद |❤|…

Leave a Comment

error: Content is protected !!