स्वच्छता पर भाषण ★ (Svachchhata par bhashan) ★ 300, 400, 600 और 1000 शब्दों में

Rate this post

आइए जानते हैं svachchhata par bhashan के बारे में। स्वच्छता हमारे जीवन का अभिन्न अंग है और हम इसे बचपन से सीखते आ रहे हैं और उम्र के साथ यह हमारी आदत बन जाती है। हम बचपन से अन्य व्यवहार सीखते हैं जैसे बोलना, चलना, उसी तरह हमें स्वच्छता के बारे में भी सिखाया जाता है, आप एक छोटे बच्चे का उदाहरण ले सकते हैं जो बिस्तर पर करने के बजाय रोने लगता है जब भी उसे शौचालय जाना होता है। हम चाहे किसी भी उम्र के हों, स्वच्छता हमेशा हमारे साथ चलती है। हमें जीवन भर स्वच्छता का ध्यान रखना चाहिए।

Contents

स्वच्छता पर भाषण लंबा और छोटा

स्वच्छता पर भाषण : svachchhata par bhashan
स्वच्छता पर भाषण : svachchhata par bhashan

svachchhata par bhashan 1

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, उप-प्रधानाचार्य महोदय, शिक्षकों और मेरे प्यारे दोस्तों, आज मैं आप सभी के सामने स्वच्छता पर कुछ शब्द बोलना चाहता हूं और आशा करता हूं कि आप सभी को यह जानकारी जरूर मिलेगी।

स्वच्छता हमारे स्वस्थ जीवन का एक अभिन्न अंग है और स्वच्छता के बिना जीवन शायद संभव नहीं है। क्योंकि गंदगी कीटाणुओं का घर है और जो कई तरह की बीमारियों को जन्म देती है। हम बच्चों को शुरू से ही कुछ अच्छी आदतें सिखाते हैं और उन्हें अपने पर्यावरण को साफ रखना भी सिखाते हैं। हमारी शारीरिक स्वच्छता के साथ-साथ आसपास के स्थानों की भी साफ-सफाई जरूरी है।

इसी तरह एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते हमारा भी कर्तव्य है कि हम अपने देश को भी स्वच्छ रखें। भारत हमारे घर की तरह है और जैसे हम अपने घर को साफ रखते हैं, वैसे ही हमें अपने देश के बारे में भी सोचना चाहिए। हमारे जीवन में जितना शारीरिक, मानसिक विचारों की शुद्धि आवश्यक है, उतनी ही हमारे चारों ओर स्वच्छता की भी आवश्यकता है। इसलिए एक जिम्मेदार नागरिक बनें और स्वच्छता को अपनाएं।

स्वच्छता अपनाएं और देश को आगे ले जाएं।

शुक्रिया।

Svachchhata par bhashan 2

स्वच्छता पर भाषण : svachchhata par bhashan
स्वच्छता पर भाषण : svachchhata par bhashan

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, उप-प्रधानाचार्य महोदय, शिक्षकों और मेरे प्यारे दोस्तों, आज मैं आप सभी के सामने स्वच्छता के बारे में कुछ शब्द बोलना चाहता हूं और इसके महत्व को अपने शब्दों में बताना चाहता हूं।

स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन का वास होता है और स्वस्थ शरीर के लिए स्वस्थ वातावरण का होना बहुत जरूरी है। हमारा शरीर तभी स्वस्थ रह सकता है जब हमारा पर्यावरण भी स्वच्छ हो और हमारा कर्तव्य है कि हमारा देश हमेशा स्वच्छ रहे।

स्वच्छता एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है जिसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। यह सच है कि हर बच्चे को उसके घर में स्वच्छता का पाठ पढ़ाया जाता है, लेकिन हमें उसके पालन को केवल घर तक ही सीमित नहीं रखना चाहिए। हमें अपने और देश के पर्यावरण के हित में भी स्वच्छता का उपयोग करना चाहिए। 

इसी को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की, जिसका मुख्य उद्देश्य देश में स्वच्छता को बढ़ाना और देश में विकास की गति को आगे बढ़ाना है। देश स्वच्छ रहेगा तो बीमारियां कम फैलेंगी और लोग बीमार कम पड़ेंगे। जिससे देश का कम पैसा बीमारियों में खर्च होगा और देश के विकास की गति और तेज होगी।

हमें बाहरी स्वच्छता के साथ-साथ आंतरिक स्वच्छता की भी आवश्यकता है। आंतरिक स्वच्छता का तात्पर्य हमारे आंतरिक विचारों की शुद्धि से है। हमें अपने विचार स्वच्छ रखने चाहिए और किसी से घृणा नहीं करनी चाहिए। जब कोई व्यक्ति बाहरी और आंतरिक सभी तरह से स्वच्छ हो तो उस देश को आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता। क्योंकि हर कोई एक दूसरे का भला चाहता है। इस तरह हमने स्वच्छता के सार्वभौम विकास के बारे में जाना और आशा करते हैं कि आप इसे अपने व्यवहार में अवश्य लागू करेंगे।

शुक्रिया।

Svachchhata par bhashan 3

स्वच्छता पर भाषण : svachchhata par bhashan
स्वच्छता पर भाषण : svachchhata par bhashan

सुप्रभात सर, मैडम और मेरे प्यारे दोस्तों। मेरा नाम है। मैं कक्षा में पढ़ रहा हूँ……. आज मैं स्वच्छता पर भाषण देना चाहता हूं। मैंने इस विषय को विशेष रूप से हमारे दैनिक जीवन में इसके बहुत महत्व के कारण चुना है। वास्तव में स्वच्छता का वास्तविक अर्थ घर, कार्यस्थल या अपने आस-पास के वातावरण से गंदगी, धूल, गन्दगी और दुर्गंध का पूर्ण अभाव है। स्वच्छता बनाए रखने का मुख्य उद्देश्य स्वास्थ्य, सौंदर्य को बनाए रखना, अप्रिय गंध को दूर करना और साथ ही गंदगी और गंदगी के प्रसार से बचना है।ताजगी और स्वच्छता प्राप्त करने के लिए हम अपने दांत, कपड़े, शरीर, बालों को रोजाना साफ करते हैं।

हम विभिन्न वस्तुओं को साफ करने के लिए विभिन्न प्रकार के उत्पादों और पानी का उपयोग करते हैं। जिस तरह हम टूथपेस्ट का इस्तेमाल दांतों की सफाई के लिए करते हैं, उसी तरह पुराने जमाने में लोग नीम के दांतों का इस्तेमाल करते थे। लेकिन शहरीकरण के कारण उनकी अनुपलब्धता ने हमें टूथपेस्ट के उपयोग से रोक दिया है। इसी तरह हम अपने बालों, नाखूनों और त्वचा को भी साफ करते हैं।

क्योंकि हर जगह कुछ रोगाणु होते हैं, जिन्हें हम अपनी आंखों से नहीं देखते हैं और सफाई इन हानिकारक सूक्ष्म जीवों (जैसे बैक्टीरिया, वायरस, कवक, कवक, शैवाल आदि) को दूर करने में सहायक होती है। स्वच्छता हमें स्वस्थ रखती है और विभिन्न प्रकार की बीमारियों को दूर रखती है, जो हानिकारक बैक्टीरिया से फैलती हैं। रोग के जीवाणु सिद्धांत के अनुसार, स्वच्छता का तात्पर्य कीटाणुओं की पूर्ण अनुपस्थिति से है। गंदगी और गंध की उपस्थिति हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली की शक्ति को कम कर सकती है।

सामान्यतः स्वच्छता दो प्रकार की होती है, पहली शारीरिक स्वच्छता और दूसरी आंतरिक स्वच्छता। शारीरिक स्वच्छता हमें बाहर से साफ रखती है और हमें आत्मविश्वास के साथ सहज महसूस कराती है। लेकिन, आंतरिक स्वच्छता हमें मन की शांति देती है और हमें चिंताओं से दूर करती है। आंतरिक स्वच्छता का अर्थ है मन में बुरी, बुरी और नकारात्मक सोच का न होना। तन, मन और तन को स्वच्छ रखना और सब में सैयम रखना ही पूर्ण स्वच्छता है। 

फिर भी हमें अपने आस-पास के वातावरण को भी स्वच्छ रखने की आवश्यकता है ताकि हम स्वच्छ और स्वस्थ वातावरण में रह सकें। यह हमें महामारी की बीमारियों से दूर रखेगा और हमें सामाजिक हित की भावना देगा।

एक पुरानी कहावत है कि “स्वच्छता भक्ति से बढ़कर है”। जॉन वेस्ली ने ठीक ही कहा है। बचपन से ही सभी घरों में स्वच्छता को प्राथमिकता दी जानी चाहिए ताकि यह छोटे बच्चों की बचपन की आदत बन जाए और जीवन भर सभी के लिए फायदेमंद हो। स्वच्छता उस अच्छी आदत की तरह है, जिससे न केवल एक व्यक्ति को लाभ होता है, बल्कि यह एक परिवार, समाज और देश और इस तरह पूरे ग्रह को भी लाभ पहुंचाता है। 

इसे किसी भी उम्र में विकसित किया जा सकता है, लेकिन बचपन से ही इस अभ्यास से चिपके रहना सबसे अच्छा है। एक बच्चे के रूप में, मैं सभी माता-पिता से अपने बच्चों में यह आदत डालने का अनुरोध करता हूं क्योंकि आप ही इस देश को एक अच्छा नागरिक बना सकते हैं।

शुक्रिया।

स्वच्छता सबसे बड़ी पहचान है।

Svachchhata par bhashan 4

स्वच्छता पर भाषण : svachchhata par bhashan
स्वच्छता पर भाषण : svachchhata par bhashan

सभी गणमान्य व्यक्तियों, प्रधानाचार्यों, शिक्षकों, शिक्षकों और मेरे प्रिय साथियों को मेरी विनम्र सुप्रभात। इस अवसर पर मैं स्वच्छता विषय पर भाषण देना चाहता हूं। मैं अपने कक्षा शिक्षक का बहुत आभारी हूँ जिन्होंने मुझे इस अवसर पर भाषण देने के लिए चुना। यह एक बहुत ही गंभीर विषय है और इसके लिए उच्च स्तर की सामाजिक जागरूकता की आवश्यकता है।

विकसित देशों (पश्चिमी यूरोप और उत्तरी अमेरिका) में लोग सफाई कर्मचारियों पर निर्भर नहीं हैं, क्योंकि वे खुद कभी भी अपनी गलियों या अपने आसपास के वातावरण को गंदा नहीं करते हैं, वे इसे दैनिक आधार पर करते हैं। हमें भी अपने देश को स्वच्छ रखने के लिए कुछ ऐसे ही कारगर कदम उठाने चाहिए। हमें अपने आसपास के क्षेत्र और सड़कों की सफाई के लिए किसी सफाई कर्मचारी का इंतजार भी नहीं करना चाहिए।

सबसे पहले हमें सार्वजनिक स्थानों को गंदा नहीं करना चाहिए और अगर वे गंदे हो गए हैं तो हमें इसे साफ करना चाहिए क्योंकि इसके लिए हम जिम्मेदार हैं। इस जिम्मेदारी को सभी भारतीय नागरिकों को समझने की जरूरत है। हमें अपनी सोच बदलने की जरूरत है क्योंकि इससे ही हम भारत को स्वच्छ रख सकते हैं। 

कई स्वच्छता संसाधन और प्रयास तब तक बहुत प्रभावी नहीं होंगे जब तक हम यह तय नहीं कर लेते कि पूरा देश हमारे घर जैसा है और हमें इसे साफ रखना है। यह हमारी संपत्ति है, दूसरों की नहीं। हमें यह समझने की जरूरत है कि एक देश एक घर की तरह होता है, जिसमें कई परिवार के सदस्य संयुक्त परिवार की तरह रहते हैं।

हमें यह समझना चाहिए कि घर के अंदर की चीजें हमारी अपनी संपत्ति हैं, और वे कभी भी गंदी और खराब नहीं होनी चाहिए। इसी तरह हमें यह भी पहचानने की जरूरत है कि, घर के बाहर भी सब कुछ हमारी अपनी संपत्ति है, और हमें उन्हें गंदा नहीं करना चाहिए और उन्हें साफ रखना चाहिए। हम सामूहिक स्वामित्व की भावना से अपने देश की बिगड़ती दशा को बदल सकते हैं। 

संरचनात्मक परिवर्तनों के स्थान पर सरकार द्वारा औद्योगिक, कृषि और अन्य क्षेत्रों से अपशिष्ट के लिए प्रभावी संयंत्रों का निर्माण करके कानून और विनियम बनाए जाने चाहिए; हमें अपनी सोच का उपयोग करके अपने प्रयासों के माध्यम से अपनी जिम्मेदारी संभालने की जरूरत है। यह केवल सरकार की जिम्मेदारी नहीं है; यह प्रत्येक भारतीय नागरिक की सामूहिक जिम्मेदारी है।

यह सच है कि हम पूरे देश को एक दिन या एक साल में साफ नहीं कर सकते, लेकिन अगर हम भारत में सार्वजनिक स्थानों पर गंदगी को फैलने से रोकने में सफल होते हैं, तो यह भी हमारा बहुत बड़ा योगदान होगा। यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम खुद को रोकें और दूसरे लोगों को भी रोकें जो हमारे भारत को गंदा कर रहे हैं। हम आमतौर पर अपने परिवारों में देखते हैं कि, घर के प्रत्येक सदस्य की कुछ विशेष जिम्मेदारी होती है (कोई झाड़ू लगाता है, कोई सफाई करता है, कोई सब्जी लाता है, कोई बाहर का काम करता है आदि), और उसे यह करना ही पड़ता है। 

किसी भी कीमत पर समय पर काम करना होगा। इसी प्रकार यदि सभी भारतीय अपने आस-पास की छोटी-छोटी जगहों के लिए अपनी जिम्मेदारियों (स्वच्छता और गंदगी को फैलने से रोकें) को समझें, तो मेरा मानना ​​है कि वह दिन दूर नहीं जब हम पूरे देश में स्वच्छता देखेंगे।

स्वच्छता अभियान शुरू करने से पहले हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हमारा मन भी स्वच्छ हो। स्वच्छता न केवल दूसरों के अच्छे को प्रभावित करती है, बल्कि स्वस्थ मन, आत्मा और पर्यावरण के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। जिस तरह हम अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए उसकी देखभाल करते हैं, उसी तरह हमें अपने देश की भी देखभाल करनी चाहिए।

स्वच्छ भारत अभियान (या स्वच्छ भारत मिशन) भारत के लगभग 4,041 शहरों और कस्बों की सड़कों, सड़कों और बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए भारत सरकार द्वारा चलाया गया एक स्वच्छता अभियान है। हमें इस राष्ट्रीय अभियान का सम्मान करना चाहिए और इसका पालन करना चाहिए और हर संभव सकारात्मक प्रयासों से इसे सफल बनाना चाहिए।

शुक्रिया।


स्वच्छता से संबन्धित प्रश्न एवं उत्तर

प्रश्न: छोटे हानिकारक सजीव पदार्थ कहलाते हैं

उत्तर: बैक्टीरिया, रोगाणु

प्रश्न: रोगाणु रहते हैं

उत्तर: धूल, पानी, हवा

प्रश्न: सर्दियों में हम नहाने के लिए ________ पानी का उपयोग कर सकते हैं

उत्तर: गर्म

प्रश्न: हमें नाखूनों को नियमित रूप से ट्रिम करना चाहिए क्योंकि हमारे ________ में भी गंदगी जमा हो जाती है।

उत्तर: उंगलियों के नाखून

Question: कीटाणु आपके दांतों पर हमला करते हैं और छोटे-छोटे छेद बनाते हैं जिन्हें कहते हैं

उत्तर: गुहाएं

सवाल: टंग क्लीनर का यूज करें अपने को साफ करने के लिए

उत्तर: जीभ

प्रश्न: अच्छी सेहत बनाए रखने के लिए आप अपने और अपने आस-पास को साफ रखने के लिए जो चीजें करते हैं, उसे कहते हैं

उत्तर: स्वच्छता


यह जानकारी और पोस्ट आपको कैसी लगी ?

मुझे आशा है की आपको हमारा यह लेख svachchhata par bhashan जरुर पसंद आया होगा मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की आपको svachchhata par bhashan के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे आपको किसी दुसरी वेबसाइट या इन्टरनेट में इस विषय के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत नहीं पड़े।  जिससे आपके समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में आपको सभी तरह की जानकारी भी मिल जाएगी। 

अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी तो कमेंट box में अपने विचार दे ताकि हम इस तरह की और भी पोस्ट करते रहे। यदि आपके मन में इस पोस्ट को लेकर कोई भी किसी भी प्रकार की उलझन या हो या आप चाहते हैं की इसमें कुछ और सुधार होना चाहिए तो इसके लिए आप नीच comment box में लिख सकते हैं।

यदि आपको यह पोस्ट svachchhata par bhashan पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तो कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे WhatsApp, Facebook, Instagram, Telegram, Pinterest, Twitter, Google+ और Other Social media sites पर शेयर जरुर कीजिये।

|❤| धन्यवाद |❤|…

Leave a Comment

error: Content is protected !!