महिलाओं की स्थिति पर निबंध | essay on status of women

Rate this post

आइए जानते हैं महिलाओं की स्थिति पर निबंध के बारे में । प्राचीन भारत में महिलाओं का बहुत सम्मान किया जाता था। लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता गया, महिलाओं की स्थिति में भारी बदलाव आया। महिलाओं के प्रति लोगों का नजरिया बदलने लगा था। बहुविवाह, सती प्रथा, दहेज प्रथा, कन्या भ्रूण हत्या आदि जैसे मामले आम होते जा रहे थे। बिगड़ते हालात को देखकर महान नेताओं और समाज सुधारकों ने इस दिशा में काम करने का फैसला किया।

उनकी मेहनत का ही नतीजा था कि महिलाओं की बिगड़ती हालत पर काबू पाया जा सका। उसके बाद भारत सरकार ने भी इस दिशा में काम किया। सरकार ने पंचायती राज व्यवस्था में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत सीटें आरक्षित कीं ताकि वे आगे आकर समाज की भलाई के लिए काम कर सकें।

भारत में महिलाओं की स्थिति पर लघु और लंबा निबंध

महिलाओं की स्थिति पर निबंध | essay on status of women
महिलाओं की स्थिति पर निबंध | essay on status of women 1

भारत में महिलाओं की स्थिति – निबंध 1 (250 शब्द)

मध्यकालीन भारत में महिलाओं की स्थिति आर्थिक, सामाजिक और व्यावहारिक रूप से बहुत खराब थी। प्राचीन काल में स्त्री को देवी का दर्जा देने के बाद भी उसकी स्थिति एक राजा-महाराजा की दासी जैसी ही थी। सैद्धांतिक रूप से भले ही महिलाओं को समाज में उच्च स्थान दिया गया हो, लेकिन व्यावहारिक दृष्टि से यह महज औपचारिकता के अलावा और कुछ नहीं था।

महिलाओं को सामाजिक स्तर पर काम करने की मनाही थी। कोई भी काम शुरू करने से पहले उनकी राय लेना जरूरी नहीं समझा। शादी से पहले लड़कियों को अपने माता-पिता के दबाव में रहना पड़ता था, जबकि शादी के बाद उन्हें अपने पति की इच्छा का पालन करना पड़ता था। मुगल साम्राज्य के दौरान स्थिति और भी खराब थी। महिलाओं को सती प्रथा और घूंघट में रहने की तरह बेड़ियों में रहना पड़ा।

मुगल काल के बाद, ब्रिटिश राज में भी स्थिति में सुधार नहीं हुआ, लेकिन उसके बाद व्यवस्था और भी खराब हो गई थी। इसके बाद महात्मा गांधी ने मोर्चा संभाला और महिलाओं से स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लेने का आह्वान किया। इसके बाद ही सरोजिनी नायडू, विजय लक्ष्मी पंडित और अरुणा आसफ अली जैसी महान महिलाओं का उदय हुआ जिन्होंने स्वयं महिलाओं की स्थिति को सुधारने में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

इसके बाद इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्री बनने के साथ ही बड़े पैमाने पर महिलाओं के विकास पर जोर दिया जाने लगा। इंदिरा गांधी स्वयं महिलाओं के लिए प्रेरणा का स्रोत थीं। उनके बताए रास्ते पर चलकर कई महिलाएं समाज में गौरवान्वित पदों पर पहुंचीं।

महिलाओं की स्थिति और उनके अधिकार – निबंध 2 (300 शब्द)

पिछले हजारों वर्षों में समाज में महिलाओं की स्थिति में काफी बदलाव आया है। यदि हम पिछले चालीस-पचास वर्षों को देखें तो पता चलता है कि पुरुषों के समान अधिकार पाने के लिए महिलाओं पर बहुत काम किया गया है। पहले के समय में महिलाओं के घर से बाहर निकलने पर सख्त पाबंदी थी। वह घर की चारदीवारी के अंदर रहने को मजबूर थी। उसके जीवन का एकमात्र लक्ष्य अपने पति और बच्चों की देखभाल करना था। महिलाओं को न तो पुरुषों की तरह माना जाता था और न ही पुरुषों के समान महत्व दिया जाता था। 

यदि वेदों के समय की बात करें तो उस समय स्त्रियों की शिक्षा और दीक्षा का विशेष ध्यान रखा जाता था। इसके उदाहरण हम प्राचीन काल की पुस्तकों में भी देख सकते हैं।

यदि हम वेदों का अध्ययन करें, तो हमें स्पष्ट रूप से यह देखने को मिलता है कि उस समय की महिलाओं को अपनी शिक्षा पूरी करने की अनुमति दी गई थी और उनकी सहमति से उनका विवाह भी किया गया था। ऋग्वेद और उपनिषदों में गार्गी और मैत्रयी नाम की दो महिला संतों के उदाहरण दिए गए हैं। इतिहास के अनुसार महिलाओं के पतन की शुरुआत स्मृतियों (मनुस्मृति) से हुई। धीरे-धीरे भारत में इस्लामी और ईसाई महिलाओं के आने से महिलाओं से उनके अधिकार छीन लिए गए। महिलाएं सामाजिक बंधनों में रहने लगीं, जिनमें सती प्रथा, बाल विवाह, बाल श्रम, विधवाओं के पुनर्विवाह पर रोक आदि प्रमुख हैं।

पर्दा प्रथा भारत में मुस्लिम धर्म के आगमन के बाद शुरू हुई। गौहर नाम की प्रथा का पालन राजस्थान के राजपूत समाज ने किया। मंदिर में रहने वाली महिलाओं का अमीर और प्रभावशाली व्यक्तियों द्वारा यौन उत्पीड़न किया जाता था। लेकिन आज के समय की बात करें तो महिलाएं बिना किसी डर के हर क्षेत्र (जैसे राजनीति, सामाजिक कार्य, तकनीकी विभाग, खेल आदि) में अपना योगदान दे रही हैं।

महिलाओं को हर जगह अग्रणी देखा जाता है, लेकिन दूसरे शब्दों में कहें तो वे पुरुषों से दो कदम दूर हैं। हम यह नहीं कह सकते कि महिलाओं की स्थिति में शत प्रतिशत परिवर्तन आया है, लेकिन हम यह जरूर कह सकते हैं कि अब महिलाएं अपने अधिकारों के प्रति और भी जागरूक हो गई हैं।

महिलाओं की स्थिति में सुधार – निबंध 3 (400 शब्द)

महिलाओं की स्थिति पर निबंध | essay on status of women 1
महिलाओं की स्थिति पर निबंध | essay on status of women 3

भारत की आजादी के बाद महिलाओं की स्थिति में काफी सुधार आया है। महिलाओं को अब पुरुषों के बराबर का अधिकार मिल रहा है। महिलाएं अब उन सभी कार्यों को स्वतंत्र रूप से कर सकती हैं जिन्हें वे पहले करने में असमर्थ महसूस करती थीं। आजादी के बाद बने भारत के संविधान में महिलाओं को वो सारे फायदे, अधिकार, काम करने की आजादी दी गई है, जो पहले सिर्फ पुरुषों को ही मिलते थे। वर्षों से उनके साथ खराब व्यवहार के बावजूद आज महिलाएं खुद को सामाजिक बंधनों से मुक्त कर रही हैं और अपने परिवार, समाज और देश के भविष्य को और अधिक आत्मविश्वास के साथ उज्ज्वल बनाने के लिए लगातार काम कर रही हैं।

महिलाएं हमारे देश की आधी आबादी का प्रतिनिधित्व करती हैं। यानी देश की आधी तरक्की महिलाओं पर और आधी पुरुषों के कंधों पर टिकी है। हम उस समय की कल्पना भी नहीं कर सकते जब इस आधी आबादी को वह मूल अधिकार भी नहीं मिल पाए जिसके वे हकदार हैं। उसे सुखपूर्वक जीवन बिताने की भी स्वतन्त्रता नहीं थी। लेकिन बदलते समय के साथ इस नए जमाने की महिला ने समाज में वह मुकाम हासिल कर लिया है जिसे देखकर कोई भी हैरान रह जाएगा. आज महिलाएं एक सफल समाज सुधारक, उद्यमी, प्रशासनिक सेवक, राजनयिक आदि हैं।

महिलाओं की स्थिति में सुधार ने देश के आर्थिक और सामाजिक सुधार के अर्थ भी बदल दिए हैं। हमारे देश में महिलाओं की स्थिति अन्य विकासशील देशों की तुलना में काफी बेहतर है। हालांकि हम यह नहीं कह सकते कि महिलाओं की स्थिति पूरी तरह बदल गई है, लेकिन इस क्षेत्र में पहले की तुलना में काफी प्रगति हुई है. आज के प्रतिस्पर्धी दौर में महिलाएं अपने अधिकारों के प्रति पहले से कहीं ज्यादा जागरूक हैं। महिलाएं अब अपने पेशेवर जीवन (सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक) के बारे में अधिक जागरूक हैं ताकि वे अपने परिवार और दैनिक दिनचर्या से संबंधित खर्चों को आसानी से पूरा कर सकें।

महिलाएं अब लोकतंत्र और मतदान से जुड़े कार्यों में बहुत अच्छा काम कर रही हैं, जिससे देश की प्रशासनिक व्यवस्था में सुधार हो रहा है। हर क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। उदाहरण के लिए, मतदान के दिन, हम मतदान केंद्र पर पुरुषों की तुलना में अधिक महिलाएं देखेंगे। इंदिरा गांधी, विजयलक्ष्मी पंडित, एनी बेसेंट, महादेवी वर्मा, सुचेता कृपलानी, पीटी उषा, अमृता प्रीतम, पद्मजा नायडू, कल्पना चावला, राजकुमारी अमृत कौर, मदर टेरेसा, सुभद्रा कुमारी चौहान आदि कुछ ऐसे नाम हैं, जिन्होंने अर्थ दिया। महिलाओं का जीवन बदल दिया गया है। 

आज महिलाएं बेटी, मां, बहन, पत्नी के रूप में विभिन्न क्षेत्रों जैसे सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक, शिक्षा, विज्ञान और अन्य विभागों में अपनी सेवाएं प्रदान कर रही हैं। वह अपनी प्रोफेशनल लाइफ के साथ-साथ अपनी पारिवारिक जिम्मेदारियों को भी बखूबी निभा रही हैं।

भारत सरकार ने हाल ही में महिला सुरक्षा से जुड़े कानूनों में अहम बदलाव किए हैं। पुराने किशोर अधिनियम 2000 की जगह नया किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) विधेयक 2015 लागू किया गया है। इसे खास तौर पर निर्भया कांड को ध्यान में रखकर डिजाइन किया गया है। इस कानून के तहत कोई भी किशोर जिसकी उम्र 16 से 18 साल के बीच है और वह जघन्य अपराध में शामिल है, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

share on: Facebook

Leave a Comment