कविताएं – Best poems In Hindi

Contents

हेल्लो दोस्तों आज हम आपके लिए लेकर आये है बहुत ही शानदार 20 कविताएं (Best poems In Hindi ) हिंदी में जिनको आप अपने दोस्तों को भेज सकते है और  WhatsApp, Facebook, Instagram और telegram आदि पर स्टेटस भी लगा सकते है … अगर आपको हमारी यह न्यू 20 कविताएं  (Best poems In Hindi ) पसंद आये तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरुर बताये ताकि हम इस तरह की और पोस्ट कर सके…

 

मैं बादल तो नही!

 

नीली आँखों में, जादू कोई

खिंचे मुझको जो अपनी ओर से

काली जुल्फें हैं, घटा बादल की

घेरें स्याहियां, मुझे चारों ओर से

 

मैं बादल तो नही, बरसा मगर

मैं पागल तो नही, तरसा अगर

हुआ हूँ क्यों दीवाना ये जानूँ ना

हर अदा लाजवाब है, मानूँ मैं।

 

चलती जो, बलखाती सी कमर

जैसे गांव की वो सी डगर हो

झूमका जो, करे पागल मुझको

मैं चाँद कहूँ, अगर हो।

 

मैं बादल तो नही, बरसा मगर

मैं पागल तो नही, तरसा अगर

क्यों हुआ, ये दिल तेरा जानूँ ना

तू ही मेरा है अब सबकुछ मानूँ मैं।

 

बेहिसाब है, हर अदा लाजवाब है

चाँद भी शर्मा के छिप जाए

तू आफताब है, तू ही सब से शाद है

आबाद हो जाऊं, जो तू मिल जाये।

 

मैं बादल तो नही, बरसा मगर

मैं पागल तो नही, तरसा अगर

तुझको माना मैंने खुदा, क्यों जानूँ ना

तू ही है ये मेरा जहां, मानूँ मैं।

www.fun-hindi.com

 

अरे परदेशी!

 

यहीं आस पास होती है जिंदगी

झूठी सी बेबुनियाद होती है बन्दगी

एक पल को, यहां का मैं अपना था

जो दूजा पल, तो हर एक सपना था।

अभी इक पल को, यहीं का था मैं

अब इस पल में, किसी का भी न रहा।

 

जो छू ले हवाँ, तो कहे मुझे,

अभी तुम यहाँ, पराए हो!

अरे परदेशी,चलें जाओ तुम,

अब  यहाँ,  क्यों आये हो?

 

न कोई अब रहा यकीन,

फलसफा भी हर दफा झूठा रहा

हुआ मुमकिन से नामुमकिन

मेरा पता भी लापता, मुझसे टूटा रहा।

जो जागा मैं तो, अकेला सा था

ठिठुरता हुआ, बंजारा सा था

अभी इक पल में, यहीं का था मैं

अब इस पल में किसी का ना रहा।

 

जो गुजरे सांसे, कहें रुककर के

अभी तुम यहाँ, पराये हो!

अरे परदेशी, चले जाओ तुम

अब यहाँ, क्यों आये हो?

www.fun-hindi.com

 

मैं क्यों आशिक़ होता फिरूँ!

 

मैं होकर दीवाना तेरा, बस तेरा होता फिरूँ

दीदार को तेरी गलियों में, ऐवें ही सोता फिरूँ!

 

बीत गया जमाने में, वो दौर मिजाज-ए-इश्क का

मैं वो आशिक़ नही जो, तेरी याद में रोता फिरूँ!

 

मैं भी बहुत पागल हूँ तेरे पीछे, ‘पागलकी तरह

पर इतना पागल नही कि, बस पागलहोता फिरूँ!

 

मैंने खोया है वो, जो हुआ था ही नही कभी मेरा

कुछ हासिल ही नही किया, फिर कैसे खोता फिरूँ!

 

बड़ा नाजुक सा दिल था मेरा, टुकड़े है तुझे सौंपकर

ये मेरा दिल है, कोई खिलौना नही जो सबको देता फिरूँ!

 

ना रुसवाँ हूँ, न ही अब कोई शिकायत है मेरी तुमसे

तू अपना ही कहाँ है? जो हक़ से अपना कहता फिरूँ।

 

मनसब झूठे भरम है मन के, तू न समझा हद दोस्ती की

इश्क़ तो गैर कर देता है सबको, मैं क्यों आशिक़ होता फिरूँ।

www.fun-hindi.com

 

क्या करे बेचारा..

 

ऐसी बातें होती रहती हैं

अक्सर तो

हक़ होता नही है ऐसे

हक़ कर तो

 

छीन लिया अब,

जो था मेरा सब

कहने को बाकी है क्या

 

उड़ा रे दिल बंजारा

क्या करे बेचारा

गया तेरे इश्क़ में मारा

क्या करें बेचारा।

 

समझा नही था, यूँ नासमझ था

हरकत थी नादानी भरी

जानी सी लगती, जान तेरी अपनी

प्यारी हँसी शैतानी भरी

 

लूट गया अब

कैसे हुआ कब

कौन जाने, क्या हुआ

 

 

उड़ा रे दिल बंजारा

क्या करे बेचारा

गया तेरे इश्क़ में मारा

क्या करे बेचारा।

www.fun-hindi.com

 

देखना हँसकर गुजर जाएंगे।

(Dekhna Hanskar Gujar Jayenge..)

 

जीते-जीते जी रहे हैं

मरते-मरते मर जायेंगे।

आँसू हैं आँखों में मगर

देखना हँसकर गुजर जाएंगे।।

 

ना कर अब तू फिक्र,

ना  ही मेंरा जिक्र

ना ही आये कभी तुझे, ख्याल मेरा

छोड़ के इस कदर,

जाना तुम अब अगर

पूछने आना नही, कभी हाल मेरा।

 

तुम जो पूछोगे भी तो मुकर जाएंगे

देखना हँसकर गुजर जाएंगे।।

 

अभी आदत नही है तुम्हें चलने की

सीखे नही है गुर, गिर के सम्भलने के

थोड़ी परवाह भी हो, दिल डरता भी हो

गम के आँसू जो बरसे तो ठहर जाएंगे

फिर भी देखना, हँसकर गुजर जाएंगे।।

www.fun-hindi.com

हिस्से में सारी खुशियां मांगी थी हमने।

 

घर अपना तो अपना ही होता है

जो छूटा तो पराया क्यों?

जा ना तू, जाना ही तो था तुझे

मुझसे दूर, फिर आया क्यों?

मेरी खुशियां क्यों देखी नही जाती

खुदा तू मुझसे क्या चाहता है

जो हुआ नही, मेरा कभी, नामुकम्मल

वो रिश्ता बनाया क्यों?

 

हिस्से में, सारी खुशियाँ मांगी थी जो हमने

जाने कहाँ से, घर कर लिया वहां गम ने

मिट रह थे जख्मों के निशान अब जहाँ

खंजर फिर मारा वही, किसी झूठे भरम ने।

 

लूट के ले गए चैन सारा, मेरी नींद सारी

मैं जग से हारा, वो तुमसे हारी, क्यों बेचारी

मैं खुद के हार के पीछे न वजह ढूंढू

जो हुआ था ही नही कभी मेरा, उसमें कहाँ से मैं ढूंढू

अब वो रात तन्हाइयों वाली, सुकून की बन गयी हैं

नींदे आज भी नही आती पर शामें तो ढल गयी है

चल फिर ठीक है जो चाहता है रब, कर आज वही सब

बदलेगा ये मौसम, ये आलम ये नजारा अब।”

 

तो कहाँ से आता फिर खबर, बेखबर मुझसे ये जहाँ

मुड़के देख, मैं वही हूँ आज भी जहां तू छोड़ गया

क्यों किया ये, कोई सवाल नही, जैसा मेरा है, तेरा हाल नही

 

जब साथ चलना ही नही था तो

कदम बढ़ाया क्यों?

जब छोड़ जाना ही था सफर में

मुझे आजमाया क्यों?

है सवाल लाखों अब दिल में मेरे

उठते तूफान जैसे

दूर जाना ही था तो बता

पास आया क्यों?

 

हिस्से में, सारी खुशियाँ मांगी थी जो हमने

जाने कहाँ से, घर कर लिया वहां गम ने

मिट रह थे जख्मों के निशान अब जहाँ

खंजर फिर मारा वही, किसी झूठे भरम ने।

www.fun-hindi.com

 

 

HEY PRIY!!😍
TANIK HRIDAY KI SUNO
WO RAAH CHUNO JO KHWAAB BUNO

 

HEY PRIY

TUM BAS EK HO

SANSO ME BATON ME

TUM HI TUM HO

AB METE DIN AUR RATON ME

 

HEY PRIY 🤗

TUM WAJAH HO MERI KHUSHIYON KI

MERE MUSKAN KI MERI HANSI KI

TUM WO HO JISE HUM BAS ITNA JANTE HAIN

HUM TUMSE HAI HAI, TUM WAJAH ZINDAGI KI

 

HEY PRIY🥰

TUM PAAR HO MERI SHBDSEEMA SE

TUM PARE HO UNMUKT UDANON SE

TUM SITARON KE BICH KI HO

CHAMAK BADHI RAHI TUMHARE MUSKANO SE

 

HEY PRIY

TUM MERE DHRA AUR AMBAR HO

TUM PARIBHASHA HO SADGI KI

TUM SHEETAL HO PAWAN SEE

TUM TAPAN HO JWALAMUKHI KI AAG KI

 

HEY PRIY

TUM MERE SHABDON ME NAHI SAMAOGE

KHUSHIYON KE GEET ,HAR PAL GAOGE

HEY PRIY🤗

BS TUM…

www.fun-hindi.com

 

मेरी बाहों के कैद से

 

तुम्हें चाहते हैं,

बस तुम्हें ही चाहेंगे

तुम्हारे अलावा

किसी को भी ताकेंगे

 

तुम्हारी तरफ है नज़र है,

जीभर के देखेंगे

तुम चाहो जितना

तुम्हे जाने ना देंगे।

 

 

मेरी बांहों के कैद से

कैसे आजाद होगे

मैं जो हुआ तो सनम

तुम भी बर्बाद होगे

 

मुझे रुलाने की कीमत

अपने आँसुओ से दोगे

मैं जो हुआ तो सनम

तुम भी बर्बाद होगे।

 

 

ऐसा नही है कि मेरी

तक़दीर तुम्हारे हाथों में है

ऐसा नही है कि मेरी

जान तुम्हारी सांसों में है

 

ऐसा भी नही कि जी न सकूंगा

तुमसे जुदा होकर मैं

बस सारे जमाने की खुशी मेरी

पास तेरे, साथ मे है।

 

मुझसे दूर जाकर

कैसे खुश रह सकोगे

मैं जो हुआ तो सनम

तुम भी बर्बाद होगे।

 

मेरी बांहों की कैद से

कैसे आजाद होगे

मैं जो हुआ तो सनम

तुम भी बर्बाद होगे।

 

तुम मैं न जाने दूंगा

चाहो तुम जितना

तुम पे हक़ है मेरा

मानो न इतना

 

मेरे बाजुओं में तुमको

सारी खुशी दूंगा

जमाने भर की दौलत तो नही

पर चेहरे की हंसी दूंगा।

 

मुझमें ही राह तेरी, मंजिल

कही और पा न सकोगे

मैं जो हुआ तो सनम

तुम भी बर्बाद होगे।

 

मेरी बांहों के कैद से

कैसे आजाद होगे

मैं जो हुआ तो सनम

तुम भी बर्बाद होगे।

www.fun-hindi.com

 

तू बारिश जैसी या!

 

तू बारिश जैसी या

मन में घर कर जांदी है

मैं बादल ना होया

क्यों इतना बरस जांदी है।

 

तुझसे दूर जो जावां

एक पल रहा नही पौंदा वे

तू प्यार न करदी

मैं समझ न पौंदा वे।

 

दिल टूट्या ज़िदा मेरा

तेरा टूट्यो नाई वे

मैं खो के भी सब कुछ

यही मंगदा दुवावाँ वे।

 

तू बादल जो बण जा

मैं बरखा बन जाना वे

तू चाहे न मैनू भले

मैं बस तुझपे ही मरदा वे।

 

तू तीखी कटारी है

तैनू चल ही जांदी है

जो लहू बहे मेरा

ते इश्क़ निशानी है।

 

मैं प्यार क्यों किता

मैनू समझ न आया वे

बस समझ गया इत्ता, जो इश्क़ करे

सो मर ही जावा वे

 

तू बारिश जैसी या

मन में घर कर जांदी है

मैं बादल ना होया

क्यों इतना बरस जांदी है।

www.fun-hindi.com

 

ले चलूँ, सितारों के पार तुझे

 

 

ले चलूँ सितारों के पार तुझे

एक नया जहां, जहाँ तुम और मैं

पार कर के हर बाधा भंवर की

सागरों की ऊँची ऊँची लहरों में

 

डूबना भी तेरी आँखों में

तेरी आँखों का ही नशा है

जन्नत है, तेरे साथ का हर पल

तू हर गम का इलाज हुआ है

 

कहीं ढूंढ लू खुशियों का बसेरा

तेरे आने से होता जहाँ सबेरा

ले चलूँ सितारों के पार तुझे

एक नया जहां, जहाँ तुम और मैं।

 

तेरे संग जैसे, जियूँ मैं यूँ बहार बहार भर के

रहना चाहूँ हर पल, तुझे संवार संवार कर के

थोड़ा सा पागल हूँ, थोड़ा और हो जाने दे

तेरे संग इन पलो को, जी भर पी जाने दे।

 

तू है चाँद, मैं बन जाऊं चकोरा

तकता रहूं तुझे मैं, शाम- सबेरा

ले चलूँ सितारों के पार तुझे

एक नया जहां, जहाँ तुम और मैं

तेरे साथ है मिली जमाने भर की खुशी

जीना चाहूँ हर पल मेरा, तेरे साथ में।

www.fun-hindi.com

 

भीगते आसमाँ से आँसू बरसने लगे हैं

जिनके साथ थे हर पल, उनसे मिलने को तरसने लगे है। 

रूह का कोई मलबा, इधर गिरा कोई उधर गिरा

हम तो अपनी ही बूंदों से छिटकने लगे हैं।

 

मसला दर्द का होता तो सम्भाल लेते थोड़ा

कदम बिन पिये भी, उसके मय में बहकने लगे हैं

 

न कदर रही अब कोई जज्बात की जमाने में

मेरे आँसुओ को देखकर लोग, मुँह छिपाकर हँसने लगे हैं।

 

कई दरिया बना डाली जालिम ने, आग सीने में लगाकर

रातों में दिसम्बर के, काले विषैले सर्प से डंसने लगे हैं।

www.fun-hindi.com

तेरी प्रतीक्षा!

 

बीती सांझ और रात सुबह, दोपहर तक भी तुम न आये

तेरे इंतज़ार में बैठा जिया मेरा, यूंही उचक-उचक घबराए

 

रात काटनी बड़ी मुश्किल है, बिन तेरे, तेरी यादों के साये

दूर इन से भी जा नही सकते, दिल को हरपल बड़ा सताए।

 

तुम्हें पाने की तलब ऐसी लगी है, चाहे जमाना खो जाए

बस एक तुम्हे ही अपना मानेंगे, भले सारी दुनिया ये गैर हो जाये।

 

है ये तेरी प्रतीक्षा‘, या मेरी परीक्षा कोई मुझको ये बताए

परिणामस्वरूप तुम मिलोगी या नही, परिणाम चिंतित कर जाए।

 

तुम ही देवी हो दिल के मंदिर में मेरे, हम मन में तुम्हें बसाए

जीतने को आज तुम्हें चले हैं, चाहे खुद को बलि-बलि हारन जाएं।

 

जब होंगे हम साथ दोनो, जाने कब वह पल आए

मैं ढूंढता रहता हूँ तुमको, मिलो तो रखूंगा पलको पर बिठाए।

 

 

अब और क्या कुछ कहें, हम ना रहें जिस्मों के साये

तुम तलक चलती काश! राह कोई, जो हम चलते जाए।

 

तुम्हें पाने के बाद फिर, कभी कोई चाहत न रह जाएं

दुआ करो मेरे लिए, ऐ यार मुझे, मेरी मंजिल मिल जाये।

www.fun-hindi.com

 

यार मेरे तुम!

तुम थोड़े मधुर हो, कभी-कभी चटकीले भी

थोड़े पागल से हो, रहते हो कभी नखरीले भी

 

जैसे भी हो तुम, लाजवाब हो

यार मेरे तुम, खुली किताब हो

देखते हैं अपनी आंखों में

ज़िंदादिली का, वो ख्वाब हो।

 

कभी शांत से रहते, कभी गुस्से से लाल-पीले भी

कभी भर के आंसू रो लेते, कभी हँसते चुटकुले भी।

 

जैसे भी हो तुम लाजवाब हो

यार मेरे तुम, दहकती शबाब हो

पा न सके कोई, कोई मशाल ऐसी

लपटों की तुम ऐसी आग हो।

 

कभी मनाते हो यूँही कभी रूठ जाते हो

ये बताना तुम जरा क्यों इतना जुल्म ढाते हो

कभी नासमझ से तुम खुद ही रहते

कभी मुझे भी तुम ही समझाते हो।

 

कभी अनजान हो, कभी जान भी

ये यारियां बनेंगी पहचान भी।

सब जानते हैं हम तो यहां

चुप हैं कि अब नादान भी।

 

कभी मुस्कुरा दो तो मौसम सुहाना, बादल बरस ले भी

आंखों में गहराई बेहद है, समुन्दर डूबने को तरस ले भी।

 

यार मेरे तुम लाजवाब हो

जैसे भी हो, आफताब हो

चाँद की तरह चमकते रहना

नूर तेरा बेहिसाब हो  

आँखे तो, ऐसी होती हैं

दर्द हो पर, हँसी होती है

मिल जाये, थोड़ा सुकूँ अगर

गम हो पर खुशी होती है।

www.fun-hindi.com

 

आँखे तो…..

 

आँखों का दोष क्या है आखिर

सब कह रही हैं बिन बोले

कैसे कि ना हो जग-जाहिर

अब रह रही हैं बिन डोले 

आँखों के इशारे पर है

बातों के किनारे पर है

कह ही डालें सब मगर

सुन न, कैसी बेबसी है।

 

आँखे तो…

 

आँखों के दीवाने कई हैं

गीत-गजल नजराने कई है

पढ़ ना ले आँखों को कोई

आँखों के बहाने कई है।

 

आँखे बोले, बिन कुछ बोले

आँसुओ की धार भी है

दर्द है, खुशी भी है

जाहिर है कि प्यार भी है।

 

बंधी हुई इन आँखों में, ऊँचे ख्वाब हैं

ख्वाबों को पाने को, ये बेताब हैं

लड़ रहे हैं खुद से ही हालात सारे

हालातों की, ये हालत कैसी होती है। 

आँखे तो, ऐसी होती हैं

दर्द हो पर, हँसी होती है

मिल जाये, थोड़ा सुकूँ अगर

गम हो पर खुशी होती है।

www.fun-hindi.com

L..💖…U

 

I can’t live alone

I wanna you every time

I have a lovely dream

I’m your and you’re mine

 

So please, forgive me

For my all mistakes

It’s not so easy, but

I wanna make chances

 

Wanna live with you

Hey, I love to you

Everything I do

It’s all for you…

 

 

So.. I love you

I just wanna you 💖

www.fun-hindi.com

 

लोग गजब बदलते हैं!

 

लोग गजब बदलते हैं

चेहरे, बातें और

रुतबे!

लोग गजब बदलते है

उठते, चलते और

डूबते!

 

चेहरे के पीछे

कई नकाब

बेहिसाब

कोई जान न जाये

कई सवाल? सब

बे-जवाब!

 

ढल रहे हैं, चाँद में

तपन लिए हुए दिल में

भीषण आग सी

चल रहे हैं, साथ में

मीठे बोल, छिपा लिए

दाग सभी।

 

मुँह में राम, बगल में छुरी

स्नेही बन रहे हैं

अब सभी

चाशनी से मीठे बोल

घोल रहे पीछे से

जहर भी।

 

आस्तीन के सांप और

छुपे रुस्तम बड़े

कायम हैं

अंदर से विषाक्त,

काले नाग से भी पर

मुलायमहैं।

 

लोग गजब बदलते हैं

चेहरे बातें और

रुतबे!

लोग गजब बदलते हैं

नरमी, गरमी दिखाते

भीतर कठोर से!

www.fun-hindi.com

 

मैं बस में हूँ…बस बेबस हूँ! 

मैं बस में हूँ,

बस बेबस हूँ

खौलते लहू सा

नस-नस में हूँ।

 

फैलकर गहरा,

झुकते हुए

किनारों की ओट से

उठते हुए

लहरों सा जो टकराकर

लौट गई

इक कश में हूँ,

कशमकश में हूँ।

मैं बस में हूँ,

बस बेबस हूँ

खौलते लहू सा

नस-नस में हूँ।

 

 

उड़ चला धुंआ सा,

आसमां की ओर

रंग गहरा बिखेरे स्याह

दिल में घनघोर

न बरखा, न बादल

सब झूठ सा

सच के परे,

इक झूठे सच में हूँ।

मैं बस में हूँ,

बस बेबस हूँ

खौलते लहू सा

नस-नस में हूँ।

इन तरंगों, डोर कटी पतंगों,

से बेसहारे

जब कोई छुए,  छुईमुई होऊं,

डर के मारे

गौरतलब है कि गौर करें

जब मतलब हो कभी

मतलब भरे इस मतलबी जमाने में,

बेमतलब मैं हूँ।

मैं बस में हूँ,

बस बेबस हूँ

खौलते लहू सा

नस-नस में हूँ।

www.fun-hindi.com

 

️ Butterfly🦋

 

रक्खा ही क्या है जमाने में!

अरे जरा निकलकर बाहर तो देखो

 

छुपाए राज कई बैठी हैं ये बहारें

पतझड़ के इस पावन बसंत को देखो ❤️

www.fun-hindi.com

 

Hello friends, today we have brought for you 20 very wonderful poems in Hindi which you can send to your friends and you can also put status on WhatsApp, Facebook, Instagram and telegram etc… If you like our New 20 Poems In Hindi, then please tell by commenting in the comment box so that we can post more like this… 

यह भी पढ़े –

®     हिंदी सुविचार ! Suvichar in Hindi !

®     ज़िन्दगी के पाँच सच Five truths of life

®     Best 50 Motivational Life Changing Quotes in Hindi || प्रेरक विचार जो आपकी जिंदगी बदल देंगे ||

®     Best 100 Motivational Life Changing Quotes in Hindi || प्रेरक 100 विचार जो आपकी जिंदगी बदल देंगे ||

®     Motivational Life Changing Quotes in Hindi || प्रेरक विचार जो आपकी जिंदगी बदल देंगे ||

®     || जिन्दगी से जुडी सच्ची बातें ||

®     Life Status In Hindi || जिन्दगी से जुडी सच्ची बातें ||

®     जीवन क्या है? What is Life In Hindi

At Fun-hindi.com you will find tons of best Hindi Mohabbat Shayari, Hindi New Status, Hindi Jokes, Jokes, Special Day Information in Hindi and Inspirational Hindi Stories that you can send to your friends and family. We also post on trending updates.

1 thought on “कविताएं – Best poems In Hindi”

  1. ❤️ Butterfly��

    रक्खा ही क्या है जमाने में!

    अरे जरा निकलकर बाहर तो देखो

    छुपाए राज कई बैठी हैं ये बहारें

    पतझड़ के इस पावन बसंत को देखो ❤️

    Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!