स्वतंत्रता पर एक कहानी – A story on freedom

स्वतंत्रता पर एक कहानी – A Hindi story on freedom

स्वतंत्रता पर एक कहानी - A story on freedom

independence – A story on freedom

 

एक सन्त के आश्रम में एक शिष्य कहीं से एक तोता ले आया और उसे पिंजरे में रख लिया। सन्त ने कई बार शिष्य से कहा किइसे यों कैद करो। परतन्त्रता संसार का सबसे बड़ा अभिशाप है।

 

किन्तु शिष्य अपने बालसुलभ कौतूहल को रोक सका और उसे अर्थात् पिंजरे में बन्द किये रहा।

 

तब सन्त ने सोचा कितोता को ही स्वतंत्र होने का पाठ पढ़ाना चाहिए

उन्होंने पिंजरा अपनी कुटी में मँगवा लिया और तोते को नित्य ही सिखाने लगे– ‘पिंजरा छोड़ दो, उड़ जाओ।

 

कुछ दिन में तोते को वाक्य भली भाँति रट गया। तब एक दिन सफाई करते समय भूल से पिंजरा खुला रह गया।

 

सन्त कुटी में आये तो देखा कि तोता बाहर निकल आया है और बड़े आराम से घूम रहा है साथ ही ऊँचे स्वर में कह भी रहा है– “पिंजरा छोड़ दो, उड़ जाओ।

 

सन्त को आता देख वह पुनः पिंजरे के अन्दर चला गया और अपना पाठ बड़े जोरजोर से दुहराने लगा।

 

सन्त को यह देखकर बहुत ही आश्चर्य हुआ। साथ ही दुःख भी I

 

वे सोचने लगे किइसने केवल शब्द को ही याद किया

 

यदि यह इसका अर्थ भी जानता होतातो यह इस समय इस पिंजरे से स्वतंत्र हो गया होता ! 

 

 

स्वतंत्रता पर एक कहानी - A story on freedom

Story in hindi

independence – A story on freedom

In the hermitage of a saint, a disciple brought a parrot from somewhere and kept it in a cage. Many times the saint told the disciple that “Don’t imprison it like this. Subjugation is the biggest curse of the world.”

 

But the disciple could not stop his childish curiosity and kept him locked up in a cage.

 

Then the saint thought that “the parrot should be taught the lesson of being free”.

He got the cage for his hut and started teaching the parrot regularly – ‘Leave the cage, fly away.’

 

Within a few days the parrot was able to memorize the sentence very well. Then one day while cleaning, the cage was left open by mistake.

 

When the saint came to the hut, he saw that the parrot has come out and is roaming freely and is also saying in a loud voice – “Leave the cage, fly away.”

 

Seeing the saint coming, he again went inside the cage and started repeating his lesson loudly.

 

The saint was very surprised to see this. as well as sorrow

 

They began to think that “it only remembered the word.

 

If it had even known its meaning – it would have been free from this cage at this point in time!

 

स्वतंत्रता पर एक कहानी - A story on freedom

independence – A story on freedom

 

यह कहानिया भी पढ़े –

2 thoughts on “स्वतंत्रता पर एक कहानी – A story on freedom”

Leave a Comment

error: Content is protected !!