mahatma gandhi essay in hindi 100 to 3000 Words

महात्मा गांधी के बारे में – आज हम आपको हिंदी में महात्मा गांधी निबंध (Mahatma Gandhi Essay in Hindi) के बारे में 100, 500, 600, 1000, 1200 और 3000 शब्दों में बहुत विस्तृत जानकारी देने जा रहे हैं। हम आपके लिए महात्मा गांधी पर कुछ लघु निबंध भी और कुछ बड़े निबंध आपके लिए लेकर आए हैं। हम आपको महात्मा गांधी के निबंध बिंदुओं के बारे में भी बताएंगे। महात्मा गांधी भारत के पिता हैं, तो आइए जानें महात्मा गांधी के निबंध के बारे में हिंदी में 100, 500, 600, 1000, 1200 और 3000 शब्दों में, हम आशा करते है जो आपको जरुर पसंद आयेगे।

क्रम संख्याविषयविवरण
1 – महात्मा गांधी जी का जन्म – 2 अक्टूबर 1869, पोरबन्दर
2 – महात्मा गांधी जी की मृत्यु – 30 जनवरी 1948, गाँधी स्मृति
3 – महात्मा गांधी जी के मृत्यु का कारण – मानव हत्या, बैलिस्टिक आघात
4 – महात्मा गांधी जी की जातीयता – गुजराती
5 – महात्मा गांधी जी की नागरिकता – ब्रिटिश राज, भारतीय अधिराज्य, भारत
6 – महात्मा गांधी जी की शिक्षा – अल्फ्रेड हाई स्कूल, राजकोट, यूनिवर्सिटी कॉलेज, लन्दन
7 – महात्मा गांधी जी का व्यवसाय – राजनीतिज्ञ,बैरिस्टर,पत्रकार,दार्शनिक, निबंधकार, संस्मरण लेखक, क्रांतिकारी, लेखक
8 – महात्मा गांधी जी की ऊंचाई  – 164 सेंटीमीटर
9 – महात्मा गांधी जी का राजनैतिक पार्टी – भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
10 – महात्मा गांधी जी का धार्मिक मान्यता  – हिन्दू धर्म
11 – महात्मा गांधी जी का जीवनसाथी – कस्तूरबा गांधी
12 – महात्मा गांधी जी के बच्चे – हरिलाल मोहनदास गांधी, मणिलाल गाँधी, रामदास गांधी, देवदास गांधी
13 – महात्मा गांधी जी के माता-पिता  – करमचंद गाँधी पुतलीबाई करमचंद गांधी

14

महात्मा गांधी जी का हस्ताक्षरGandhi signature.svg
mahatma gandhi essay in hindi
  • mahatma gandhi essay in hindi
  • mahatma gandhi essay in hindi
  • mahatma gandhi essay in hindi
  • mahatma gandhi essay in hindi
  • mahatma gandhi essay in hindi
  • mahatma gandhi essay in hindi
  • mahatma gandhi essay in hindi
  • mahatma gandhi essay in hindi
  • mahatma gandhi essay in hindi
  • mahatma gandhi essay in hindi
  • mahatma gandhi essay in hindi

Mahatma Gandhi Essay in Hindi 1000 wordsमहात्मा गांधी निबंध हिंदी में 1000 शब्दों में 

“अहिंसा के हिमायती और सत्य के दूत महात्मा गांधी का जन्म पोरबंदर, गुजरात में 2 अक्टूबर, 1869 को हुआ था।

महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था और वे एक संपन्न परिवार थे

वह एक शर्मीले स्वभाव के अच्छे छात्र थे। जैसे-जैसे वह बड़ा हुआ, वह कानून पढ़ने के लिए इंग्लैंड चला गया और जल्द ही एक बैरिस्टर बन गए। जब वे भारत लौटे, तो उन्होंने बॉम्बे उच्च न्यायालय में कानून का अभ्यास करना शुरू किया

इसके बाद, वह कानून का अभ्यास करने के लिए दक्षिण अफ्रीका गए। हालाँकि, उन्हें कानूनी पेशा में कोई दिलचस्पी नहीं थी

उन्होंने यूरोपीय लोगों के उत्पीड़न के खिलाफ लड़ने के लिए उस क्षेत्र के मूल निवासियों के साथ हाथ मिलाया और एक अहिंसा आंदोलन शुरू किया जिसका नाम था सत्याग्रह।

जल्द ही, वह भारत लौट आया और अंग्रेजों के खिलाफ भारत की आजादी के संघर्ष में शामिल हो गए।

अपने साथी भारतीय भाइयों और बहनों की दयनीय दुर्दशा को देखकर उन्होंने असहयोग की शुरुआत की, भारत में ब्रिटिश शासन के खिलाफ विद्रोह करने के लिए आंदोलन और भारत छोड़ो आंदोलन। भारतीय धरती से ब्रिटिश शासन को उखाड़ फेंकने के लिए उन्होंने बहुत कुछ झेला कष्ट सहे और बलिदान दिए।

ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता के लिए भारत की लड़ाई के प्रति दृष्टिकोण उनके पास एक अहिंसक था ।

महात्मा गांधी एक महान आत्मा थे जो सादगी में विश्वास करते थे। उन्होंने स्वदेशी के प्रयोग का प्रचार किया (घरेलू) सामान लोगों के बीच और विदेशी वस्तुओं के उपयोग का बहिष्कार किया। वह एक धर्मनिरपेक्ष उपदेशक थे और विभिन्न समुदायों के लोगों के साथ समान सम्मान के साथ व्यवहार किया।

वह साधारण कपड़े पहनते थे और चरखे की सहायता से बने जूट और खादी जैसे हाथ से बने रेशों के उपयोग को प्रोत्साहित किया।

वह दृढ़ विश्वास के व्यक्ति थे और उन्होंने भारत की स्वतंत्रता के संघर्ष में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

उन्हें कई बार कैद किया गया था लेकिन भारत की आजादी के लिए उनका प्यार उनका पोषित लक्ष्य बना रहा।

जन्मदिन, 2 अक्टूबर को ‘गांधी जयंती’ के रूप में मनाया जाता है, उनके लिए वयोवृद्ध को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष की दिशा में वह प्यार से सामाजिक और राजनीतिक सुधार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

भारत आजादी की लड़ाई के लिए उनके अथक प्रयासों के लिए भारत में “राष्ट्रपिता” के रूप में याद किया जाता है.

mahatma gandhi essay in hindi
mahatma gandhi essay in hindi

mahatma gandhi paragraph

यह भी पढ़े –


Mahatma Gandhi Essay in Hindi 1200 wordsमहात्मा गांधी निबंध हिंदी में 1200 शब्दों में 

महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था। गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। लोग प्यार से महात्मा गांधी को बापू कहते थे।

गांधी ने इंग्लैंड में मैट्रिक की पढ़ाई की। गांधी ने अपनी कानून की शिक्षा इंग्लैंड में पूरी की। और फिर वह वापस भारत आ गया। उन्होंने भारत में एक वकील के रूप में अपना करियर शुरू किया।

गांधी जी का सामाजिक जीवन दक्षिण अफ्रीका में शुरू हुआ गांधी जी को हमेशा दक्षिण अफ्रीका में कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।

दक्षिण अफ्रीका के लोग भारतीयों के साथ बहुत बुरा व्यवहार कर रहे थे। गांधीजी उस जगह के इस अपमान को सह रहे थे।

एक दिन, महात्मा गांधी प्रथम श्रेणी की ट्रेन कार में यात्रा कर रहे थे। उन्होंने इसके लिए अपना टिकट भी जारी किया था, लेकिन अंग्रेज उन्हें ट्रेन से उतारकर सजा दे रहे थे।

गांधीजी ने इस अन्यायपूर्ण और क्रूर व्यवहार के खिलाफ अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी। और गांधीजी का संघर्ष भी यहीं पर सफल रहा।

उसके बाद गांधीजी भारत लौट आए और उन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में भाग लिया। गांधी जी को हमेशा कई बार जेल भेजा गया और इस लड़ाई में गांधी जी के साथ कई देश शामिल हुए।

इसके बाद गांधीजी ने अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ो आंदोलन शुरू किया। उसके बाद, गांधीजी लोगों के बीच राष्ट्रपिता के रूप में जाने जाने लगे। 1947 में गांधी जी के संघर्ष के बाद भारत आजाद हुआ।

गांधी जी की जीवन शैली बहुत ही सरल और सरल थी। उनकी सादा जीवन शैली उच्च विचारों वाली थी।

गांधीजी के अनुयायी थे गांधीजी ने हमेशा अहिंसा की लड़ाई को स्वीकार किया।

जैसे ही उन्होंने भारत में जाति की बाधा को दूर किया, गांधीजी के प्रयासों ने हमेशा भारत में समाज में सुधार किया। गांधी जी ने भारत के लिए बहुत बड़ा योगदान दिया है।

mahatma gandhi essay in hindi
mahatma gandhi essay in hindi

hindi essay on mahatma gandhi


Mahatma Gandhi Essay in Hindi 100 words – महात्मा गांधी निबंध हिंदी में 100 शब्दों में


सर्वश्रेष्ठ महात्मा गांधी निबंध 10 टॉपिक –
1) महात्मा गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर नामक जगह में हुआ था। उनका परिवार एक हिंदू परिवार था।

2) महात्मा गांधी जी के पिताजी गुजरात के पोरबंदर नामक जगह के दीवान थे।

3) महात्मा गांधी का विवाह कस्तूरबा से हुआ था।

4) महात्मा गांधी उच्च शिक्षा के लिए लंदन गए।

5) महात्मा गांधी जी अकेले ने ही दक्षिण अफ्रीका के लोगों के लिए उनके नागरिक अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी।

6) भारत में महात्मा गांधी 1915 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के संस्थापक बने।

7) महात्मा गांधी जी ने सन 1917 में ब्रिटिश शासन के खिलाफ अपना पहला आंदोलन शुरू किया था।

8) महात्मा गांधीजी ने 1 अगस्त 1920 को ब्रिटिश शासन के खिलाफ असहयोग आंदोलन शुरू किया था।

9) महात्मा गांधी ने 12 मार्च 1930 को नमक सत्याग्रह की शुरुआत की थी।

10) महात्मा गांधी को हिंदू राष्ट्रवाद का पैरोकार माना जाता था…

mahatma gandhi essay in hindi
mahatma gandhi essay in hindi

mahatma gandhi hindi essay


Mahatma Gandhi Essay in Hindi 500 words – महात्मा गांधी निबंध हिंदी में 500 शब्दों में

महात्मा गांधी भारत के एक प्रेरक व्यक्तित्व हैं। जिन्होंने भारत की आजादी के लिए अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी।

और उन लड़ाइयों की सफलता भी हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने हासिल की महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था।

महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को गुजरात के पोरबंदर में एक हिंदी परिवार में हुआ था। लोग प्यार से महात्मा गांधी को बापू कहते हैं।

जब अंग्रेजों ने भारत में शासन करना शुरू किया, तब महात्मा गांधी कानून की पढ़ाई के लिए इंग्लैंड गए थे।

कानून की पढ़ाई पूरी करने के बाद महात्मा गांधी भारत लौट आए। और उन्होंने ब्रिटिश राजशाही के खिलाफ बहुत बड़ी लड़ाई लड़ी। और भारतीयों ने भी अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई का समर्थन किया।

महात्मा गांधी हमेशा शांति से लड़ने लगे। इस लड़ाई के बाद, महात्मा गांधी भारत में राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए।

चूंकि महात्मा गांधी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का हिस्सा थे, उन्होंने असहयोगी नागरिक सत्याग्रह दांडी यात्रा और अन्य आंदोलनों में भाग लिया। इसके बाद उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ो आंदोलन शुरू किया।

महात्मा गांधी को उनकी महान रणनीति के कारण कई बार गिरफ्तार किया गया था। और उन्हें जेल भी भेज दिया।

उसके बाद भी महात्मा गांधी अंग्रेजों के खिलाफ लड़ते रहे। आज महात्मा गांधी को देश के पिता के रूप में जाना जाता है। महात्मा गांधी ने भारत को ब्रिटिश शासन से मुक्त कराया।

महात्मा गांधी जी ने भारत को एक स्वतंत्र देश बनाने के लिए हर संभव प्रयास किया। स्वतंत्रता आंदोलन और भारत को आगे बढ़ने के लिए महात्मा गांधी ने हमेशा सभी जातियों, धर्मों, नस्लों, समुदायों और उम्र के लोगों को एकजुट किया।

यह सब महात्मा गांधी ने किया था और आखिरकार महात्मा गांधी के प्रयास सफल हुए। और १५ अगस्त १९४७ को अंग्रेजों ने भारत छोड़ दिया। १५ अगस्त १९४७ को हमारा देश भारत आजाद हुआ।

hindi essay about mahatma gandhi


Mahatma Gandhi Essay in Hindi 3000 words – महात्मा गांधी निबंध हिंदी में 3000 शब्दों में

महात्मा गांधी को हमेशा से भारतीय राष्ट्रपिता कहा गया है। महात्मा गांधी ने स्वतंत्रता संग्राम में बहुत बड़ा योगदान दिया है। महात्मा गांधी ने एक बहुत बड़े देश का नेतृत्व किया है।

महात्मा गांधी की जीवन शैली बहुत ही सरल थी। उनका परम पवित्र जीवन भारत में था। महात्मा गांधी ने अपनी सरल जीवन शैली के कारण कई लोगों को अपने देश भारत के संघर्ष में शामिल किया।

वे हमेशा एक साधारण जीवन शैली और उच्च विचार रखते थे। महात्मा गांधी हमेशा सफेद खादी में रहते थे।

महात्मा गांधी शुद्ध शाकाहारी थे। महात्मा गांधी हमेशा ईश्वर में विश्वास करते थे। भागवत गीता महात्मा गांधी ने पढ़ी थी। महात्मा गांधी ने भी रामायण का अध्ययन किया था।

महात्मा गांधी का एक बहुत बड़ा दर्शन था। महात्मा गांधी जी अपना कर्तव्य बखूबी निभा रहे थे। महात्मा गांधी को भारत के पिता के रूप में जाना जाता है।

महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था। महात्मा गांधी का जन्म गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। महात्मा गांधी ऐसे थे कि उन्होंने सभी धर्मों के लोगों के साथ शांति का व्यवहार किया।

वह यह भी चाहता था कि सभी लोग एक-दूसरे के साथ शांतिपूर्वक व्यवहार करें। महात्मा गांधी हमेशा मनुष्य को ईश्वर की संतान मानते थे। इसलिए महात्मा गांधी अपनी उच्च शिक्षा पूरी करने के लिए इंग्लैंड चले गए।

और वहीं से उन्होंने काफी उच्च शिक्षा पूरी की। महात्मा गांधी जीवन भर शुद्ध शाकाहारी बने रहे।

महात्मा गांधी इंग्लैंड में अपनी उच्च शिक्षा पूरी करने के बाद भारत लौट आए। और उन्होंने भारत में एक वकील के रूप में काम किया। उसके बाद महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका चले गए।

और उन्होंने भारतीय जनता को उस स्थान पर बैठाया और सहकारिता आंदोलन में शामिल हो गए। इसे पूरा करने के बाद महात्मा गांधी भारत लौट आए। महात्मा गांधी ने भारत में सत्याग्रह आश्रम की शुरुआत की थी।

महात्मा गांधी ने हमेशा अहमदाबाद के कपड़ा श्रमिकों की मदद की। महात्मा गांधी ने असहयोग आंदोलन की शुरुआत की थी।

साथ ही असहयोग आंदोलन के बाद महात्मा गांधी ने दांडी यात्रा शुरू की। नमक सत्याग्रह शुरू करने के लिए महात्मा गांधी को भी जेल में डाल दिया गया था।

महात्मा गांधी ने प्रसिद्ध भारत छोड़ो आंदोलन का नेतृत्व किया। अंग्रेजों को देश के कोने-कोने में हमेशा ‘भारत छोड़ो’ आदि का नारा दिया जाता था।

महात्मा गांधी की हमेशा यह भावना थी कि कांग्रेस का संगठन और स्वतंत्रता आंदोलन के पीछे का आंदोलन बहुत गतिशील था।

महात्मा गांधी के मार्गदर्शन में भारत स्वतंत्र हुआ। लोगों को बहुत राहत मिली जब महात्मा गांधी जी ने भारत को अंग्रेजों के चंगुल से आजाद कराया।

भारत के आजाद होने के बाद भारत को एक बड़ा झटका लगा। सदमा यह था कि नाथूराम गोडसे ने बिरला हॉल में प्रार्थना करते समय महात्मा गांधी की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

mahatma gandhi essay in hindi
mahatma gandhi essay in hindi

Mahatma Gandhi Essay in Hindi 600 words – महात्मा गांधी निबंध हिंदी में 600 शब्दों में

महात्मा गांधी को हमारे देश भारत के पिता के रूप में जाना जाता है। महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था।

महात्मा गांधी के पिता राजकोट के मुख्यमंत्री के दीवान थे। महात्मा गांधी 19 साल की उम्र में कानून की पढ़ाई करने इंग्लैंड गए थे।

महात्मा गांधी ने बैरिस्टर की उपाधि ली महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका गए महात्मा गांधी ने दक्षिण अफ्रीका से भी कुछ लड़ाइयां उठाईं।

दक्षिण अफ्रीका में लड़ने के लिए महात्मा गांधी कुछ दिनों के लिए दक्षिण अफ्रीका में रुके थे।

महात्मा गांधी एक अहिंसक और शांतिपूर्ण विचारक थे। महात्मा गांधी का आंदोलन तब सफल हुआ जब दक्षिण अफ्रीकी सरकार ने भारत सहायता अधिनियम पारित किया।

गांधीजी की भारत वापसी के बाद, महात्मा गांधी ने अंग्रेजों और उनके वंश की स्वतंत्रता के लिए लड़ना शुरू कर दिया। महात्मा गांधी सत्य और अहिंसा में दृढ़ विश्वास रखते थे।

महात्मा गांधी ने एक असहयोग आंदोलन शुरू किया जिसके लिए उन्हें कभी-कभी जेल भी जाना पड़ा। गांधीजी ने ब्रिटिश सरकार के खिलाफ भारत छोड़ो आंदोलन शुरू किया।

और 15 अगस्त 1947 को महात्मा गांधी का आंदोलन सफल रहा। और 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजों ने भारत छोड़ दिया। साथ ही 15 अगस्त 1947 को हमारा देश भारत स्वतंत्र हुआ।

भारत की स्वतंत्रता में गांधी जी का योगदान बहुत बड़ा है। और उन्होंने बहुत बड़ी लड़ाई दी है। गांधी जी हमेशा भारतीयों के दिलों में रहेंगे।


यह जानकारी और पोस्ट आपको कैसी लगी ?

मुझे आशा है की आपको हमारा यह लेख Mahatma Gandhi Essay in Hindi जरुर पसंद आया होगा मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की आपको Mahatma Gandhi Essay in Hindi के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे आपको किसी दुसरी वेबसाइट या इन्टरनेट में इस विषय के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत नहीं पड़े।  जिससे आपके समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में आपको सभी तरह की जानकारी भी मिल जाएगी। 

अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी तो कमेंट box में अपने विचार दे ताकि हम इस तरह की और भी पोस्ट करते रहे। यदि आपके मन में इस पोस्ट को लेकर कोई भी किसी भी प्रकार की उलझन या हो या आप चाहते हैं की इसमें कुछ और सुधार होना चाहिए तो इसके लिए आप नीच comment box में लिख सकते हैं।

यदि आपको यह पोस्ट Mahatma Gandhi Essay in Hindi पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तो कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे WhatsApp, Facebook, Instagram, Telegram, Pinterest, Twitter, Google+  और Other Social media sites पर शेयर जरुर  कीजिये।

|❤| धन्यवाद |❤|…

2 thoughts on “mahatma gandhi essay in hindi 100 to 3000 Words”

Leave a Comment

error: Content is protected !!