आत्मज्ञान – enlightenment

आत्मज्ञान enlightenment

enlightenment
enlightenment

आत्मज्ञान एक था भिखारी (beggar) ! रेल सफ़र में भीख़ (begging) माँगने के दौरान एक सूट बूट पहने सेठ (Seth) जी उसे दिखे।

उसने सोचा कि यह व्यक्ति बहुत अमीर लगता है, इससे भीख़ (begging) माँगने पर यह मुझे जरूर अच्छे पैसे देगा। वह उस सेठ (Seth) से भीख़ (begging) माँगने लगा।

भिखारी (beggar) को देखकर उस सेठ (Seth) ने कहा, “तुम हमेशा मांगते ही हो, क्या कभी किसी को कुछ देते भी हो ?”

भिखारी (beggar) बोला, “साहब मैं तो भिखारी (beggar) हूँ, हमेशा लोगों से मांगता ही रहता हूँ, मेरी इतनी औकात कहाँ कि किसी को कुछ दे सकूँ ?”

सेठ (Seth):- “जब किसी को कुछ दे नहीं सकते तो तुम्हें मांगने का भी कोई हक़ नहीं है। मैं एक व्यापारी हूँ और लेन-देन में ही विश्वास करता हूँ, अगर तुम्हारे पास मुझे कुछ देने को हो तभी मैं तुम्हे बदले में कुछ दे सकता हूँ।”

तभी वह स्टेशन आ गया जहाँ पर उस सेठ (Seth) को उतरना था, वह ट्रेन से उतरा और चला गया।

इधर भिखारी (beggar) सेठ (Seth) की कही गई बात के बारे में सोचने लगा। सेठ (Seth) के द्वारा कही गयीं बात उस भिखारी (beggar) के दिल में उतर गई।

वह सोचने लगा कि शायद मुझे भीख में अधिक पैसा इसीलिए नहीं मिलता क्योकि मैं उसके बदले में किसी को कुछ दे नहीं पाता हूँ।

लेकिन मैं तो भिखारी (beggar) हूँ, किसी को कुछ देने लायक भी नहीं हूँ। लेकिन कब तक मैं लोगों को बिना कुछ दिए केवल मांगता ही रहूँगा।

बहुत सोचने के बाद भिखारी (beggar) ने निर्णय किया कि जो भी व्यक्ति उसे भीख देगा तो उसके बदले मे वह भी उस व्यक्ति को कुछ जरूर देगा।

लेकिन अब उसके दिमाग में यह प्रश्न चल रहा था कि वह खुद भिखारी (beggar) है तो भीख के बदले में वह दूसरों को क्या दे सकता है ?

इस बात को सोचते हुए दिनभर गुजरा लेकिन उसे अपने प्रश्न का कोई उत्तर नहीं मिला।

दुसरे दिन जब वह स्टेशन के पास बैठा हुआ था तभी उसकी नजर कुछ फूलों पर पड़ी जो स्टेशन के आस-पास के पौधों पर खिल रहे थे, उसने सोचा, क्यों न मैं लोगों को भीख़ (begging) के बदले कुछ फूल दे दिया करूँ।

उसको अपना यह विचार अच्छा लगा और उसने वहां से कुछ फूल तोड़ लिए। वह ट्रेन में भीख मांगने पहुंचा।

जब भी कोई उसे भीख देता तो उसके बदले में वह भीख देने वाले को कुछ फूल दे देता। उन फूलों को लोग खुश होकर अपने पास रख लेते थे।

अब भिखारी (beggar) रोज फूल तोड़ता और भीख के बदले में उन फूलों को लोगों में बांट देता था।

कुछ ही दिनों में उसने महसूस किया कि अब उसे बहुत अधिक लोग भीख देने लगे हैं। वह स्टेशन के पास के सभी फूलों को तोड़ लाता था। जब तक उसके पास फूल रहते थे तब तक उसे बहुत से लोग भीख देते थे।

लेकिन जब फूल बांटते बांटते ख़त्म हो जाते तो उसे भीख भी नहीं मिलती थी,अब रोज ऐसा ही चलता रहा ।

एक दिन जब वह भीख मांग रहा था तो उसने देखा कि वही सेठ (Seth) ट्रेन में बैठे है जिसकी वजह से उसे भीख के बदले फूल देने की प्रेरणा मिली थी।

वह तुरंत उस व्यक्ति के पास पहुंच गया और भीख मांगते हुए बोला,”आज मेरे पास आपको देने के लिए कुछ फूल हैं, आप मुझे भीख दीजिये बदले में मैं आपको कुछ फूल दूंगा।”

सेठ (Seth) ने उसे भीख के रूप में कुछ पैसे दे दिए और भिखारी (beggar) ने कुछ फूल उसे दे दिए। उस सेठ (Seth) को यह बात बहुत पसंद आयी।

सेठ (Seth):- “वाह क्या बात है..? आज तुम भी मेरी तरह एक व्यापारी बन गए हो” इतना कहकर फूल लेकर वह सेठ (Seth) स्टेशन पर उतर गया।

लेकिन उस सेठ (Seth) द्वारा कही गई बात एक बार फिर से उस भिखारी (beggar) के दिल में उतर गई। वह बार-बार उस सेठ (Seth) के द्वारा कही गई बात के बारे में सोचने लगा और बहुत खुश होने लगा।

उसकी आँखे अब चमकने लगीं, उसे लगने लगा कि अब उसके हाथ सफलता की वह चाबी लग गई है जिसके द्वारा वह अपने जीवन को बदल सकता है।

वह तुरंत ट्रेन से नीचे उतरा और उत्साहित होकर बहुत तेज आवाज में ऊपर आसमान की ओर देखकर बोला, “मैं भिखारी (beggar) नहीं हूँ, मैं तो एक व्यापारी हूँ.. मैं भी उस सेठ (Seth) जैसा बन सकता हूँ.. मैं भी अमीर बन सकता हूँ !

लोगों ने उसे देखा तो सोचा कि शायद यह भिखारी (beggar) पागल हो गया है, अगले दिन से वह भिखारी (beggar) उस स्टेशन पर फिर कभी नहीं दिखा।

एक वर्ष बाद इसी स्टेशन पर दो व्यक्ति सूट बूट पहने हुए यात्रा कर रहे थे। दोनों ने एक दूसरे को देखा तो उनमे से एक ने दूसरे को हाथ जोड़कर प्रणाम किया और कहा,

“क्या आपने मुझे पहचाना ?”

सेठ (Seth):- “नहीं तो ! शायद हम लोग पहली बार मिल रहे हैं।”

भिखारी (beggar):- “सेठ (Seth) जी.. आप याद कीजिए, हम पहली बार नहीं बल्कि तीसरी बार मिल रहे हैं”।

सेठ (Seth):- “मुझे याद नहीं आ रहा, वैसे हम पहले दो बार कब मिले थे ?”

अब पहला व्यक्ति मुस्कुराया और बोला: हम पहले भी दो बार इसी ट्रेन में मिले थे मैं वही भिखारी (beggar) हूँ जिसको आपने पहली मुलाकात में बताया कि मुझे जीवन में क्या करना चाहिए और दूसरी मुलाकात में बताया कि मैं वास्तव में कौन हूँ।

नतीजा यह निकला कि आज मैं फूलों का एक बहुत बड़ा व्यापारी हूँ और इसी व्यापार के काम से दूसरे शहर जा रहा हूँ।

आपने मुझे पहली मुलाकात में प्रकृति का नियम बताया था… जिसके अनुसार हमें तभी कुछ मिलता है, जब हम कुछ देते हैं।

लेन देन का यह नियम वास्तव में काम करता है, मैंने यह बहुत अच्छी तरह महसूस किया है, लेकिन मैं खुद को हमेशा भिखारी (beggar) ही समझता रहा, इससे ऊपर उठकर मैंने कभी सोचा ही नहीं था और.. जब आपसे मेरी दूसरी मुलाकात हुई तब आपने मुझे बताया कि मैं एक व्यापारी बन चुका हूँ। अब मैं समझ चुका था कि मैं वास्तव में एक भिखारी (beggar) नहीं बल्कि व्यापारी बन चुका हूँ।

भारतीय मनीषियों ने संभवतः इसीलिए स्वयं को जानने पर सबसे अधिक जोर दिया और फिर कहा समझ की ही तो बात है…

भिखारी (beggar) ने स्वयं को जब तक भिखारी (beggar) समझा, वह भिखारी (beggar) रहा। उसने स्वयं को व्यापारी मान लिया, व्यापारी बन गया। इसी प्रकार जिस दिन हम समझ लेंगे कि मैं तो वही हूँ,  फिर जानने समझने को रह ही क्या जाएगा ?


–  TRANSLATE IN HINGLISH –


enlightenment – ek tha bhikhaaree (baiggar) ! rel safar mein bheekh (baigging) maangane ke dauraan ek soot boot pahane seth (saith) jee use dikhe. usane socha ki yah vyakti bahut ameer lagata hai, isase bheekh (baigging) maangane par yah mujhe jaroor achchhe paise dega. vah us seth (saith) se bheekh (baigging) maangane laga.

bhikhaaree (baiggar) ko dekhakar us seth (saith) ne kaha, “tum hamesha maangate hee ho, kya kabhee kisee ko kuchh dete bhee ho ?” bhikhaaree (baiggar) bola, “saahab main to bhikhaaree (baiggar) hoon, hamesha logon se maangata hee rahata hoon, meree itanee aukaat kahaan ki kisee ko kuchh de sakoon ?” seth (saith):- “jab kisee ko kuchh de nahin sakate to tumhen maangane ka bhee koee haq nahin hai.

main ek vyaapaaree hoon aur len-den mein hee vishvaas karata hoon, agar tumhaare paas mujhe kuchh dene ko ho tabhee main tumhe badale mein kuchh de sakata hoon.” tabhee vah steshan aa gaya jahaan par us seth (saith) ko utarana tha, vah tren se utara aur chala gaya. idhar bhikhaaree (baiggar) seth (saith) kee kahee gaee baat ke baare mein sochane laga. seth (saith) ke dvaara kahee gayeen baat us bhikhaaree (baiggar) ke dil mein utar gaee.

vah sochane laga ki shaayad mujhe bheekh mein adhik paisa iseelie nahin milata kyoki main usake badale mein kisee ko kuchh de nahin paata hoon. lekin main to bhikhaaree (baiggar) hoon, kisee ko kuchh dene laayak bhee nahin hoon. lekin kab tak main logon ko bina kuchh die keval maangata hee rahoonga. bahut sochane ke baad bhikhaaree (baiggar) ne nirnay kiya ki jo bhee vyakti use bheekh dega to usake badale me vah bhee us vyakti ko kuchh jaroor dega.

lekin ab usake dimaag mein yah prashn chal raha tha ki vah khud bhikhaaree (baiggar) hai to bheekh ke badale mein vah doosaron ko kya de sakata hai ? is baat ko sochate hue dinabhar gujara lekin use apane prashn ka koee uttar nahin mila. dusare din jab vah steshan ke paas baitha hua tha tabhee usakee najar kuchh phoolon par padee jo steshan ke aas-paas ke paudhon par khil rahe the, usane socha, kyon na main logon ko bheekh (baigging) ke badale kuchh phool de diya karoon. usako apana yah vichaar achchha laga aur usane vahaan se kuchh phool tod lie.

vah tren mein bheekh maangane pahuncha. jab bhee koee use bheekh deta to usake badale mein vah bheekh dene vaale ko kuchh phool de deta. un phoolon ko log khush hokar apane paas rakh lete the. ab bhikhaaree (baiggar) roj phool todata aur bheekh ke badale mein un phoolon ko logon mein baant deta tha. kuchh hee dinon mein usane mahasoos kiya ki ab use bahut adhik log bheekh dene lage hain.

vah steshan ke paas ke sabhee phoolon ko tod laata tha. jab tak usake paas phool rahate the tab tak use bahut se log bheekh dete the. lekin jab phool baantate baantate khatm ho jaate to use bheekh bhee nahin milatee thee,ab roj aisa hee chalata raha . ek din jab vah bheekh maang raha tha to usane dekha ki vahee seth (saith) tren mein baithe hai jisakee vajah se use bheekh ke badale phool dene kee prerana milee thee.

vah turant us vyakti ke paas pahunch gaya aur bheekh maangate hue bola,”aaj mere paas aapako dene ke lie kuchh phool hain, aap mujhe bheekh deejiye badale mein main aapako kuchh phool doonga.” seth (saith) ne use bheekh ke roop mein kuchh paise de die aur bhikhaaree (baiggar) ne kuchh phool use de die. us seth (saith) ko yah baat bahut pasand aayee. seth (saith):- “vaah kya baat hai..?

aaj tum bhee meree tarah ek vyaapaaree ban gae ho” itana kahakar phool lekar vah seth (saith) steshan par utar gaya. lekin us seth (saith) dvaara kahee gaee baat ek baar phir se us bhikhaaree (baiggar) ke dil mein utar gaee.

vah baar-baar us seth (saith) ke dvaara kahee gaee baat ke baare mein sochane laga aur bahut khush hone laga. usakee aankhe ab chamakane lageen, use lagane laga ki ab usake haath saphalata kee vah chaabee lag gaee hai jisake dvaara vah apane jeevan ko badal sakata hai. vah turant tren se neeche utara aur utsaahit hokar bahut tej aavaaj mein oopar aasamaan kee or dekhakar bola,

“main bhikhaaree (baiggar) nahin hoon, main to ek vyaapaaree hoon.. main bhee us seth (saith) jaisa ban sakata hoon.. main bhee ameer ban sakata hoon ! logon ne use dekha to socha ki shaayad yah bhikhaaree (baiggar) paagal ho gaya hai, agale din se vah bhikhaaree (baiggar) us steshan par phir kabhee nahin dikha.

ek varsh baad isee steshan par do vyakti soot boot pahane hue yaatra kar rahe the. donon ne ek doosare ko dekha to uname se ek ne doosare ko haath jodakar pranaam kiya aur kaha, “kya aapane mujhe pahachaana ?” seth (saith):- “nahin to ! shaayad ham log pahalee baar mil rahe hain.” bhikhaaree (baiggar):- “seth (saith) jee.. aap yaad keejie, ham pahalee baar nahin balki teesaree baar mil rahe hain”. seth (saith):- “mujhe yaad nahin aa raha, vaise ham pahale do baar kab mile the ?”

ab pahala vyakti muskuraaya aur bola: ham pahale bhee do baar isee tren mein mile the main vahee bhikhaaree (baiggar) hoon jisako aapane pahalee mulaakaat mein bataaya ki mujhe jeevan mein kya karana chaahie aur doosaree mulaakaat mein bataaya ki main vaastav mein kaun hoon. nateeja yah nikala ki aaj main phoolon ka ek bahut bada vyaapaaree hoon aur isee vyaapaar ke kaam se doosare shahar ja raha hoon.

aapane mujhe pahalee mulaakaat mein prakrti ka niyam bataaya tha… jisake anusaar hamen tabhee kuchh milata hai, jab ham kuchh dete hain. len den ka yah niyam vaastav mein kaam karata hai, mainne yah bahut achchhee tarah mahasoos kiya hai, lekin main khud ko hamesha bhikhaaree (baiggar) hee samajhata raha, isase oopar uthakar mainne kabhee socha hee nahin tha aur.. jab aapase meree doosaree mulaakaat huee tab aapane mujhe bataaya ki main ek vyaapaaree ban chuka hoon.

ab main samajh chuka tha ki main vaastav mein ek bhikhaaree (baiggar) nahin balki vyaapaaree ban chuka hoon. bhaarateey maneeshiyon ne sambhavatah iseelie svayan ko jaanane par sabase adhik jor diya aur phir kaha samajh kee hee to baat hai… bhikhaaree (baiggar) ne svayan ko jab tak bhikhaaree (baiggar) samajha, vah bhikhaaree (baiggar) raha. usane svayan ko vyaapaaree maan liya, vyaapaaree ban gaya. isee prakaar jis din ham samajh lenge ki main to vahee hoon


यह कहानिया भी पढ़े –

4 thoughts on “आत्मज्ञान – enlightenment”

Comments are closed.

error: Content is protected !!